Skip to main content

चित्रों की अहमियत जानकार हैरान.. हो जाओगे / अब बनो वो जो दिल में है, by Possibilityplus






आँखें हमारे दिलोदिमाग का दर्पण (आईना) होती हैं। जब हम कुछ देखते हैं तो उसकी तस्वीर हमारे दिमाग ( मस्तिष्क ) में बनने लगती है और इसके बाद यह तय होता है कि अब दिल पर इसका प्रभाव कैसा होगा ।


जैसी तस्वीर वैसा ही मन या दिल का मिजाज तय होता है। दरअसल आँखें हमारे दिलोदिमाग के लिए इनपुट का काम करती हैं और इसका आउटपुट हमारे दिलोदिमाग में होता है  । इसलिए अगर हम कुछ ऐसी चीजें देखते हैं जो वास्तव में होना लगभग असंभव हो तो भी हमारा दिमाग उसे सही मानता है। 

   उदाहरण :      अगर हम कोई फिल्म ( मूवी ) देखते हैं तो हमें उस फिल्म की कहानी सही लगती है। यही नहीं बल्कि उन सभी के हाव भाव भी हमें बिलकुल सही लगता है। पर हम सब यह जानते हैं कि यह सब बनावटी होता है। 



बनावट की बात हो रही है तो इसके भी कई सवाल उठ सकतें हैं । जैसा कि हम सब जानते हैं कि फिल्में बनावटी होती हैं पर पुरी तरह से बनावटी भी नहीं हो सकता है क्योंकि कुछ सीन्स ऐसे होते हैं जिन्हें करने के लिए अभिनेता / अभिनेत्री को वैसी ही यादें या भाव अपने चेहरे पर लाना पड़ता है। इसके अलावा और भी बहुत कुछ होता है जो बनावटी नहीं हो सकता है। इसके बाद भी जो कहानी होती है वो ज्यादातर काल्पनिक ही होती है । लेकिन बहुत सारी ऐसी भी फिल्में भी हैं जो हकीकत कहानियों पर बनायी गयी या बनायी जाती हैं। 






   भावना   (  Feeling  )              



 ये 😁😀😂😊☺️😌 तस्वीरें देखते ही हमारे मन में हास्य ( हँसी ) का भाव उत्पन्न होने लगता है । ये उपर्युक्त सभी चित्र हम सभी के भाव या भावनाएँ हैं जिन्हें चित्ररूप दिया गया है और इसीलिए हमारा कैसा भी मूड ( मिजाज) हो हमें इन तस्वीरों को देखते ही हँसी का अहसास होने लगता है ।
हम सभी लोग अपने भावों को मुख्यरूप से तीन तरह से व्यक्त करते हैं :

  1. चित्र द्वारा 
  2. अपने चेहरे पर भाव लाकर 
  3. बोलकर 









नोट : इस साइट्स से जुड़ने के लिए इस     साइट्स को follow करिए। धन्यवाद...    




 अब शायद आपको यह लगे कि इसमें  क्या खास बात है, यह तो हमें भी पता है । तो आपको बता दें कि आपको ऐसी जानकारी मिलने जा रही है जो आपको या हम सबको अपने मूड/मिजाज/मन/दिल को जब चाहे तब अपने मुताबिक बनाया जा सकता।  अगर आपको इसका उदाहरण चाहिए तो चलिए देखिए :
हम अगर किसी बीमार व्यक्ति से मिलते हैं तो हमारा मन / मूड उसकी दशा और बातें सुनकर उदासी 😟☹️🙁😞😕 के भाव प्रदर्शित करने लगता  । और दूसरी तरफ अगर वही बीमार व्यक्ति हँसी की मजाक की बातें करता है तो हमारा मूड / मन इस दु:ख ( sad ) वाले मुड को छोड़कर हँसी वाला मुड ही पसन्द करेगा। इसके दो कारण हैं :

1. किसी भी व्यक्ति को दु:खी होना पसंद नहीं है। 
2. हँसी का भाव हमारे चेहरे पर बहुत ही सरलता से बनता है क्योंकि इसको बनने में कम ऊर्जा लगती है, जबकि दु:ख वाला भाव प्रकट करने में ज्यादा ऊर्जा लगती है। 


चलिए अब हम इसकी यानी तस्वीरों की विशेषताएँ या गुणों को जानते हैं जिनकी मदद से हम सभी जो चाहे बन सकते हैं ।
इनकी विशेषताएँ कुछ इस प्रकार है  - - -

  1. हम जो महसूस करते हैं उसे हम आकर्षित करते हैं । 
  2. जब चाहे तब अपना मूड ठीक कर सकते हैं।
  3. अगर आप बुध्दिमान बनना चाहते हैं तो इस कौन्सेप्ट ( विचारधारा ) से आसानी से बन सकते हैं ।
  4. जैसा बनना है वैसी ही तस्वीरें देखिए, बनने में मदद मिलेगी।
  5. अपनी ईच्छाओं को तस्वीररूप में वास्तविक दुनियाँ में किसी पेपर या कागज पर अंकित करिए ।
  6. जो ईच्छा तस्वीर रूप में दिलोदिमाग को सन्तुष्ट करेगी उसी में सफलता आसानी से हासिल होती है।




   उपर्युक्त गुणों का इस्तेमाल हम सभी जाने - अंजाने में कभी ना कभी जरूर करते हैं पर इनके महत्व के बारे में नहीं जानते हैं । जैसे अगर हमारा मूड खराब हो तो हम कोई गेम  ( खेल), विडियो, म्यूज़िक, कोई मजेदार चित्र , मोटिवेशनल बातें या कुछ और करते हैं जिससे कि हमें ऊर्जा मिल सके। 
अब हम ऊपर दिए गए गुणों के संदर्भ को विस्तार से समझेंगे । 





   हम जो महसूस करते हैं उसे आकर्षित   करते हैं  


"हम जो महसूस करते हैं उस वस्तु को और आकर्षित करते हैं।"  यह शब्द भगवान् महात्मा बुद्ध का है जो अपनेआप में किसी उदाहरण का मोहताज नहीं है। पर फिर भी हम तो ठहरे नये जमाने के जागरूक लोग हैं इसलिए बिना समझे या उदाहरण लेकर ही इसे सही मानेंगे।



 व्याख्या      

 जब हम कोई भी बात महसूस करते हैं तो उसकी छवि , चित्र, रूपरेखा, या आकृति हमारे दिमाग में अच्छी तरह से बनना प्रारंभ होता है या पहले से ही बना होता है। फिर इसके बाद इसकी क्रियाविधि शुरू हो जाती है और यह तय होने लगता है कि यह.. . काम कब होगा। यह बात हमारे दिमाग में बने चित्र की गुणवत्ता पर निर्भर करता है । जितना ही स्पष्ट चित्र उतना ही उस कार्य की होने की संभावना बढ़ जाती है  । अगर आप जितनी छोटी बात पर इसे टेस्ट करेगें तो आपको ऊतना ही जल्दी परिणाम मिलेगा और साथ ही साथ बडे़ काम पर इसे प्रयोग करने की प्रेरणा भी मिलेगी।  






  जब चाहो अपना मूड अच्छा करो   


 अपने मूड / मिजाज को लेकर काफी लोग परेशान रहते हैं । हम सबके मूड कभी ना कभी जरूर खराब हुआ होगा तब हमें कुछ करने का मन नहीं करता या नहीं लगता। पर अब हम सब अपने मिजाज को कुछ ही छण में ठीक कर सकते हैं। ऐसे समय में हमें ऐसी बातों को चित्ररूप देना चाहिए जो हमारे खराब मूड को विस्थापित करे या ठीक करदे। इसके लिए हमें वो बातें सोचना चाहिए जो हमारी जिंदगी में बहुत ही मजेदार पल रहा हो  । या आप कोई कॉमेडी विडियो, चित्र 😀😁😂😊😌 देखिए । आपको तुरंत फर्क दिखने लगेगा। 




   बुध्दिमान बनने के लिए      


 बुध्दिमान बनने के लिए आपको / हमें हमारे मन में बुध्दिमान होने की भावना होनी चाहिए और यह भावना कहाँ से आयेगी है ना। बुध्दिमान लोगों की कहानियों को पढ़ें / सुने या जाने। बुध्दिमान लोगों की विडियोज जरूर देखें क्योंकि उनमें उनके हाव - भाव देखने को मिलेंगे जो आपके / हमारे दिमाग को बुध्दिमान बनने में मदद करती है । 





  जैसा बनना है वैसी ही तस्वीरें देखें     



 जैसा बनना है वैसी ही तस्वीरें देखने से कोई वैसा बनता है क्या इसका कोई उदाहरण तो होना ही चाहिए तो पेश है 

उदाहरण : भगवान् बुद्ध ने कहा है कि "  जो आप सोचते हैं वैसा आप बन जाते हो।  " या हम जो भी आज है वो हमारी सोंच का नतिजा है। "

ऊपर दी गई बातें आपके गले नहीं उतरने वाली हैं क्योंकि इसमें यह कहा गया है कि जो भी आप / हम / कोई भी व्यक्ति सोचता है वह बन जाता है । आप कहेंगे कि मै तो सोचता हूँ कि मैं करोड़पति हो जाऊँ तो क्या मैं करोड़पति बन जाऊँगा ? 
हर बात के होने की कोई ना कोई शर्तें होती हैं।  इसकी भी निम्नलिखित शर्तें हैं :

  1. जो भी आप सोच रहे हो उसे पाने की  स्पष्ट या अतिआवश्यक वाली भावना होनी चाहिए  । 
  2. इसके बाद उसे पाने के लिए जितना हो सके प्रयास करना चाहिए। 
  3. जो भी आप सोच रहे हैं वो चीज जितनी छोटी होगी  उतनी ही जल्दी उसके मिलने की या होने की संभावना होगी । 
  4. बड़ी उपलब्धि हासिल करने के लिए लम्बे समय तक अपनी सोंच को बरकरार रखना पडे़गा। 







इन चारों बातों का मतलब साफ है कि अगर हम किसी चीज को पाने के लिए दिलोदिमाग से काम करें तो मिलना तय है ।
अगर एक उदाहरण दूँ कि याद करें वो चीज जिसे आप पाने के लिए आप दिनो रात सोचते थे कि कब मुझे मिल जाये। आप तबतक नहीं रूके, नहीं थके जब तक कि आपने उसे पा ना लिया हो। इसमें कुछ भी हो सकता सकता है जैसे : मोबाईल, टैब्लेट, गाड़ी, घड़ी, नौकरी आदि । 

हमने ऊपर पढा़ है कि भवनाओं को तीन रूपों में व्यस्त किया जा सकता है : 
1. तस्वीर के द्वारा
2. अपने चेहरे पर भावों को बनाकर 
3. बोलकर 


इन बातों से यह स्पष्ट है कि अगर हमें जो बनना है उस भाव वाली तस्वीरें, बातें देखें और सुने तो हमारे लिए वो बनने में मदद मिलेगी।  





आप हमें अपनी राय / प्रक्रिया निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में जरूर दें। अगर आप हमसे जुड़ना चाहते हैं तो निचे दिए गए बाक्स में अपनी Email id डालकर  follow कर दिजिये । इससे हमारा जो भी पोस्ट रिलिज होगा आपको तुरन्त मिल जायेगा। 



Comments

Popular posts from this blog

दिशा कैसे पता करें ?

दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |





   दिशा ( Direction  )    



एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




       घर बनाने में दिशा …

भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

भिन्न (Fraction ) 


ऊपर चित्र में एक वृत्त को चार बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है 3 / 4 भाग जिसे शाब्दिक या बोलन वाली भाषा में तीन चौथाई  भाग कहेगें । इसी प्रकार 1 / 3 को एक तिहाई कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग  करने के तरीका के बारे में । 




  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग करने  का तरिका. 

भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें ।

भिन्न क्या है ? What is the Fraction ? 




 भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है -
अंश हर
 जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है।

आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में उनको कोई सटीक ( ठीक - …

मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…

पृथ्वी गोल क्यों है ?

पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
 पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…

प्रतिशत कैसे निकालते हैं ?

प्रतिशत ( Percent )  प्रतिशत को पूरी तरह समझने के लिए प्रतिशत का मतलब / शाब्दिक या शब्द का अर्थ जानना बहुत जरूरी है । प्रतिशत में कुछ ऐसी बातें जिन्हें हमें जानना जरूरी होता जैसे -   इनमें से कौन - कौन सही हैं  -

  2 / 5 = ( 2 / 5 )  × 100 = 40 %    2 / 5 = ( 2 / 5 ) × 100 % = 40 %  2 / 5 = 40 / 100 = 40 %


    इन तीनों में पहला गलत है और बाकी दोनों सही हैं। क्योंकि पहली वाले हल में हमें यह स्पष्ट दिख रहा है कि अगर हम 100 में भाग करें तो 2 × 20 = 40 तो मिलेगा पर हर के स्थान पर हमें 100 मिल ही नहीं रहा है तो इसे हम प्रतिशत के रूप में कैसे लिख सकते हैं। अतः यह गलत है। रही बात बाकी दो तरिकों की तो इन दोनों में ही हमें हर के स्थान पर 100 मिल रहा है। दूसरे वाले विकल्प में 1 / 100 = % लिखा गया है।





 ( प्रतिशत = प्रति + शत  ) का संधि -  विक्षेद करने पर दो अलग -  अलग शब्द मिलते हैं जिसमें शत का शाब्दिक अर्थ सौ ( 100) होता है या प्रतिशत  गणित में किसी अनुपात या भिन्न  को व्यक्त करने का एक अलग तरीका है। प्रतिशत का अर्थ है प्रति सौ या प्रति सैकड़ा ( % = 1 / 100 ) एक सौ में से एक  ।   यदि 100 …
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑