सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रकाश, तरंग और कणों की भाँति व्यवहार क्यों करता है क्या प्रकाश कणों से मिलकर बना है

ज हम इस आर्टिकल में प्रकाश के बारे में ऐसे आश्चर्यजनक जानकारियाँ जानेंगे जो शायद ही पहले जानने को मिला हो। पर इससे पहले ये नोट आपको पढना चााहिए  »

 ㄑ नोट : हमें किसी भी जानकारी पर तभी विश्वास करना चाहिए, जब हमें ऐसे तर्कसंगत उदाहरण मिले जो हमें यह विश्वास दिलाता हो कि जानकारी सही है या नहीं जिसका " www.possibilityplus.in " के लगभग हर आर्टिकल में विशेष ध्यान दिया जाता है।  >




वैज्ञानिकों का मानना है कि प्रकाश दोहरी प्रकृति का गुण रखता है »
  1. तरंग  और
  2. कण प्रकृति 
इनका मानना है कि प्रकाश कुछ मामलों में तरंग और कुछ मामलों में कण की भाँति व्यवहार करता है । प्रयोगों के अनुसार सौर ऊर्जा से विधुत ऊर्जा का प्राप्त करना कणिक ( फोटान ) की भाँति व्यवहार को दर्शाता है। जबकि प्रकाश के तरंग - सिद्धांत से विवर्तन, व्यतिकरण, धुर्वण इत्यादि घटनाओं की व्याख्या सुगमता से हो जाती है ; और कण ( फोटाॅन ) सिद्धांत से प्रकाश - वैधुत प्रभाव  केे अलावा काॅम्पटन प्रभाव,जीमन प्रभाव, रमन प्रभाव इत्यादि घटनाओं की व्याख्या की जाती है। इसीलिए प्रकाश में द्वैती ( दो ) प्रकृति ( dual nature) है यह कहा गया है क्योंकि कुछ घटनाओं में प्रकाश कणों की भाँति व्यवहार करता है तो कुछ घटनाओं में तरंग की भाँति।
      इस तरह यहां पर कुछ ऐसे विशेष सवाल खड़े हो रहें हैं जिनके बारे में जानना बहुत आवश्यक है। ये सवाल कुछ इस तरह हैं »

  •  ऐसा क्यों होता है ?
  • इसकी मुख्य वजह क्या है ?
  अगर इन सवालों की बात करें तो यह बहुत खास हैं पर दुर्भाग्य की बात यह है कि हम इसका उत्तर नहीं जानते हैं पर इसको हम संंभावनाओंं की दृष्टि से आसानी से समझ सकते हैं क्योंकि हम Possibilityplus.in पर ये जानकारी ले रहे हैं और इस साइट का मुख्य उद्देश्य यह है कि आप हर जानकारी को जाँच-परख के ग्रहण करेेें । चलिए सबसे पहले हम पहले सवाल पर आते हैं। 


 ऐसा क्यों होता है ? 

         दरअसल हम जानते हैं कि जब कोई वस्तु तेज गति से चलती है तो उसके चारों ओर हवा ( या वायुमंडलीय ) कण में गतिज ऊर्जा उत्पन्न हो जाती है और इसके द्वारा हवा में उसी तरह की तरंग की उत्पत्ति होती है। चुँकि सूर्य से फोटान प्रकाश के रूप में एक स्थान से दूसरे स्थान तक 3लाख किलोमीटर /सेकेंड से चलता है इसिलिये फोटान कणों की तीव्र गति से एक तरंग उत्पत्ति होती है ( जो फोटाॅन के चारो ओर होती है ) जिसकी सहायता से विवर्तन, व्यतिकरण, धुर्वण इत्यादि घटनाओं की व्याख्या तरंग सिद्धांत से समझने में मदद मिलती है।
शायद इसी कारण से वैज्ञानिक यह मानते हैं कि प्रकाश में दोहरी ( कण और तरंग ) प्रकृति होती। 
इस बात को हम आसानी से इस तरह से समझ सकते हैं कि जब कोई गाड़ी चलती है तो उसके पिछे - पिछे एक हवा भी उतनी ही गति चलने लगती है जितनी गति से गाड़ी चलती है। 


इसकी मूल वजह ये है 

      प्रकाश के कणों में मूल प्रकृति कण की है ना कि तरंग की। हम यह आसानी से समझ सकते हैं कि प्रकाश के फोटान कण द्वारा एक तरंग उत्पन्न होती है।जिससे यह साफ है कि प्रकाश की दोहरी प्रकृति में कण प्रकृति मूल है। 
इसके बहुत सारे उदाहरण हमको देखने को मिल जायेगें। इन्हीं में से कुछ चुनिंदा उदाहरण हम देखने जा रहे हैं।
 प्रकाश में मूल कण की प्रकृति के होने के निम्नलिखित कारण हैं -
  • सूर्य की ऊर्जा लगातार क्षय हो रही है। 
  • प्रकाश विधुत तरंगो के रूप में सिर्फ चलता है ना कि तरंग है। 
  • प्रकाश के कणों का स्थानांतरण होता है। 
  • प्रकाश को स्थानांतरित होने के लिए माध्यम की आवश्यकता नहीं होती है। जबकि तरंग को किसी माध्यम की आवश्यकता होती ही है।
  • प्रकाशीय फोटाॅन में विधुत ऊर्जा होती है जिसके कारण विधुत चुम्बकीय तंरगें उत्पन्न होती है। 
  • प्रकाशकीय कण की गति के कारण इसके चारों ओर तरंग की उत्पत्ति हो जाती है। 


प्रकाश के माध्यम से सूर्य की ऊर्जा लगातार क्षय हो रही है और इसी कारण से सूर्य हमें लगभग अरबों वर्षों तक ऊर्जा देता रहेगा।  जिसका सीधा मतलब है कि जो ऊर्जा प्रकाश के रूप में निकलती है और इसके चारों तरफ उसका क्षय होता रहता है। 


लेखक का आग्रह 
   क्या आपको हमारे द्वारा दी गई संभावनाएंँ सही लग रही हैं या नहीं आपके कमेंट का हम उत्तर देने की समुचित कोशिश करेंगे। धन्यवाद..    

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने के बेस्ट तरीके..

    दु नियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।    दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये |इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |    दिशा ( Direction  )  एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे। जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम  कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे। घ

भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

ऊपर चित्र में एक वृत्त को तीन बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है,  2/3  भाग जिसे शाब्दिक याा साधारण भाषा में  दो तिहाई   भाग कहेगें । इसी प्रकार ( एक बटा तीन ) 1 / 3 को एक तिहाई  कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग   करने के तरीीकों के बारे में पुरी जानकारी।                                  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; इस पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें । भिन्न क्या है ? What is the Fraction ?     भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है - अंश  हर  जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है। आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य मे

भाग कैसे करें ? How divide any number

भाग ( Division )         भाग क्या है , यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है, गणित में भाग का बड़ा योगदान है  । इसके बिना गणित की क्रिया करने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता है दरअसल भाग गणित की आधारभूत क्रियाओं में से एक । गणित की चार आधारभूत क्रियाएँ :   जोड़ ( Additions, Conjunction )  घटना ( Diminis,  Substract )  गुणा ( Multiplication, Multiplying  )  भाग ( Division ,  Quotient)     भा ग सीखना उतना ही कठिन होता है जितना ही हम इस पर ध्यान नहीं देते। दोस्तों भाग ही नहीं बल्कि कोई भी काम सीखना, समझना या पाना हमारे मन पर ज़्यादा निर्भर करता। अगर हम कोई भी काम पूरे मन से करें तो हमें सफल होने की संभावना ( possibility ) उतनी ही ज्यादा होती है।एक बात और है मन हमारी बात तभी सुनता है जब इसे किसी काम के को करने में अच्छा या महत्वपूर्ण लगे या फिर आवश्यकता पड़ी हो।  मन की सबसे बड़ी कमजोरी है उसकी लालच जो अच्छी या बुरी दोनों तरह की होती है। हमें इसी का फायदा उठाकर अपने काम को अंजाम देना चाहिए।  मन और मस्तिष्क की जानकारी   यहाँ पढ़ सकते हैं।             भाग कैसे सीखें?
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus