सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

महत्तम और लघुत्तम समापवर्त्य














भिन्नों का महत्तम समापवर्तक और लघुत्तम समापवर्त्य















1. दी गई भिन्नों का महत्तम समापवर्तक
lcm-hcf-f-h-10691.png
उदाहरण: 1/2 और 3/4 का महत्तम समापवर्तक
lcm-hcf-f-h-10697.png
2. दी गई भिन्नों का लघुत्तम समापवर्त्य
lcm-hcf-f-h-10704.png
उदाहरण: 1/2 और 3/4 का लघुत्तम समापवर्त्य
lcm-hcf-f-h-10711.png
दो संख्याओं का गुणनफल = (उन संख्याओं का HCF) × (उन संख्याओं का LCM)
















गुणक और गुणजः   यदि एक संख्या ‘x’ दूसरी संख्या ‘y’ को पूर्णतः विभाजित करती है तो हम ‘x’ को ‘y’ का गुणक कहते हैं। इस अवस्था में ‘y’, ‘x’ का गुणज कहलाता है।


गुणनखण्डः   जब कोई संख्या किसी दूसरी संख्या को पूरा-पूरा विभाजित करे और शेष कुछ न बचे तो वह संख्या उस दूसरी संख्या का गुणनखण्ड कहलाती है।

जैसे- संख्या 15, 3 और 5 से पूरी-पूरी विभाजित हो जाती है। अतः 3 और 5, 15 के गुणनखण्ड हैं।























महत्तम समापवर्तक (HCF)


दो या दो से अधिक संख्या का महत्तम समापवर्तक वह बड़ी से बड़ी संख्या होती है, जो प्रत्येक दी गई संख्याओं को पूरा-पूरा विभाजित कर सके। चलिए जानते हैं विस्तार से। 
महत्तम समापवर्तक हम निम्नलिखित दो विधियों द्वारा ज्ञात कर सकते हैं:






























1. अभाज्य गुणनखण्ड विधि
























उदाहरण: 144, 180 और 108 का महत्तम समापवर्तक इस विधि द्वारा निम्न प्रकार ज्ञात कर सकते हैं –
  • 144 = × 2 × × 3 × 2 ×2
  • 108 = × 2 × × 3 × 3
  • 180 = × 2 × × 3 × 5
उपरोक्त तीनों संख्याओं के अभाज्य गुणनखण्डों में उभयनिष्ठ 
गुणनखण्ड यानी जो तीनों में शामिल है । चूँकि 144,  108, 180 के गुणनखण्ड में × 2 × × 3  उभयनिष्ठ( समान या common)  है।   2 × 2 × 3 × 3 = 36 
∴ 144, 180 और 108 का अभीष्ट महत्तम समापवर्तक 36 होगा। इसी प्रकार हम सभी संख्याओं का म.स.( महत्तम समापवर्तक) निकाल सकते हैं।
















2. भाग विधि












  
यह विधि निम्नलिखित शर्तों पर आधारित है -

  • इस विधि में हम उस संख्या से भाग करते हैं जो छोटी हो। 
  • भाग करने पर जो शेषफल आता है उस संख्या से उस संख्या में भाग करते हैं जिससे कि ये शेषफल प्राप्त हुआ था। 
  • अब जो संख्याएँ बचीं है उनमें से छोटी संख्या लेकर बडी़ संख्या में भाग करीए बिल्कुल पहले की भाँति। 
  • अब अन्त में ये देखिए कि कौन सी वह संख्या है जो सबको पूरी तरह से विभाजित कर रही है। 
  • यही संख्या महत्तम समापवर्तक है। 
चलिए उदाहरण देखते हैं ः-


उदाहरण: उपरोक्त संख्याओं का महत्तम समापवर्तक भाग विधि द्वारा निम्न प्रकार ज्ञात कर सकते हैं –

                               lcm-hcf-f-h-10673.png

अब 36 और 108 का महत्तम समापवर्तक ज्ञात करना है।
   
                                lcm-hcf-f-h-10679.png

अतः 144,180 और 108 का महत्तम समापवर्तक 36 होगा।


नोट :-     संख्याओं 144,180 और 108 में 108 और 144 दोनों 180 से छोटी हैं अतः हम 144 के स्थान पर 108 से भी भाग कर सकते हैं।


              बहुपदों का महत्तम समापवर्तक 

( Highest Common Factor of Polynomials  ) 



उदाहरण   1.  x2 - 4      तथा      x - 2  का महत्तम समापवर्तक ज्ञात किजिए : 


हल :
   x2 - 4     और   x - 2 का गुणनखण्ड करने पर,

x2 - 4 = ( x - 2  ) (   x + 2  )   तथा 
  x - 2 = ( x - 2  ) × 1

दोनों में  ( x - 2  ) कामन है अथवा  ( x - 2  ) दोनोंगुणनखण्ड  को पूरा - पूरा विभाजित करने वाली एकमात्र गुणनखण्ड है। जो दोनों में मिल रहा है । अतः x2 - 4     और   x - 2 का महत्तम समापवर्तक   x - 2 है।



उदाहरण   2.   x3 - 8    तथा    x2 - 10x + 16 का महत्तम समापवर्तक ज्ञात किजिए  । 

हल : दोनों व्यजंको  x3 - 8   और   x2 - 10x + 16 का 
 गुणनखण्ड करने पर, 
                               x3 - 8 = ( x - 2 ) ( x2 + 2x + 4 ) 
तथा            x2 - 10x + 16 =   x2 - 2x  -  8x + 16 
                  x2 - 10x + 16 =   x ( x - 2 ) - 8 ( x - 2 ) 
                  x2 - 10x + 16 =   ( x - 2 )  ( x - 8 ) 


दोनों व्यजंको में मिलने वाला  ( x - 2 )  गुणनखण्ड है।
अतः इनका महत्तम समापवर्तक ( x - 2 ) है।





                *  📓भिन्न की जानकारी
                * ⚡ mind-update करना।


         























लघुत्तम समापवर्त्य (LCM)


दो या दो से अधिक दी गई संख्याओं का लघुत्तम समापवर्त्य वह छोटी से छोटी संख्या होती है जो प्रत्येक दी गई संख्या से पूरी-पूरी विभाजित हो सके।
लघुत्तम समापवर्त्य हम निम्नलिखित दो विधियों द्वारा ज्ञात कर सकते हैं:











1. अभाज्य गुणनखण्ड विधि














उदाहरण: 12, 16 तथा 30 का लघुत्तम समापवर्त्य इस विधि द्वारा निम्न प्रकार ज्ञात कर सकते हैं-
  • 12 = 2 × 2 × 3
  • 16 = 2 × 2 × 2 × 2
  • 30 = 2 × 3 × 5
अब तीनों संख्याओं के अभाज्य गुणनखंडों में 2 सबसे अधिक 4 बार तथा 3 एक बार और 5 एक बार आया है।
इस प्रकार दी गई संख्याओं का अभीष्ट लघुत्तम समापवर्त्य
= 2 × 2 × 2 × 2 × 3 × 5 = 240 होगा।

परीक्षणः  अब हमका परीक्षण करेंगे कि क्या ये 240 संख्याओं 12,  16,  30 से पूरी तरह विभाजित होती है। 

240 ÷ 12 = 20
240 ÷ 16 = 15
240 ÷ 30 = 4

चूँकि पूरी तरह विभाजित हो रहीं हैं अतः ये उत्तर सही(✅) है।
















2. भाग विधि













उदाहरण: उपरोक्त संख्याओं का लघुत्तम समापवर्त्य भाग विधि द्वारा इस प्रकार ज्ञात करेंगे:

  • सबसे पहले सभी संख्याओं को a, b, c, d क्रम में रख लेंते हैं। 
  • अब इनमें उस छोटी संख्या से भाग करते हैं जिससे कि भाग पूरी तरह से चली जाये। 
  • भाग जितनी बार जाती है उस अंक को उस संख्या के निचे लिखें। 
  • छोटी संख्या से तब तक करें जब तक कि इन संख्याओं का भागफल, 1 न हो जाए। 
  • अब जिन -  जिन संख्याओं से भाग किया गया है उन सभी का आपस में गुणा कर दीजिए। यही है ल.स.(लघुत्तम समापवर्त्य)
चलिए उदाहरण पर नज़र डालते हैं -

lcm-hcf-f-h-10685.png

∴ दी गई संख्याओं का अभीष्ट लघुत्तम समापवर्त्य
= 2 × 2 × 3 × 1 × 4 × 5 = 240 होगा।













भिन्नों का महत्तम समापवर्तक और लघुत्तम समापवर्त्य के सूत्र : 














1. दी गई भिन्नों का महत्तम समापवर्तक
lcm-hcf-f-h-10691.png
उदाहरण: 1/2 और 3/4 का महत्तम समापवर्तक
lcm-hcf-f-h-10697.png
2. दी गई भिन्नों का लघुत्तम समापवर्त्य
lcm-hcf-f-h-10704.png
उदाहरण: 1/2 और 3/4 का लघुत्तम समापवर्त्य
lcm-hcf-f-h-10711.png
दो संख्याओं का गुणनफल = (उन संख्याओं का HCF) × (उन संख्याओं का LCM)



भिन्न जैसी आवश्यक जानकारी हमे होनी चाहिए। इसलिए आपको भिन्न के महत्तम समापवर्तक और लघुत्तम समीपवर्तक  के लिए सूत्र दी जा रही है ताकि आप ऊपर बताए गए उदाहरणों की सहायता से आप हल कर सको।  आपका कीमती समय बचे इसलिए हम अब यहीं विराम देते हैं । 



अगर आपको कोई समस्या होती है इसको हल करने में तो आपकी मदत करने की पूरी कोशिश की जायेगी । जो भी सवाल हो हमें कमेन्ट करके जरूर पूँछ हमें आपकी सहायता करने में बहुत प्रशन्नता होगी। 

Thanks for Reading............. 




टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

भिन्न (Fraction ) 


ऊपर चित्र में एक वृत्त को चार बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है 3 / 4 भाग जिसे शाब्दिक या बोलन वाली भाषा में तीन चौथाई  भाग कहेगें । इसी प्रकार 1 / 3 को एक तिहाई कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग  करने के तरीका के बारे में । 




  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग करने  का तरिका. 

भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें ।

भिन्न क्या है ? What is the Fraction ? 




 भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है -
अंश हर
 जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है।

आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में उनको कोई सटीक ( ठीक - …

मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus