सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नजर, क्यों और कैसे लगती है ?


इस दुनियाँ में ऐसी अनेकों बातें हैं जो विज्ञान के नजरिए से अभी तक पूरी तरह से नहीं समझाया जा सकता है, जैसे : लक्षमण रेखा, सपनों का रहस्य, मनुष्य के मष्तिष्क की क्षमता आदि। इन्हीं में से एक है नज़र का लगना । इस आर्टिकल में हम इसी विषय पर चर्चा करने जा रहे हैं। 





अगर आप उपर्युक्त विषयों पर जानकारी पाना चाहते हैं तो हमें कमेेन्ट जरुर करें और साथ ही साथ आप इस साइट जुुड़े रहने के लिए इसे निचे दिए गए हैं Follow विकल्प  का चुनाव करें। धन्यवा...द


    नज़र का लगना यह एक ऐसी बात है जिसे कुुछ लोग तो मानते हैं पर कुछ लोगों का यह कहना है कि ऐसा कुछ नहीं होता है, यह सब अन्धविश्वास है। इन दोनों में से किसी भी नतीजे पर पहुंचे इससे पहले हमें विज्ञान की सहायता से इसकी परख कर लेना चाहिए। क्योंकि विज्ञान ही हम सबके लिए एक ऐसा  जरिया है जो सभी बातों को समझने के काम आता है।





नजर क्यों लगती है ? 

नजर क्यों लगती है यह सवाल हममें से बहुतों मन में आता ही है। हम जानते हैं कि हर सवालों के जवाब विज्ञान के दर्पण में देखने पर मिलता है, अगर ना मिले तो भी कुछ हिंट तो जरूर ही मिलता है । दरअसल मानव मस्तिष्क ऐसी अपार क्षमताओं से भरपूर है और यही वजह है कि मनुष्य सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ है। अब बात है कि नजर क्यों लगती है तो यह बात हमारे मन और मिजाज पर निर्भर करता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि अगर कोई बुरे मिजाज वाला व्यक्ति है तो वह हर समय बुरा ही हो। दरअसल जैसा हमारा मुड / होता है वैसी ही भावनाओं की तरंग  हमारे शरीर से निकलती है। जिस समय अच्छी और नि:स्वार्थ भावना होती है उस समय हमारी आंखों में सकारात्मक तरंग निकलती है। जिस व्यक्ति हो कोई भी वस्तु पर पड़ती है उसमें सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होने लगता है। और अगर जिस समय नकारात्मक तथा स्वार्थ की भावना मन में संचालित हो रही हो तो हमारी आंखों से नकारात्मक तरंगें निकलने लगती  है। इस तरह की नजर जिस भी व्यक्ति /   वस्तु पर पड़ती है उस पर नकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगता है। नजर जितनी ज्यादा नाकाराात्मक होती है इसका प्रभााव उतना ही गहरा होता है। 

 


    नज़र कैसे लगती है ?

    नज़र कैसे लगती है इसको समझने के लिए विज्ञान में तमाम ऐसे उदाहरण मौजूद हैं जो काफी हद तक इसकी व्याख्या कर देगा। चलिए देखते हैं इन उदाहरणों को -





  रिमोट

         रिमोट कंट्रोल का काम आंखों या नजर जैसे ही होता है। रिमोट पर अलग - अलग फ्रिक्वेंसी की बटन या स्वीचें होती हैं।



 इछानुसार हम स्वीच का इस्तेमाल करते हैं और स्क्रीन पर उसका परिणाम भी सामने होते हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि यह फ्रिक्वेंसी हमें दिखाई नहीं देती हैं और शायद यही वह मुख्य वजह भी हो सकती है जो बहुत लोगों को नजर लगने वाली बात पर विश्वास नहीं होता है। बिल्कुल इसी तरह से हमारे शरीर में ऐसे सिस्टम हैं जो अनगिनत प्रकार की फ्रिक्वेंसीज आंखों के जरिए से निकाल सकती है।









आगे जारी.... 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…

पृथ्वी गोल क्यों है ?

पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
 पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus