सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Internet kyu nahi chal raha hai ?

       

  इंटरनेट क्यों नहीं चल रहा है ?


  इस आर्टिकल में इन सभी सवालों के जवाब मिलेंगे जो निम्नलिखित हैं - 
  • यूटूब या नेट की कोई विडियो नेट पैक होने के बाद भी क्यों नहीं चल रही है ? 
  • इंटरनेट या नेट की स्पीड कम क्यों है ? 
  • इंटरनेट चलाने के लिए सीम को किस स्लाट में इस्तेमाल करना चाहिए। 


इसके अलावा भी बहुत कुछ है जिसे जानने के लिए इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़िएगा क्योंकि अंत में वह तरिका है जिसे अपनाकर बहुत हदतक मोबाईल का इस्तेमाल आसान हो जाएगा। 

आज इस युग में लगभग 90 प्रतिशत लोग मोबाइल फोनस् का इस्तेमाल कर रहे हैं और इसमें से करीब - करीब 70 प्रतिशत लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं।



 एक सर्वे के अनुसार भारत में विश्व का सबसे ज्यादा इंटरनेट का उपयोग किया जा रहा है। इसलिए अब भारत इंटरनेट उपयोग करने वाला न० 1 देश हो गया है और इसी के साथ भारत में मोबाइल उपभोक्ताओं की संख्या भी दुनिया में सबसे ज्यादा है।

यहाँ पर एक सवाल उठकर सामने आता है कि मोबाइल फोनस् का इस्तेमाल इतना ज्यादा कैसे होने लगा ?
मोबाइल फोनस् का इस्तेमाल इंटरनेट के कारण से बढा़ है। अगर ऐसे में आपके मोबाइल का इंटरनेट अच्छी तरह से काम ना करे तो मोबाइल का क्या मतलब रह जाता है क्योंकि आजकल मोबाइल में ज्यादातर फिचर इंटरनेट की मदत से ही चलते हैं।  जैसे - youtube , facebook, twitter, Google, mobile TV, enews paper, या कोई ऐसी जानकारी जो आप जानना चाहते हैं वो सब आपको इंटरनेट पर आसानी से मिल जाती है।

अब सवाल यह है कि आखिरकार इंटरनेट चलता क्यों नहीं है तो इसके ना चलने या धीमी गति से का बहुत सारे कारण हो सकते हैं जो इस प्रकार हैं -

  • नेटवर्क का ना होना या जल्दी - जल्दी नेटवर्क का बदलना  ।
  • सीम का गलत स्लाट में लगाकर उपयोग करना।
  • मोबाइल फोनस् की रैम ( RAM  ) का कम होना ।
  • नेटवर्क का automatic mood पे होना। 
  • मोबाइल में एकसाथ कई विडों चलाना ।
  • इंटरनेट डाटा पैक का समाप्त होना   ।
  • मोबाइल फोनस् में बहुत ज्यादा app का होना।
  • app का पुराना version का उपयोग करना  ।


इंटरनेट का ना चलना या बहुत धीमी गति से चलना इन्हीं कारणों मे से कोई हो सकता है।
अब चलिए इसके उपायों को अपनाकर इंटरनेट का लुत्फ उठाया जाये ।  निम्नलिखित उपाय हैं -

  1. सबसे पहले अपने मोबाइल फोनस् में यह सुनिश्चित करेक कि मोबाइल में नेटवर्क है कि नहीं क्योंकि जबतक मोबाइल नेटवर्क नहीं होगा तबतक ना तो हम कोई calls कर पायेंगे और नाहीं इंटरनेट चला सकते हैं। अगर मोबाइल में नेटवर्क मौजूद है तो अब हमें दुसरी बातो को चेक करना चाहिए। 
  2. सीम का गलत स्लाट में लगाने का मतलब यह है कि इंटरनेट की स्पीड का कम होना  । जिस सीम से हम इंटरनेट चलाते हैं उसे हमें स्लाट 1 में डालना चाहिए जिसे पहली सीम भी कहा जाता है । जब सीम स्लाट 1 ( एक  ) में होती है तो उसकी स्पीड बहुत बढ़ जाती है । अगर पहले से ही इसमें है तो ठीक है इसे इसी में रहने दें। 
  3. मोबाइल फोनस् की रैम और प्रोसेसर का कम होना भी इंटरनेट की गती को कम कर देता है । अगर आपके मोबाइल की रैम पर्याप्त नहीं है तो रैम का बढा़ये बेकार app और बड़ी फाइलों को हटाकर। ऐसा करने से मोबाइल तेजी से काम करने लगती है। ऐसा करने के बाद भी अगर इंटरनेट नहीं चलता है तो मुमकिन है कि यह वह कारण नहीं है जिससे इंटरनेट नहीं या बहुत धीमा चल रहा है । तब हमें दुसरा अन्य कारण ढूँढना चाहिए। 
  4. नेटवर्क का autoautom mood पे होना भी इंटरनेट की गती को बहुत प्रभावित करता है क्योंकि इस मूड पर हमेशा नेटवर्क बदलता रहता है जिसके कारण नेटवर्क कभी छोड़ता है तो कभी पकड़ता है परिणामस्वरूप नेट की स्पीड या गति ज्यादा नहीं हो पाती है। अगर ऐसा है तो सबसे पहले इसे किसी ऐसे मुड पर करें जिसपे  भरपूर नेटवर्क मिलता रहे। जैसे - 4G, 4G lte, 3G, 3G lte.
  5. मोबाइल फोन का स्लो होने का एक बड़ा कारण यह भी है कि बहुत से लोग एक साथ कई app चलाने लगते हैं। जैसे मान लिजिए सबसे पहले हमने facebook खोला, इसका उपयोग करते समय हमने youtube पर कोई विडियो देखने लगे या ट्विटर पर ट्वीट करने मे व्यस्त हो गये और ऐसे में किसी दोस्त का watsup message आ गया तभी हम इसे भी इसी तरह छोड़कर watsup message में व्यस्त हो गये तो इस तरह अब मोबाइल को तीन - तीन लोड एकसाथ लेना पड़ रहा है तो ऐसे  में हमारा मोबाइल स्लो ही नहीं बल्कि हैंग भी करने लगता है । ऐसे में क्या करें कि, ना तो मोबाइल हैंग करे और ना ही इंटरनेट स्पीड कम हो। हमें उन विंडों को बैक करते हुए  बंद कर देना चाहिए ना कि डायरेक्ट बीच वाली की ( होम की उपयोग करने से कोई भी विंडों बंद नहीं होती है। बल्कि बैकग्राउंड में चलती रहती हैं ) ऐसा करने से नेट की स्पीड बहुत बढ़ जाती है। चिन्ह ≡  पर क्लिक करने के बाद चित्र में 👈 उँगली के द्वारा दर्शाये गये क्रास × चिन्ह पर क्लिक करें। 
  6. इंटरनेट अगर एकदम ना चले तो ऐसे में हमें अपने डाटा पैक को भी चैक कर लेना चाहिए  ।
  7. मोबाइल फोनस् में बहुत ज्यादा app का होना भी एक कारण हो सकता है ऐसे में बेकार या कम उपयोगी app को delete कर देना चाहिए जिससे रैम और नेट स्पीड दोनों बड़ेगी। 
  8. नेट ( इंटरनेट  ) की स्पीड में कमी का जिम्मेदार हमारे app के  वर्जन का पुराना होना भी होता है इसलिए हमेशा अपने app को up to date करते रहिए और मजा लिजिए नेट की स्पीड का क्योंकि हम उपयोग कर रहे हैं 4G lte network जो हमें देता है सुपर स्पीड। 


अगर इन सब बातों से भी बात नही बनती है तो कोई बात नहीं अभी एक बात बाकी है जो 100% तक काम करेगी। इसमें हमें कोई ताम - झाम नहीं करना है बस हमें अपने मोबाइल को " Restart  " करना है और इसके बाद जो चाहे वो चलाकर देख सकते हैं नेट की स्पीड भरपूर मिलेगी। 

 
    यह लास्ट वाली ट्रीक बहुत काम की है इसका उपयोग दस से पन्द्रह दिनों के अंदर में हो सके तो जरूर करें। हमे अपनी राय जैसे ट्रीक काम कर रही है कि नहीं, या आर्टिकल के बारे में सवाल कर सकते हैं।  इसी के साथ हम यहीं पर विराम ले रहे हैं । धन्यवाद  !

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

भिन्न (Fraction ) 


ऊपर चित्र में एक वृत्त को चार बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है 3 / 4 भाग जिसे शाब्दिक या बोलन वाली भाषा में तीन चौथाई  भाग कहेगें । इसी प्रकार 1 / 3 को एक तिहाई कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग  करने के तरीका के बारे में । 




  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग करने  का तरिका. 

भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें ।

भिन्न क्या है ? What is the Fraction ? 




 भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है -
अंश हर
 जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है।

आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में उनको कोई सटीक ( ठीक - …

मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus