Possibilityplus

संभावनाओं का सागर

19 Jun 2019

दूरी और विस्थापन में अंतर ( Difference between distance and displacement )

       

          दूरी और विस्थापन में अन्तर को जानना विज्ञान में बड़ी भूमिका है। इनमें अंतर करना बहुत ही आसान है। इनमें अंतर करें सबसे पहले हमें इन दोनों के बारे में पुरी जानकारी कर लना चाहिए। चलिए आगे पढ़ते हैं। >>>>





          दूरी ( Distance)   

                                 किसी गतिमान वस्तु  द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने में उसके मार्ग की लम्बाई को वस्तु द्वारा तय की गई दूरी कहते हैं।  
निचे दिए गए चित्र को देखिए : 

इसमें किसी घर 🏩 से किसी स्कूल 🚸 तक जाने के लिए तीन रास्ते हैं और तीनों ही रास्ते अलग - अलग दूरी के हैं। 



इसका मात्रक मीटर है। इसकी कोई दिशा नहीं होती है यानी यह दिशाहीन होती है। इसलिए दूरी को अदिश राशि कहते हैं। ... 





   विस्थापन  Displacement   

                          गति करने वाली किसी वस्तु द्वारा दो स्थानों या बिंदुओं के बीच की सीधी दूरी को विस्थापन कहते हैं। 

या  गति करने वाली किसी वस्तु द्वारा किसी ऋजु - रेखीय मार्ग पर गति करते हुए प्रारम्भिक  छोर से अन्तिम छोर तक पहुंच जाये तो इनके बीच के अंतर को उस वस्तु का विस्थापन कहेंगे ।
 उपर्युक्त ( 👆 दिए  गए ) चित्र में  घर से स्कूल जाने के तीन ⚟ रास्ते हैं जिसमें 2  ( दूसरा ) रास्ता एकदम सीधा है। अत: हम यह कह सकते हैं कि विस्थापन किन्हीं दो बिदुओं के बीच की दूरी ही होती है। 
 चुंकि  विस्थापन, बीच की सीधी दूरी है जिससे दिशा का बोध या ज्ञान होता है। अतः विस्थापन सदिस राशियों वाली राशि है। हम जानते हैं कि दूरी का मात्रक मीटर है और इसमें भी दूरी का उपयोग किया जाता है। इसलिए इसका मात्रक भी मीटर ही है। 










  दूरी और विस्थापन में अन्तर. 



दूरी और विस्थापन में अन्तर
दूरी विस्थापन
किसी गतिमान वस्तु द्वारा तय की गई मार्ग की लम्बाई को दूरी कहते हैं। किसी निश्चित दिशा में गतिमान वस्तु की अन्तिम और प्रारम्भिक स्थितियों के बीच की न्यूनतम दूरी को विस्थापन कहते हैं।
यह केवल परिमाण को व्यक्त करती है। यह परिमाण और दिशा दोनों को व्यक्त करती है।
यह एक अदिश राशि है। यह एक सदिश राशि है।
दूरी सदैव धनात्मक होती है। विस्थापन धनात्मक, ऋणात्मक अथवा शून्य भी हो सकती है।
यह वस्तु द्वारा तय किए गए रास्ते पर निर्भर करती है । यह वस्तु द्वारा तय किए गए रास्ते पर निर्भर नहीं करता है ।

No comments:

Post a Comment

you may like this