सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

माँ को भगवान से भी ऊँचा स्थान क्यों दिया गया है ? Why is mother given a higher position than God?

माँ [ Mother] 


 क्या हम जानते हैं कि माँ - बाप को भगवान से भी ऊँचा स्थान क्यों दिया गया है ? अगर आप जानते हैं तो यकीन मानीय आप बहुत कुछ पा सकते हैं जो बहुत लोग सोच भी नहीं सकते हैं। दूसरी बात, क्या हम जानते हैं कि माँ का नाम बाप से पहले क्यों आता है ? 

चलिए जानते हैं। 

दरअसल माँ ही वह देवी है जो - 

  • अपने बच्चे को नौ महीने तक कोख में पालती है। 
  • बच्चे को जन्म देते समय अपार दु:ख को सहती है। 
  • अपने बच्चे को ही अपनी दूनियाँ मानती है। 
  • एक आदर्श माँ अपने बच्चों के लिए अपना सबकुछ कुर्बान करने को हमेशा तैयार रहती है। 
  • अपने बच्चों में भेदभाव नहीं रखती है यानी सभी को बराबर मानती है। 
  • जब सारी दूनियाँ हमारे खिलाफ जहर ऊगलती है तब भी माँ ही अपने ममता को बरसाती रहती है। 
  • दूनियाँ में अगर सबसे ज्यादा आपकी चिंता कोई करता है तो वह माँ है। 
  • माँ के प्यार को आँका नहीं जा सकता है क्योंकि इसकी कोई हद नहीं है। 
  • बच्चों को थोड़ा सा कष्ट हो जाए तो माँ के आँसू छलक जाते हैं। 
  • जब पिता फटकारते हैं तो बच्चों को माँ का आँचल ही सम्हालता है। 




नोट :

यह आर्टिकल सिर्फ माँ की महानता पर बेस्ड है पर इसका मतलब यह भी नहीं है कि पिता कुछ नहीं होता । सबका अपना अलग - अलग स्थान होता है। अगर आप चाहते हैं कि पिता के बारे में हम लिखें तो हमें कमेंट करें धन्यवाद।


माँ - बाप को भगवान से भी ऊँचा स्थान क्यों दिया गया है ? 

     इस बात को जानने के लिए हमें इन सवालों को देखना होगा जो इस प्रकार हैं - 
  1. हमारी हर गलतियों को कौन माफ कर देता है ?
  2. हमें नौ महिने कोख में कौन पालता है ? 
  3. हमारी खुशी के लिए कौन अपनी जान नेवछावर करता है ? 
  4. हमें हर परिस्थिति में कौन चाहता है ? 
  5. हमारे नखरे कौन उठाता है ? 

इन सभी प्रश्नों का उत्तर " माँ" है। यही वजह है कि माँ को भगवान से भी ऊँचा स्थान दिया जाता है। यही नहीं बल्कि पिता से भी पहले माँ का नाम आता है। इसीलिए " माता-पिता" लिखा जाता है " पिता - माता " नहीं। 

माँ की महानता

माँ की महानता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अगर इस बात का जिक्र किया जाए कि "महान" शब्द किसके लिए सबसे ज्यादा सूट करता है तो हमारे ख्याल से " माँ" से बड़ा दावेदार कोई दूसरा नहीं हो सकता है अथवा सबसे पहले नम्बर पर माँ का नाम आना चाहिए। पर यह बात तभी लागू होगी जब एक आदर्श माँ हो यानी माँ होना ही काफी नहीं होता है, माँ के आदर्श भी होने चाहिए। दरअसल हर वस्तु की कुछ न कुछ होने की शर्ते होती हैं।।


माँ का प्यार ( mother's love )

  दुनियाँ में माँ का प्यार ही ऐसा है कि जो अपने बच्चे की धन दौलत देखकर नहीं होता। इसलिए सबसे पवित्र रिस्तों में माँ और बच्चे का होता है। दरअसल माँ अपने बच्चों से इतना प्यार करती है कि उसे अपने बच्चों की गलती भी नहीं दिखाई देती है। माँ का प्यार किसी मौसम की तरह नहीं होता है जो बदलता रहें। माँ का प्यार वह सच्चाई है जो कभी बदलती नहीं है।

टिप्पणियाँ

Popular Posts

दिशा पता करने के बेस्ट तरीके..

दु नियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।    दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये |इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |    दिशा ( Direction  )  एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे। जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम  कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे। घर बनाने

भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

ऊपर चित्र में एक वृत्त को तीन बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है,  2/3  भाग जिसे शाब्दिक याा साधारण भाषा में  दो तिहाई   भाग कहेगें । इसी प्रकार ( एक बटा तीन ) 1 / 3 को एक तिहाई  कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग   करने के तरीीकों के बारे में पुरी जानकारी।                                  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; इस पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें । भिन्न क्या है ? What is the Fraction ?     भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है - अंश  हर  जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है। आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में

फोन हमेशा क्यों व्यस्त बताता है.. ?

फोन हमेशा क्यों व्यस्त बताता है ?         मोबाइल फोन का इस्तेमाल आज इतना बढ़ गया है कि लगभग हर घर में यह अनिवार्यरूप से मिल ही जायेगा। इसका मुख्य कारण है भाग - दौड़ भरी जिंदगी। इसीलिए मोबाईल तो अनिवार्य रूप से आज के समय में चाहिए ही चाहिए। ऐसे में मोबाइल का से बात न हो पाना मोबाईल के उपयोग का मतलब ही नहीं रह जाता है  ।  अगर बार - बार यानी किसी  भी समय जब काॅल करते हैं और हर बार व्यस्त बता रहा है तो संभव है कि आपका नंबर ब्लाॅक  किया गया है। चलिए इसके बारे में जानते हैं कि विस्तार से ।  मोबाइल क्यों हमेशा व्यस्त बताता है इसके कई कारण होते हैं जो निम्नलिखित हैं -   नम्बर ब्लाॅक किया गया हो सकता है। नेटवर्किंग समस्या  नम्बर ब्लाॅक 🚫 होना क्या है ? मोबाइल नम्बर ब्लाॅक होने का मतलब यह है कि अगर आपका नम्बर किसी कारण से ब्लाॅक हो गया है या किसी ने जानबूझकर आपके नम्बर को ब्लॉक कर दिया है तो आप चाहे जितनी बार भी उस नम्बर पर कॉल  (  call  ) कर लो पर काॅल हमेशा व्यस्त  📞  ( Busy  ) ही बतायेगा। आपको फोन पे Ring ( घण्टी   ) बजते हुए सुनाई देगी पर जिस नम्बर पर आप फोन /
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2021 Possibilityplus