Skip to main content

मोबाईलफोन को अटकने से बचाने का सरल उपाय ( Smartphone ko Hanging se Bachane ka easy Solution )




    आज अगर किसी दूर - दराज बात करना है तो इसका सबसे अच्छा और सस्ता साधन है Mobile . पिछले 10 - 15 सालो में जो विकास हुआ है मोबाईल के क्षेत्र में इससे तो ऐसा प्रतीत होता है कि उसने मानो पुरे विश्व मे अपना कब्जा जमा लिया हो | और इसका कारण है मोबाईल की ४लोकप्रियता का बड़ना क्योंकि मोबाईल में पहले से बहुत ज्या़दा बदलाव हुआ है और इसी कारण आज लगभग दुनिया के 80 से 90% लोग मोबाईलफोन का इस्तेमाल करते हैं , जिसमे से Smartphone का उपयोग 65 - 75% तक लोग करते हैं |

Smartphone मे जितनी ख़ुबियाँ होती हैं उतनी ही ज्यादा अटकने(hanging) की समस्या भी होती है ,पर ये सब mobile processor पर भी बहुत ज्यादा निर्भर करता है ।

 जिस मेबाईल का processor जितना अधिक होगा उसके hanging के उतने ही कम chance होगा | सबसे पहले हम बता दें की Hanging क्या हेता है और ये क्यूँ होता है | Hanging को हिन्दी में लटकना सा अटकना  कहते हैं | अब जानते हैं ये क्यूँ , कैसे और कब होता है >>




  1. Hanging क्यूँ होता है ?


     आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि मोबाईल अटकने की सबसे बड़ी वजह ज्यादा apps और memory card की कम जगह (space) का हेना है , और मोबाईल के उपयोग से बहुत सारा junk file बन जाती है जो मोबाईल गती(speed) को कम कर देता है | अब आपके मन में शायद ये विचार आ रहा होगा कि भला app से कैसे ऐसा हेगा तो चलिए अब हम इसको विस्तार(detail) में बताने जा रहे हैं ,अपनी अगली heading कैसे और कब में |




  2. Hanging कैसे और कब होता है ?



          मोबाईल का लटकना या हैंग करना( hang) हमारे गलत उपयोग पर निर्भर(depend) करता है | चलिए जानते हैं  - दरअसल जब हम मोबाईल का इस्तेमाल करते हैं तो बहुत से apps जैसे -  game ,videos ,image आदि का उपयोग करते हैं और जल्दबाजी में बाहर आने वाली कुंजी (back key) का उपयोग न करके Home key का उपयोग करते हैं जिससे उस apps का background चलता रहता है और अगर आप ऐसा एक से अधिक apps के साथ करते हैं तो आपका मोबाईल लटक/टंग या बहुत धीमा हो जाता है |


अब इसके बाद एक कारण ये है कि जब मोबाईल इस्तेमाल किया जाता है तो उससे सम्बन्धित बहुत सारा कचरा ( junk file) बन जाता है जो मोबाईल गती धीमा कर देता है |


        Hanging से कैसे बचे ?

 Hanging से बचने का कारगर और सरल है तरीका कैसे ?

  तो चलिए देखते हैं बस कुछ चरणों (steps) में >>



 Steps 

              
       1. सबसे पहली बात अपने मोबाईल की Memory और Memory Card  को पुरा न भरने दें |

       2. कम से कम apps का use करें , cleaner apps का use नहीं करना चाहिए क्योंकि हमारे mobile में पहले से company ने cleaner के लिए एक सिस्टम set किया हुआ होता है |ये apps मोबाईल की गती slow करते हैं ,बडा़ते नहीं , कारण है इन app का background ज्यादा होता है |



       3. जब मोबाईल धीमा(slow) हो जाये तो File Manager में जाकर बेकार Junk File और बेकार File को Delete कर दें , फिर Mobile की speed बड़ जायेगी | अगर फिर भी नही बड़ी तो Mobile को Restart करें ज़रूर Speed बड़ जायेगी | लो अब फिर से आपका Mobile तेज कार्य करने लगेगा |


      4. जब कोई apps इस्तेमाल किया जाता है तो उसे क्रमशः back करके exit करना चाहिए |


      5. एक साथ ज्यादा Folder या Funtion ना खोलकर रखे अर्थात बहुत सारे Funtion एक साथ ना चलाए |


      6. मोबाईल का नेटवर्क(Network) को Auto Mood पर ना रखें ,इससे हमेशा नेटवर्क बदलता है और मोबाईल पे तो लोड बड़ता है साथ में Battery backup भी घटता है |




जीरो में जीरो 




 Restart क्या है और क्यों करें ? 

          Restart को हिन्दी में " पुनः चालू करना " कहते है ं , अब बात यह है  Restart क्यों करें |ये बात बिल्कुल उसी की तरह जरूरी है जैसे कि हम सभी का रात में सोते हैं | 


दरअसल जब हम रात या दिन में सोते हैं तो हमारे मष्तिष्क में बहुत से कार्य या बाते जो चल रही हेती हैं वो धीरे - धीरे शान्त या कम हो जाते हैं , क्यों कि नीद में सोते समय कोई भी आदमी  कुछ सोचता नहीं | 



यही कारण है कि हम जब सुबह सोकर उठते हैं तो हमारे मन और मस्तिष्क में कोई टेंसन या चिन्ता नहीं होती है और मन ताजा़ - ताजा. सा लगता है |



    ठीक इसी प्रकार Android Mobile काे पुन: चालु करने से Mobile में जो app हैं उनका लोड कम हो जाता है और मोबाईल तेज़ कार्य करने लगता है |मन और मस्तिष्क के बारे मे जाने ये पढ़कर 🔻





मन और मस्तिष्क में क्या अन्तर है




( नोट : जब नेटवर्क 2G - 3G - 4G में या इसके विपरित बदलता है और कोई जरूरी Call करना है तो Auto Mood करके उपयोग करना चाहिए ) |



 अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो हमें ज़रूर बतायें 
 Comments के द्वारा आप हमारे Facebook page  "possibilityplus.in" को ज़रूर like करें  

Comments

Popular posts from this blog

दिशा कैसे पता करें ?

दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |





   दिशा ( Direction  )    



एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




       घर बनाने में दिशा …

भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

भिन्न (Fraction ) 


ऊपर चित्र में एक वृत्त को चार बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है 3 / 4 भाग जिसे शाब्दिक या बोलन वाली भाषा में तीन चौथाई  भाग कहेगें । इसी प्रकार 1 / 3 को एक तिहाई कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग  करने के तरीका के बारे में । 




  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग करने  का तरिका. 

भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें ।

भिन्न क्या है ? What is the Fraction ? 




 भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है -
अंश हर
 जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है।

आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में उनको कोई सटीक ( ठीक - …

मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…

पृथ्वी गोल क्यों है ?

पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
 पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…

प्रतिशत कैसे निकालते हैं ?

प्रतिशत ( Percent )  प्रतिशत को पूरी तरह समझने के लिए प्रतिशत का मतलब / शाब्दिक या शब्द का अर्थ जानना बहुत जरूरी है । प्रतिशत में कुछ ऐसी बातें जिन्हें हमें जानना जरूरी होता जैसे -   इनमें से कौन - कौन सही हैं  -

  2 / 5 = ( 2 / 5 )  × 100 = 40 %    2 / 5 = ( 2 / 5 ) × 100 % = 40 %  2 / 5 = 40 / 100 = 40 %


    इन तीनों में पहला गलत है और बाकी दोनों सही हैं। क्योंकि पहली वाले हल में हमें यह स्पष्ट दिख रहा है कि अगर हम 100 में भाग करें तो 2 × 20 = 40 तो मिलेगा पर हर के स्थान पर हमें 100 मिल ही नहीं रहा है तो इसे हम प्रतिशत के रूप में कैसे लिख सकते हैं। अतः यह गलत है। रही बात बाकी दो तरिकों की तो इन दोनों में ही हमें हर के स्थान पर 100 मिल रहा है। दूसरे वाले विकल्प में 1 / 100 = % लिखा गया है।





 ( प्रतिशत = प्रति + शत  ) का संधि -  विक्षेद करने पर दो अलग -  अलग शब्द मिलते हैं जिसमें शत का शाब्दिक अर्थ सौ ( 100) होता है या प्रतिशत  गणित में किसी अनुपात या भिन्न  को व्यक्त करने का एक अलग तरीका है। प्रतिशत का अर्थ है प्रति सौ या प्रति सैकड़ा ( % = 1 / 100 ) एक सौ में से एक  ।   यदि 100 …
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑