सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सूर्य अथवा चन्द्र ग्रहण कब और क्यूँ लगता है

 सूर्य ग्रहण हो या चन्द्र ग्रहण ये घटना जब होती है तो ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमें कुछ सावधानियां बरतने को कहा जाता है। पर हममें से अधिकांश लोगों को यह समझ में ही नहीं आता कि भला सूर्य अथवा चन्द्र ग्रहण से हमारे जीवन में क्या और क्यूँ प्रभाव पड़ेगा। 


सूर्य ग्रहण हो या चन्द्र ग्रहण दोनों में एक बात यह मिलती है कि सूर्य हर ग्रहण में एक किनारे होता है , जबकि चन्द्रमा और पृथ्वी कभी बीच में तो कभी किनारे पर होते हैं। यह स्थिति कब और कैसे आती है इन सभी सवालों को जानते हैं।


सूर्य ग्रहण 

 सूर्य ग्रहण तब लगता है, जब सूर्य और पृथ्वी के बीच में चन्द्रमा आ जाता है।

सवाल नम्बर . 01 : सूर्य और पृथ्वी के बीच चन्द्रमा कब और क्यूँ आता है ? 

 जैसा कि हम सब यह जानते हैं कि सूर्य के चारो ओर पृथ्वी चक्कर लगाती हुए अपनी धुरी पर भी घमती है और पृथ्वी के इर्द-गिर्द या चारो तरफ चन्द्रमा भी चक्कर लगाता है। चक्कर लगाते - लगाते एक समय ऐसा आता है कि चन्द्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच में आ जाता है और इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहते हैं। यह घटना एक वर्ष के अन्दर आ सकती है।

Surya grahan image of 2019

 सूर्य ग्रहण जितना लम्बा होगा इसके लगने में या ऐसा संयोग भी सैकड़ों वर्षों में होगा जैसे 26 दिसंबर 2019 यानी आज के दिन का सूर्य ग्रहण लगभग 144 वर्ष बाद लग रहा है जो लगभग 5घटे 30मिनट का है । इसके अलावा सूर्य ग्रहण जितना छोटा होगा उसके लगने का अन्तराल भी कम  समय का होता है। 





सवाल नम्बर . 02 : सूर्य की प्रकाशीय ऊर्जा से हमारा संबंध क्या है ? 
  इसके लिए हमें यह जानना होगा कि सूर्य के कारण हमें क्या - क्या मिलता है। कहने का मतलब यह है कि हम सूर्य से कैसे संबंधित ( कनेक्टेड ) है। हम जानते हैं कि सूर्य धरती के लिए ऊर्जा का भंडार है और इसके बिना जीवन की कल्पना वर्तमान विज्ञान में नहीं मिल सकती है। सूर्य के प्रकाशीय ऊर्जा के अभाव में निम्नलिखित बातें हो सकती हैं -

  • सभी प्रकार की ऊर्जाओं का सन्तुलन बिगड़ जायेंगी। 
  • लगभग हर जीव का विकास रूक जायेगा। 
  • सूर्य पर आश्रित सभी जीव - जन्तुओं का द्रव्यमान नहीं बढ़ेगा ( इसकी पुरी जानकारी अगले पोस्ट में ) 


हमने प्रायः यह देखा होगा कि कोई भी पेड़ या पौधा अगर छाया में हो तो वह लम्बाई में बड़ता है पर मोटा नहीं हो पाता है क्योंकि सूर्य की ऊर्जा उसे नहीं मिल पाती है।
कुल मिलाकर देखें तो हम साधारण शब्दों में यही कह सकते हैं कि सूर्य की ऊर्जा के बिना जीवन असंभव है।


सवाल नम्बर . 03 : सूर्य ग्रहण से लाभ - हानि क्यों ? 
      सूर्य से हम सभी जीव जन्तु कैसे संबंधित हैं यह जानने के बाद हम लाभ - हानि का अनुमान लगा सकते हैं। मगर इन अनुमानों को प्रमाणित करने के लिए हमें कुछ उदाहरणों को देखना और समझना होगा। यहां पर हम लाभ - हानि के बारे में जानें उससे पहले आपका या बहुत लोगों का यह सवाल हो सकता है कि
 "भला कुछ समय तक सूर्य ना दिखे ( चन्द्रमा के कारण ) तो इससे क्या फर्क पड़ेगा ? " 

जवाब : इस सवाल का जवाब टामिंग (सही समय) से है। अगर किसी व्यक्ति को  किसी भी वस्तु जैसे (पैसा, खाना, दवा, काम आदि) की किसी खास समय में जरूरत है और उस समय में वह वस्तु ना मिलकर बाद में मिलेे तो इसके मिलनेे का कोई फायदा नहीं होता है नुुकसान के अलावा । यही बात सूर्य के प्रकाशीय ऊर्जा में है जो रोज एक निश्चित समय पर हमें मिलती है। पर जब किसी ( चन्द्रमा या अन्य )   कारणवश यही ऊर्जा उस निश्चित समय में नहीं मिल पाती है पृृथ्वी पर ऊर्जा का संतुलन बिगड़ जाता है। इसके कारण पृथ्वी पर कहीं आंधी - तूफान, भारी वर्षा, हिमपात, सुनामी आदि प्रभाव देखने को मिल सकता है। जिससे अधिकांश जीव - जन्तुओं के जान - मााल के नुकसान होने की संभावना बड़ जाती है।

 तो इन्ही सब के बीच कुछ लोगों को फायदा भी होता है; जैसे आपदा के कारण सभी कार्य प्रगति पर हो जाते हैं जिससे बहुत लोगों को काम के साथ-साथ अच्छी किमत भी मिल जाती है। तो इस तरह सूर्य ग्रहण से किसी को लाभ तो किसी को फायदा होता है जो ज्योतिषी लोग बताते हैं। 







चन्द्र ग्रहण 

   चन्द्र ग्रहण तब लगता है जब पृथ्वी  , सूर्य और चंद्रमा के बीच में आ जाती है। 


सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण में अन्तर 

 सूर्य ग्रहण चन्द्र ग्रहण के मुकाबले अधिक घातक हो सकता है; क्योंकि पृृथ्वी सूूर्य के अनुसार यानी सूर्य के अभिकेेन्द्र बल के कारण सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाती है और जब सूूर्य ग्रहण लगता है तो ऐसे में सूूर्य का अभिकेन्द्र बल पृृथ्वी से ज्यादा  चन्द्रमा पर लगने लगेगा जिससे चन्द्रमा पृृथ्वी और सूर्य की खिचातानी में पड़ जाता है। इसके अलावा सूर्य की प्रकाशीय ऊर्जा में भी अनियमितता हो जाती है। 
ऐसे में ही सुनामी यानी समुद्रीय तूफान आने का खतरा उत्पन्न हो जाता है। और जब चन्द्र ग्रहण लगता है तो पृृथ्वी सूूर्य और चन्द्रमा के बीच में आ जाती है जिससे चन्द्रमा पर लगने वाला अभिकेन्द्रीय बल भी पृृथ्वी पर लगने लगता है। जिससे पृथ्वी और सूर्य के बीच लगने वाला अभिकेन्द्रीय बल और भी बढ़ जाता है। परिणामस्वरूप पृृथ्वी का गुरुुत्वाकर्षण बल भी बढ़ जाता है। यही कारण है कि इस दौरान हवााई अथवा जलीय सफर बन्द कर दिये जाते हैं। 


पोस्ट के बारे में अपनी कीमती राय possibilityplus. in से शेयर करें।
 धन्यवाद

   

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…

पृथ्वी गोल क्यों है ?

पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
 पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus