Possibilityplus

संभावनाओं का सागर

30 Jun 2019

किस तारीख को कौन-सा दिन होगा, जाने बिना कलेंडर देखें। by Possibilityplus.in


           क्या आप जानते हो कि बिना कलेंडर देखे हम किसी भी तारीख को कौन-सा दिन होगा यह पता कर सकते हैं वो भी सेकेंडो या मिनटों में । पर हम उस विधि से पता तो करते हैं कि उसमें इतना वक्त या समय लगता है कि इससे हमें फायदा तो कुछ नहीं होगा मगर नुकसान जरुर होगा। 


    
    जैसे मान लिजिए अगर जब हमारे पास मोबाईल न हो और उसी समय हमसे यह कोई पुछता है कि जरा अगले महीने में 10 तारीख को कौन-सा दिन है बताना।  या ऐसा ही प्रश्न हमें किसी इंट्रेंस इग्जाम में मिल जाये तो हम क्या करेंगे।



 अगर साधारण विधि से अपनी उंँगली पर दिन की गणना करें तो हमें 10 - 15 मिनट तो लगेगा। जरा सोचों अगर यह उत्तर एक मिनट के अंदर ही सेकेंडो में ही आपको मिल तो कितना समय की बचत होगी।
   ऐसी ही एक विधि इस पोस्ट में है चलिए पढ़ते हैं। 






  किसी भी तारीख को दिन पता करना

     
       दिन पता करने के लिए हमें लीप वर्ष की जानकारी होनी चाहिए।

लीप वर्ष : जो वर्ष 366 दिनों का होता है उसे लीप वर्ष या अधिवर्ष कहते हैं।





लीप वर्ष कब और क्यों होता है ? 

       लीप वर्ष हर चार वर्षों में आता है। दरअसल वर्ष में कुल 365 दिन और लगभग 6 घंटे होते हैं। चूँकि एक दिन में 24 घंटे होते हैं। इसलिए यही 6 घंटे चार वर्षों में 24 घंटे या एक दिन के बराबर हो जाता है। गणना में कोई समस्या न आए इसलिए इसे लीप ( अधिवर्ष के रुप में हर चार वर्षों में इसे जोड़ दिया गया और इसे इस नियम में बाँधा   गया कि जिस भी वर्ष में अगर 4 से भाग करते हैं और भाग पुरी तरह से बिना दशमलव के चली गई तो वह वर्ष लीप वर्ष होगा और यदि दशमलव में भाग गई तो वह साधाारण वर्ष ( 365 दिनों ) का होगा। 




किसी भी तारीख को दिन पता करने के लिए निम्नलिखित चरणों की प्रकिया है :-
  1. सबसे पहले दिनों की संख्या ज्ञात करिए। 
  2. अब इसमें ( दिनों की संख्या में ) 7 से भाग करिए।
  3. अब शेषफल के आधार पर दिन पता करिए। इसके लिए निचे दिए गए निर्देशों को देखें।


 7 से भाग देने पर जो शेेषफल(0, 1, 2, 3, 4, 5, 6) मिलेगा उससे अधिक से अधिक मात्र 5 सेकेंड में ही दिन पता हो जायेगा। यह शेषफल 0 से 7 तक ही सीमित है। इसके नियम एक बार पढ़ने से ही समझ में आ जाता है।





   नियम -

  1. शेषफल 0 आया है तो वही दिन होगा जिस दिन से हमने गणना शुरू की थी। जैसे - मान लो किसी महिने की 1 तारीख को सोमवार दिन है और हमें इसी महीने की 8 तारीख को दिन पता करना है । सबसे पहले हम 1 से 8 तारीख के बीच दिनों की संख्या ज्ञात करेंगे। तो 1 से 8 तक 7 दिन हो रहे हैं। इसमें 7 से भाग करेंगे तो शेषफल 0 ही आयेगा। अतः स्पष्ट है कि 8 तारीख को भी सोमवार ही आयेगा।
  2. इसी प्रकार अगर शेषफल 1 आये तो गणना करने वाले दिन से या तो एक दिन आगे या एक दिन पीछे वाला दिन होगा। जैसे सोमवार के एक दिन बाद मंगलवार आता है और सोमवार से एक दिन पहले रविवार होता है। 
  3. इसी प्रकार शेषफल 2, 3, 4, 5, और 6 पर भी होता है।


कलेंडर में दो कालों की गणना की जाती है -

  1. आनेवाले दिनों या काल / समय की 
  2. बिते हुए दिनों या काल / समय की 








1.आने वाले दिनों की गणना 

  उदाहरण :  1 जनवरी 2019 को मंगलवार था तो 31 दिसम्बर 2019 को कौन-सा दिन होगा ? 

  हल : सबसे पहले हमें यह देखना है कि यह लीप वर्ष है या नहीं। लीप वर्ष 366 दिनों का होता है क्योंकि फरवरी में 29 दिन होते हैं। 2019 में 4 से भाग करने से यह दशमलव में कट रहा है। इसलिए यह लीप वर्ष नहीं है। अतः यह वर्ष 365 दिनों का है। 1 जनवरी से 31 दिसम्बर तक 364 दिन हो रहें हैं। 364 में 7 से भाग करने पर शेषफल = 0 आ रहा है। अतः 31 दिसम्बर 2019 को मंगलवार होगा।

     अगर यही प्रश्न यह होता कि 1 जनवरी 2020 को कौन-सा दिन होगा तब दिनों की कुुल संख्या 365 होती। तब 7 से भाग करने पर 1 शेषफल होता। तब हम मंगलवार से एक दिन आगे बढ़ेंगे तो बुधवार का दिन मिलेेगा। इसी प्रकार से 2 जनवरी 2020 को गुरुवार होगा क्योंकि शेषफल 2 आयेगा और मंगलवार से दो दिनों बाद गुरुवार ही होता है। इसी तरह से आने वाले दिनों की गणना में हम दिन पता करेंगे।




2.बिते हुए दिनों की गणना 

  उदाहरण : 31 दिसम्बर 2019 को मंगलवार है तो ज्ञात / पता करिए कि 1 जनवरी 2019 को कौन-सा दिन था ?

 हल : यह उदाहरण पहले का ऊल्टा है क्योंकि  हम बिते हुुए दिनों की  गणना करने जा रहे हैं।
     31 दिसम्बर 2019 और 1 जनवरी 2019 के बीच दिनों की संख्या = 364 दिन
इसमें 7 से भाग करने पर,
शेषफल = 0
चूँकि हम बिते हुए दिन की गणना कर रहे हैं यानी पीछे जा रहे हैं। इसका मतलब यह है कि जिस दिन से हम गणना कर रहे हैं उस दिन से हमें शेषफल के अनुसार पीछे जाना पडे़गा। चुँकि यहां पर शेषफल 0 है तो हमें मंगलवार से 0 दिन पिछे जाने पर मंगलवार ही मिलेगा। अगर शेषफल 1 होता या सवाल यह होता कि 31 दिसम्बर 2019 को मंगलवार है या था तो 31 दिसम्बर 2018 को कौन - सा दिन था ?
तब 31 दिसम्बर 2018 से 31 दिसम्बर 2019 के बीच दिनों की संख्या = 365
तब 7 से भाग करने पर शेषफल = 1
चुँकि 31 दिसम्बर 2019 को मंगलवार है। इसलिए मंगलवार से एक दिन पिछे / पूर्व / पहले सोमवार होता है। अतः 31 दिसम्बर 2018 को सोमवार था।

    इसी तरह सभी प्रश्नों में हल करके देखिए।






दिनों की गणना से संबंधित महत्वपूर्ण बातें

  • हमें सबसे पहले छोटे प्रश्नों को हल करना चाहिए वो भी किसी कलेंडर की सहायता से। 
  • किसी भी साधारण वर्ष से ठीक एक वर्ष आगे या पिछे जाने पर केवल एक दिन आगे या पिछे वाला ही दिन होता है। जैसे : 1 जनवरी 2019 को मंगलवार था तो 1 जनवरी 2020 को बुधवार होगा।
  • लीप वर्ष का ध्यान रखना चाहिए। 2020 एक लीप वर्ष होगा। तो इसके चार साल बाद यानी 2024 भी लीप वर्ष होगा। 
  • लिप वर्ष में 366 दिन होते हैं। इसे अधिवर्ष भी कहते हैं।
  • किसी भी वर्ष में 4 से भाग करने पर जो भाग बिना दशमलव के चली जाय वह लिप वर्ष होगा।



   आप अपने विचार हमें जरूर बताएँ कि यह पोस्ट आपको कैसी लगी। आप हमें dkc4455@gmail.com ईमेल भी कर सकते हैं। अगर आप हमारी वेबसाइट को Follow करना चाहते हैं तो निचे Follow विकल्प पर क्लिक करें। धन्यवाद.... 


you may like this