सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आविष्कार और खोज में अन्तर | Difference in inventions and discovery.


आविष्कार और खोज दोनों ही अलग - अलग बाते हैं। इसलिए इनका अर्थ भी अलग - अलग ही होगा यह स्पष्ट है  । इस पोस्ट को बनाने की वजह यह है कि जब मैंने इन दोनों का ऐसा उपयोग देखा तो मैं दंग रह गया ।


दरअसल मैं एक बार शून्य ( Zero )   की खोज के बारे में पढ़ रहा था तो मैंने वहाँ पर यह पाया कि कई वेबसाइटों में खोज ( Discovery )  और आविष्कार ( Invention )  दोनों का ही उपयोग किया गया था जो कि गलत है । जबकि  इसका  सही उपयोग  खोज ( Discovery )   है  । क्योंकि शून्य आविष्कार  करने वाली कोई वस्तु नहीं है बल्कि यह एक संख्या है । चलिए इसको समझते हैं उदाहरण सहित।
    इन दोनों के बीच क्या अन्तर है यह जानने से पहले हमें इनके बारे में जानना सही और सार्थक होगा।








आविष्कार ( Invention )

आविष्कार क्या है  ?

What is the invention?


 परिभाषा ( Definition ) :  जब किसी ऐसी वस्तु, डिजाइन आदि जो बहुत खास हो का निर्माण मनुष्य द्वारा किसी खास उपयोग के लिए बनाई गई हो और जो पहले कभी नहीं बनाई गई हो तो वह वस्तु आविष्कार ( Invention )  और उसको बनाने वाले को आविष्कारक (  Inventor )  कहते हैं  । 


उदाहरण : थामस एल्वा एडीसन ने बल्ब को सबसे पहले बनाया । यहाँ पर बल्ब पहली बार बनाया गया यानी कि इससे पहले बल्ब नहीं बनाया गया  था तो  हम यह कहेगें कि एडिसन ने बल्ब का आविष्कार किया। क्योंकि एडिसन ने बल्ब का  आविष्कार किया इसलिए एडिसन को बल्ब आविष्कारक का कहेगें।
आविष्कारक का मतलब यह है कि जिसने आविष्कार किया हो  । इसी प्रकार अगर किसी ने कोई ऐसी वस्तु का निर्माण किया हो जो पहले कभी नहीं बनी हो तो वह वस्तु आविष्कार कहलायेगी और जिसने उस वस्तु को बनाया है उसे आविष्कारक कहेगें। जैसे जेम्सवाट ने भाँप का ईन्जन  बनाया जो उनसे पहले कोई नहीं बनाया था तो यहाँ पर हम कहेंगे कि भाँप का ईन्जन  एक आविष्कार  है और इसके आविष्कारक "जेम्सवाट"  हैं।
कुल मिलाकर कहें कि जो भी वस्तु इंसान ने पहली बार बनाई थीं वह सभी आविष्कार  की श्रेणी आती हैं।
निचे कुछ आविष्कृत चिजो के नाम दिये गये हैं।

अन्य उदाहरण :

  • जहाज 
  • मोबाइल
  • गाड़ी 
  • कलम 
  • कम्प्यूटर 
  • घड़ी 
  • बल्ब 
  • लाईट 
  • कुर्सी 
  • भाँप का ईंजन 
  • टी. वी. 
  • रिमोट 
  • माइक्रोस्कोप 
  • माईक्रोफोन, इत्यादि। 








खोज ( Discovery )

परिभाषा ( Difination)

 जब किसी ऐसी वस्तु आदि को खोजा जाता है जो पहले से ही मौजूद / अस्तित्व में हो और जिसे प्रकृति ने बनाया हो तो वह सभी खोज की श्रेणी में आती हैं यानी खोज ( Discovery )  कहते हैं।  और जो व्यक्ति / परसन उसे खोजता है उसे खोजकर्ता ( Discoverer )  कहते हैं।


उदाहरण ( Example ) : जैसे महान वैज्ञानिक न्यूटन ने यह बताया कि पृथ्वी  हर वस्तु पर एक बल्कि लगाकर अपनी तरफ आकर्षित ( खींचती )  है और इसी के साथ  गुरूत्वाकर्षण  नियम की स्थापना की। तो न्यूटन गुरूत्वाकर्षण नियम खोज ( Discovery )  की नाकि आविष्कार (  Invention )  किया। खोज का नाम इसलिए आ रहा है, क्योंकि न्यूटन ने हमें / दुनियाँ को यह जानकारी दी कि पृथ्वी का ऐसा गुण है और यह गुण एक नियम के अनुसार कार्य करता है  ।  वह हर वस्तु को अपनी तरफ एक बल लगाकर खींचती है। ऐसा थोड़ी है कि न्यूटन ने जब बताया तब से पृथ्वी हर वस्तु को अपनी तरफ आकर्षित करने लगी। पृथ्वी का यह गुण पृथ्वी के अस्तित्व में आते ही जन्म ले लिया था  ।







आविष्कार और खोज में अन्तर  ( Difference in inventions and discovery.) 


 इनके कुछ मुख्य अन्तर निम्नलिखित हैं - 


उम्मीद है कि आपके सारे संदेह समाप्त हो गये होंगे । आप हमें अपनी राय और सुझाव निचे दिए गए कमेंट बाॅक्स के जरिए दे सकते हैं। या फि हमें ईमेल dkc4455@gmail.com  पर ईमेल भी भेज सकते हैं ।

Thanks for reading  .....

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…

पृथ्वी गोल क्यों है ?

पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
 पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus