17 Nov 2018

गणित में होने वाली सबसे बड़ी गलतियाँ | जानकारी by- possibilityplus.in


गणित में होने वाली सबसे बड़ी गलतियाँ.... 


नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है,  आप सभी को गणित कम आती हो या ज्यादा पर गणित की कुछ ऐसी गलतियाँ आप सभी के प्रस्तूत करने जा रहा हूँ जिसे देखकर आप अपने दाँतों तले उंगली दबा लेगें ।
क्या हैं यह गलतियाँ चलिए एक नजर डालें इन पर
  1. भाग में होने वाली सबसे बड़ी गलती। 
  2. समीकरणों के घटाने में होने वाली गलतियाँ।
  3. कोष्टकों का उपयोग न करना।







भाग में होने वाली सबसे बड़ी गलतियाँ  ||


आप सभी को यह जानकारी बड़ी हैरानी होगी कि भाग जैसे छोटे सवालों में भी ऐसी गलती हो सकती है। भाग में एक नहीं बल्कि दो गलतियाँ हैं जो हमें शर्मसार कर देने वाली है। अगर मैं कहूँ कि 3 से 1 में भाग करें तो यह देखकर आपमें से कुछ लोगों को शायद ऐसा लग रहा होगा कि यह तो बहुत ही छोटी सी भाग है और इसको हल करने में भला कौन सी कठिनाई है तो चलिए इस भाग को करके ही देखते हैं।







इस भाग में दो गलतियाँ शामिल हैं -

  1. दशमलव लेने पर संख्या 1 से 10 नहीं मान होता ।
  2. भाग के नियम के अनुसार भाजक का भागफल में गुणा और शेष को जोड़ने पर मान का बराबर न होना।


अगर आपको इस भाग को चेक करना है कि सही है कि नहीं तो आप इस सूत्र -   
भाज्य = भाजक × भागफल + शेषफल  से कर सकते हैं।
इस सूत्र से सीर्फ इसी भाग को नहीं बल्कि दुनिया की किसी भी भाग पर आजमा सकते हैं।









समीकरणों के घटाने में होने वाली गलतियाँ ||



समीकरणों में के घटाने में होने वाली गलतियाँ भी बहुत होती हैं पर यह गलतियाँ बहुत कम गणित के जानकार लोगों द्वारा होती हैं । यह समीकरण देखिए -




यह मान कैसे आया है इसको जानने के लिए  निचे दिए गए तस्वीर को देखें -




ऊपर दिए गए चित्र से स्पष्ट है कि विपरीत चिंहो का एक साथ गुणा करने पर " - "  प्राप्त होता है और एक समान चिन्हों का गुणा करने पर " +  " प्राप्त होता है। 

आगे जारी है ....... 





7 Nov 2018

दो चरों वाले रैखिक समीकरणों का हल और मुख्य उपयोग।


दो चरों वाले रैखिक समीकरण

Two-dimensional linear equation



दो चरों वाले रैखिक समीकरण के सवाल को जानना हमारे लिए बहुत ही जरूरी  है क्योंकि यह एक ऐसा सवाल है कि जो दो प्रकार के अज्ञात मान / वस्तु की जानकारियाँ प्रदान करता है वो भी बहुत ही आसानी से । और इसमें ज्यादा समय भी नहीं लगता है। जैस : भिन्न के सवाल, आयु / ऊम्र, काम - समय, चाल - समय, विज्ञान के सवाल, घातांक के सवाल , त्रिकोणमितिय के सवाल, ज्यामितीय के सवाल , समाकलन - अवकलन आदि सभी प्रकार के सवालों में इसका उपयोग विशेष रूप से होता है। दो चरों वाले रैखिक समीकरणों को हल करने की मुख्यतः तीन विधियाँ होती हैं -

  1. विलोपन विधि ( Deletion method ) 
  2. विस्थापन विधि ( Displacement method ) 
  3. वज्रगुणन विधि ( Vagranity method ) 







  विलोपन विधि  ( Delation method )   



 इस विधि में सुविधानुसार जिस पद को विलूप्त करना चाहते हैं उसे कर सकते हैं। जब एक पद विलूप्त हो जाता है तो दूसरे पद का मान आसानी से मिल जाता है। इस प्रकार पदो को विलूप्त करने की क्रिया को ही विलोपन कहते हैं । 

 क्या विलोपन का मतलब नहीं समझ में आ रहा है या पता नहीं है तो कोई बात नहीं है । चलिए जानते हैं इसके बारे में 


 विलोपन का मतलब है कि किसी भी चीज / वस्तु का पूर्ण रूप से समाप्त हो जाना या अस्तित्वहीन हो जाना। आपने सूना ही होगा कि पक्षियों की यह या वह प्रजातियों विलूप्त हो रही हैं या किसी अन्य जानवरों की कोई प्रजाति विलूप्त हो चुकी है तो इसका मतलब यह है कि इनकी एक ऐसी प्रजाति थी जो अब धीरे - धीरे समाप्त हो रही हैं या हो चुकी हैं । 





हल करने की विधि (  Method of solving )  

हल करने की विधि इस प्रकार है - 

  1. सबसे पहले दोनों समीकरणों में x या y किसी एक के गुणांक को गुणा या भाग करके बराबर करिए । 
  2. अब जो गुणांक बराबर है उसे जोड़कर या घटाकर काट दीजिए। ( यदि दोनों एकही चिंह के हैं तो घटाओ और अगर चिन्ह अलग - अलग है तो जोड़ दीजिए। ) 
  3. अब जो गुणांक बचा है उसे गुणा / भाग करके हल कर लिजिए । 

उदाहरण ( Example ) 1.    3x + 4y = 10 तथा 5x + 6y = 24  का हल किजिए / x और y का मान निकालिए ।

हल  (solution)  :  3x + 4y = 10     समी० ( 1 ) 
                         5x + 6y = 24     समी०  ( 2 ) 
अब x या y के एक गुणांक में से किसी एक को बराबर करना होगा। चलिए हम यहाँ x के गुणांक को बराबर करते हैं। अब हम यहाँ देख रहे हैं कि x के दो गुणांक 3 और 5 हैं। अगर समी० ( 1 ) में 5 से और समी० ( 2 ) में 3 का गुणा करें तो दोनों समीकरणों ( समी०) में x का गुणांक 15 हो जायेगा। गुणा करने पर  -

5 × ( 3x + 4y = 10 ) 
                          15x + 20y = 50   समी० ... ( 3 ) 
                     3 × ( 5x + 6y = 24 ) 
                     15x + 18y = 72   समी०... ( 4 ) 

चूँकि समी० ... ( 3 )  और  समी०... ( 4 )  में x के गुणांक 15 हैं और एकही चिन्ह के हैं  । इसलिए समी० ( 3 ) से समी० ( 4 ) को घटाने पर, 



   y = - 11
का मान समी० ( 1 ) में रखने पर,
 3x + 4 ( - 11 ) = 10  या 3x - 44 = 1 0
3x = 44 + 10 = 54
x = 54 / 3 = 18
अतः x = 18 और y = - 11 है। 

जारी  📝 है ..  

4 Oct 2018

किसी भी काम में सफल होने का जादुई तरिका।


सफलता पाने का जादुई तरिका


स्वागत है आपका सभी का हमारी वेबसाइट possibilityplus पर । इस आर्टिकल से आप अपनी जिंदगी को एक जादुई तरिके से बदल सकते हैं। 




यह बात मैं  इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि आज जो लोग भी ऊँचाइयों की सीढियाँ चढ़े हैं उनकी सोंच और ईरादे इतने मजबूत थे कि उन्हें कोई भी सफल होने से नहीं रोक पाया। सफल होने के लिए दो बातें बहुत ज्यादा माईने रखती हैं -

  1. सोंच  और 
  2. पक्का ईरादा  ।




पर समस्या यही है कि हममे से बहुत से लोग ऐसा नहीं कर पाते हैं। पहले मैं भी इस बात को नहीं समझ पाता था कि भला सोचने से कैसे सफलता पाई जाती है । लेकिन बार - बार जब यह बात मेरे पास आयी कि तो मैंने ऐसा सोचना प्रारंभ कर दिया और परिणाम जो मिला मुझे अदंर से हिला कर रख दिया । मैने यह पाया कि हम जो भी कुछ हैं आज वो हमारी सोंच का परिणाम है। यह बात जो मैंने कहा कि " हम जो भी कुछ आज हैं यह सब हमारी सोंच का परिणाम है। "  यह बात भगवान महात्मा बुद्ध  की है। दोस्तों आप possibilityplus ( संभावना बढ़ाने ) की साईट पर पढ़ रहे हैं जहाँ आपको संभवत: हर समस्या का समाधान मिल सकता है। अगर आप इसे अच्छी तरह से पढ़ लोतो आपको किसी भी काम सफल में होने से कोई नहीं रो पायेगा / पायेगी।  दुनिया में कोई काम कठिन है तो वह है अपनी असफलता को लेकर जीना और इसे ही अपनी किस्मत मान लेना कि मैं कुछ भी नहीं कर सकता हूँ। यह एक बहुत ही बडी़ कमी, भ्रामक और शर्मनाक बातें हैं जिन्हें हम अपने अन्दर रखकर बहुत ही गलती करते हैं या यह भी कहूँ कि अपने आपके पैरों पर कुल्हाड़ी मारने के समान है तो यह भी गलत नहीं होगा। जैसा हम सोचते हैं या जैसी हमारी सोंच होती है वैसा ही हमारा व्यवहार भी होने लगता है। तो हमें सबसे पहले अपनी सोंच को ही सही रूप देना होगा तभी कोई बात / काम बनेगा। सारा खेल दिलोदिमाग का है, अगर आप  दिलोदिमाग से तैयार हैं तो आप हर काम कर सकते हैं।  




दुनियाँ का हर आदमी सफल है...



जी हाँ दुनियाँ का हर आदमी सफल है अब आप कहोगे कैसे ? तो आगे पढो़ और देखो। हम सभी को यह बात पता है जब कोई बच्चा / बच्ची इस दुनिया में पैदा होता है तो वह पैदा होने तुरन्त बाद ही चलने - फिरने नहीं लगता है। इस समय बच्चे के लिए बैठना और  चलना तो बहुत दूर की बात है वह तो अपने शरीर को भी नहीं संभाल पाता है, जबकि उसके पास हाथ - पैर सब मौजूद होता है। इस बात को गहराई से समझने की कोशिश करिए बच्चे के पास वह सभी चीजें मौजूद है फिर भी वह ना तो वह अपने आप को सँभाल सकता है और ना ही चल फिर सकता है । जबकि यही बच्चा कुछ महीनों बाद पहले बैठना शुरू करता है फिर हाथ - पैर की मदत से चलना प्रारंभ करता है। धीरे -  धीरे दोनों पैरों से चलने भी लगता है। इसके बाद यही बच्चा जो अपने आप को संभाल नहीं पाता था, ठीक से बैठ नहीं पाता था, अब वह सीर्फ चलता ही नहीं बल्कि दौड़ने और कूदने भी लगता है। बच्चों को यह बात नहीं पता होती है कि उसे कैसे चलना है, कैसे दौड़ना है और अपने आपको कैसे संभालना है। फिर भी वह इन सभी कामों को कर लेता है और यह सब कैसे हुआ। प्रयास ( practice   ) एक ऐसी चीजों में से एक है जो हमें हर कामों को करने के लिए अतिआवश्यक है ।



 यहाँ पर एक बात पर गौर करने की है, बच्चों को जो चीजें बहुत ही मुश्किल लगती है वही चीजें हमको उतना ही आसान लगती हैं बल्कि यूँ कहें कि यह सब तो हमारे लिए बाँये हाथ के खेल से भी निचे की चीजें हैं। क्योंकि हम इन  सीढ़ियों को पार कर ऊपर की सीढियाँ चढ़ रहे होते हैं। बच्चा इसलिए चलना सीख जाता है क्योंकि सभी लोग उसे चलने के लिए उसे छोड़ देते हैं। कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं चाहता है कि कोई भी बच्चा न चले। कुल मिलाकर कहे कि बच्चों के चलने का विरोध कोई नहीं करता है।  इसलिए बच्चा चलना सीख जाता है। और जब वही बच्चा बड़ा हो जाता है तो उसे सफल बनाने में बहुत कम लोग ही उसका साथ देते हैं । इस तरह से हर आदमी की पहली सफलता बचपन में चलना - फिरना और बैठना होती है। बच्चा भी लोगों की बातों को अगर उस समय समझ पाता जब वह चलना -  फिरना उसके लिए असंभव जैसा होता  क्योंकि 
अब जब आप बड़े हो गए हो तो यह जरूरी नहीं है कि आपका कोई साथ दे। अब आपको सभी कार्य खुद करना है पर कैसे यह सवाल बार - बार आयेगा जब तक कि आप वह काम कर ना लो। 




जो महसूस करोगे वही होने लगेगा ? 


 यह बात मैं यूँ ही नहीं कह रहा हूँ बल्कि मैंने अपने जीवन में बार - बार महसूस किया है । अगर आप किसी परिमाण की सोंच रहे हैं तो मैं यह बताने मे खुशी महसूस कर रहा हूँ यह अनमोल वचन भगवान महात्मा बुद्ध  जी का है।  क्या आपको अभी तक विश्वास नहीं हो रहा है कि यह बात सही है तो चलिए मैं आपको कुछ ऐसे उदाहरणार्थ पेश करने जा रहा हूँ जो आपके विचारों को खोलेगा ही नहीं बल्कि पंख भी दे देगा । इसके लिए निम्नलिखित शर्तें हैं - 
  1.  जो भी महसूस करें तो दिलो दिमाग से करें । 
  2.  महसूस करने की ऊर्जा निरन्तर होनी चाहिए।  

इन दोनों ही बातों को गहराई से समझते हैं । सोचो कि " मुझे सुबह के 4 , 5, 6 बजे जागना है तो जरूर जागना है। "
यकिन मानिये यह होता है और अगर विश्वास नहीं ह तो इसे आप आजमा सकते हैं । इसे पढ़ने और समझने के लिए यह पोस्ट    https://www.possibilityplus.in/2017/02/jab-kabi-hame-kisi-jaruri-kaam-ke-liye.html?m=1.... जागने लिए क्लिक करें।


नोट :
आगे लिखना बाकी है तब तक इसको पढे़ और इसके बारे में  कमेंट जरूर करें।



आगे ✍️जारी है... 

28 Sep 2018

फोन हमेशा क्यों व्यस्त बताता है.. ?


फोन हमेशा क्यों व्यस्त बताता है ?

       मोबाइल फोन का इस्तेमाल आज इतना बढ़ गया है कि लगभग हर घर में यह अनिवार्यरूप से मिल ही जायेगा। इसका मुख्य कारण है भाग - दौड़ भरी जिंदगी। इसीलिए मोबाईल तो अनिवार्य रूप से आज के समय में चाहिए ही चाहिए। ऐसे में मोबाइल का से बात न हो पाना मोबाईल के उपयोग का मतलब ही नहीं रह जाता है  । 



अगर बार - बार यानी किसी 
भी समय जब काॅल करते हैं और हर बार व्यस्त बता रहा है तो संभव है कि आपका नंबर ब्लाॅक  किया गया है।

चलिए इसके बारे में जानते हैं कि विस्तार से । 
मोबाइल क्यों हमेशा व्यस्त बताता है इसके कई कारण होते हैं जो निम्नलिखित हैं - 
  1.  नम्बर ब्लाॅक किया गया हो सकता है।
  2. नेटवर्किंग समस्या 


नम्बर ब्लाॅक 🚫 होना क्या है ?

मोबाइल नम्बर ब्लाॅक होने का मतलब यह है कि अगर आपका नम्बर किसी कारण से ब्लाॅक हो गया है या किसी ने जानबूझकर आपके नम्बर को ब्लॉक कर दिया है तो आप चाहे जितनी बार भी उस नम्बर पर कॉल  ( call ) कर लो पर काॅल हमेशा व्यस्त 📞 ( Busy ) ही बतायेगा। आपको फोन पे Ring ( घण्टी   ) बजते हुए सुनाई देगी पर जिस नम्बर पर आप फोन / काल कर रहे हैं वहाँ कोई रिंग नहीं बजेगी। इस तरह से आप जिस नम्बर पर काॅल कर हैं उस पर बात नहीं हो पाती है क्योंकि काॅल कट ( disconect ) हो जाती है ।
इसे दोबारा से कैसे ठीक किया जाये कि हम दोबारा से आसानी से बात कर सके । 


ब्लाॅक होने के बाद बात कैसे करें ? 


   दो तरिके हैं - 
  1. किसी अन्य नम्बर से काॅल करना । 
  2. अनब्लाॅक करके काॅल करना।




अगर आपका नम्बर ब्लाॅक किया गया हो तो आप किसी अन्य नम्बर से आसानी से बात / काॅल कर सकते हैं। फिर इस विधि की मदद से आप अपने नम्बर को अनब्लाॅक करवा सकते हैं। अनब्लाॅक करने की विधि निचे दी जा रही है। 

नम्बर अनब्लाॅक करना. 


जब नम्बर अनब्लाॅक हो जायेगा तब आप आसानी से बात कर पाओगे। चलिए जानते हैं कि कैसे नम्बर को अनब्लाॅक किया जाये । इसके निम्नलिखित चरण हैं - 
  •  सबसे पहले काॅल option में जाये ।
  • फिर जो नम्बर ब्लाॅक हुआ है उसके सामने बने " > " निशान पर क्लिक करें।  ( यह विधि केवल screen touch / android phone के लिए है क्योंकि कीवर्ड मोबाईल की अलग ही सेटींग ⚙️ होती है।  ) 
  • अब दाहिने तरफ एकदम ऊपर इस चिन्ह " ፧ " पर क्लिक करें ।
  • अब जो विंडों खुलती है उसमें unblock का option दिखाई देगा । 
  • Unblock पर क्लिक करें। बस हो गया Unblock अब आप जब चाहे बात कर सकते हैं। 
  • अगर नम्बर block नहीं होगा तो block का option दिखाई देगा ।




नम्बर ब्लाॅक 🚫 करने के फायदे / नुकसान 


फायदें

     एक बात आज जानलो अगर जिस चीज / वस्तु से नुकसान है तो कहीं न कहीं उससे आपको फायदा जरूर होने वाला है। इसके फायदे इस प्रकार से हैं -

  • अगर आपको कोई बार - बार फोन करके परेशान कर रहा / रही है तो आप उसके नम्बर को ब्लॉक कर सकते हैं। 
  • ब्लाॅक होने के बाद वो आपको काॅल नहीं कर सकता है पर आप कर सकते हैं । 


नुकसान :

          इसके नुकसान को देखिए जो निनिम्नलि हैं - 
  • जिस नम्बर को आपने ब्लाॅक किया है वो आपको उस नम्बर से तबतक काॅल नहीं कर सकता है जबतक की आप उसे अनब्लाॅक न कर दें। 

दोस्तों यह जानकारी आपको उपयोगी लगी हो तो हमारे साइट को जरूर flow करें, क्योंकि यहाँ पर ऐसी जानकारियाँ मिलती है जो उपयोगी होती है। 
आप इस पोस्ट के बारे में कमेंट जरूर करें। 


22 Sep 2018

अंग्रेजी कैसे सीखें, सीखें अंग्रेजी का A to Z .. Tense.



अंग्रेज़ी ( Inglish language )

अंग्रेजी  एक ऐसी  भाषा है  जिसे हर कोई बोलने और सीखने की इच्छा रखता है। दरअसल अंग्रेजी का इस्तेमाल आॅफिस , स्कूल, कॉलेज, कंपनी में बहुत ही उपयोगी है। यह बोलने मे जितना confidence होता है उतना ही ज्यादा sucsess ( सफलता ) भी मिलती है। अगर आप अंग्रेजी जानते हैं तो आपके नौकरी पाने की संभावना ज्यादा हो जाती है।  आज हम जानेंगे एक ऐसे तरीके के बारे में जो आपको अंग्रेजी सीखने में बहुत ही बड़ी भूमिका का निर्वाह करेगी। 








यह एक ऐसा app है जो हर हिन्दी शब्द को Inglish और 
Inglish को हिन्दी में translate ( अनुवाद ) कर सकता है। 

यह app download करने के लिए यहाँ क्लिक करें  - 
👉 https://play.google.com/store/apps/details?id=com.google.android.apps.translate


download करने के बाद app permission माँगता है जिसे " Ok"  पर क्लिक कर permission देकर इस्तेमाल कर सकते हैं। 


उपयोग करने की विधि ( Method of uses ) 

अब इसके उपयोग की बात कर ली जाये कि कैसे यह काम करता है। आपको जिस भी वाक्य को अंग्रेजी में बदलना हो आप बदल सकते हैं। इसके लिए आपको Google translate app को खोलकर वह शब्द / वाक्य लिखना है । बस लिखते ही हिन्दी शब्द को अंग्रेजी में बदल देता है।
निचे दिए गए चित्र को देखिए - 



मैंने यहाँ पर " मै अंग्रेज़ी सीखना चाहता हूँ।"  का अंग्रेज़ी में रूपांतरण / translation किया हूँ । इस app के जरिए  । 
अगर आपको किसी अंग्रेज़ी शब्द को हिन्दी में बदलना है आपको ऊपर चित्र में Hindi और English के बीच में ⇆ इस तरह की तीर पर क्लिक करें। ऐसा करने से अगर पहले हिंदी से अंग्रेज़ी में था अब अंग्रेज़ी से हिंदी में हो जायेगा। 

अगर हिन्दी या अंग्रेजी से किसी अन्य भाषा में translation करना है तो इसी तरह उसे भी आसानी से कर सकते हैं। क्योंकि इसमें बहुत सारी भाषाओं को शामिल किया गया है । जैसे कन्नड़, गुजराती , चाईनीज, जर्मन, ग्रीक , बंगाली, अरबी इत्यादि भाषाओं  को सम्मिलित किया गया है। निचे दिए गए   चित्र को देखिए - 




अगर आप किसी भी विषय पर जानकारी चाहते हैं तो हमें कमेन्ट में जरूर बताएँ या हमें ईमेल करें dkc4455@gmail.com पर।
ऐसी ही जानकारियों को पाने के लिए अभी सब्सक्राइब करें हमारे इस साइट को।

घड़ी के सवालों को कैसे हल करें ? 100% आसान तरीका by Possibilityplus.in

घड़ी ⏰ का सवाल  ( Question of clock ) 




आज इस पोस्ट में घड़ी⏰ से संबंधित सवालों का समाधान किया जायेगा। घड़ी से संबंधित जो भी सवाल आपका होगा वह अब नहीं रहेगा क्योंकि आज के बाद घड़ी के सवालों को बहुत ही आसानी से आप हल कर लोगे वो भी बिना कापी, कलम या किसी कैल्कुलेटर के ।


घड़ी के सवालों का महत्व ( Importance of clock questions )


घड़ी के सवालों के महत्वपूर्णता की बात की जाये तो बड़ी ही खास जगह है। विद्यार्थियों के लिए तो ये सब सवालों को जानना ही चाहिए क्योंकि यह लगभग हर कन्पटीसन परीक्षा में शामिल किया जाने वाले सवालों मे से एक है। 




हल करने की विधि ( Method of solving )  


सवालों को हल करने की विधि को जानने से पहले हम इसकी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियों को देख लेते हैं  । घड़ी की सुइयों की गति वृत्तीय कक्षा के अन्तर्गत आती है। इसलिए वृत्त में 



पहली विधि. 1
First method  .1

कुल कोणों की संख्या 360° होती है। 
सेकेंड वाली सुई 1मिनट में तय करती है 360° कोण। 
मिनट वाली सुई 1 घंटे में तय करती है 360° कोण। 
 

दूसर विधि. 2
Second method. 2

यह विधि पहली विधि से अलग तो है ही पर आसान भी है।
हम जानते हैं कि घड़ी में कुल 12 खाने, भाग या अंक जो भी कहें ।  दूसरी बात घड़ी में कुल बनने वाला कोण = 360°
इसलिए प्रत्येक खाने को मिलने वाला कोण = 30° होका है। चलिए उदाहरणों में इनका इस्तेमाल कैसे करना है वो देख लेते हैं।


अब यही बात हमारे लिए काफी या पर्याप्त है प्रश्नों को हल करने के लिए क्योंकि सभी प्रश्न इसी पर आधारित होते हैं ।चलिए कुछ प्रश्नों को हल करके देख लिया जाये। 


उदाहरण :   किसी घड़ी के मिनट और घण्टे की सुईयों के बिच का कोण 100° है, जबकि घंटे की सुई 12 पर है तो बताईए कि घड़ी में 12 बजकर कितने मिनट हुए हैं ।

   ⏰ पहली विधि. 1

14 Sep 2018

youtube video kaise dekhe slow net pe ?


Slow net pe Youtube video 🖼️ chalana... 👈




✴️✴️✴️✴️



Possibilityplus.in 


क्या आप  youtube पर विडियो देखते हैं तो देखते समय विडियो रूक - रूक कर चलती है या buffring करने लगती है तो  बस यही बात आपके लिए काफी है इस पोस्ट को पढ़ने के लिए। इंटरनेट की स्पीड कम होने पर भी विडियो को youtube पर देखने की बड़ी अच्छी विधि है  । जानने के लिए पूरी पोस्ट को ध्यान के साथ जरूर पढें  । 




youtube एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ पर करोड़ों की संख्या में लोग विडियो देखने के लिए आते हैं। अगर हममे से किसी भी का इंटरनेट स्पीड कम है तो youtube पर विडियो देखना मुश्किल हो जाता है या यूँ कहें तो दे ही नहीं पाते हैं। अगर मैं कहूँ कि कम नेट स्पीड में भी youtube पर विडियो को देख सकते हैं वो भी बिना रूके या बफरिंग के तो कैसे यह सवाल हो सकता है , पर एक बात मै आप सभी को बताता रहता हूँ कि हर काम में सफलता पाने की कोई न कोई जरूर संभावना रहती है  । इसलिए इस काम में भी तो कोई न कोई संभावना जरूर होनी चाहिए कि youtube की किसी भी विडियो को इंटरनेट की कम स्पीड होन पर भी देखा जा सके। 










कम नेट स्पीड में भी किसी भी विडियो को देखने का तरिका 


इंटरनेट स्पीड  कम होन पर भी  youtube पर विडियो को देखने की विधि इस प्रकार से है  -
  • सबसे पहले youtube पर जो भी विडियो को आप देखना चाहते हैं उस विडियो को चालू करें।
  • अब तीन बिंदु वाले निशान पर " क्लिक " करें। ( screen के दाहिने तरफ ऊपर  ) अथवा निचे दिए गए चित्र देखिए -   
  • क्लिक करने के बाद हमारे सामने कुछ विकल्प आते हैं जो चित्रानुसार है -
  ⚙️ Quality  : पर क्लिक करें ।

  • अब जो विंडों खुलेगी उसमें कई विकल्प दिये होगें जो कि विडियो की क्वॉलिटी होती है। हमें इनमेइ से सबसे ऊपर वाले  यानी 144p  को चुनना है। क्योंकि यह एक कम स्पीड पर भी विडियो को चला सकता है। 
मगर इस प्रकार की विडियो अच्छी नहीं दीखती है,


इसलिए हमें एक छोटा सा काम करना होगा और वह है विडियो को कुछ मिनट तक रोके रखना ना कि चालू रखना है और करीब पांच मिनट तक विडियो को रोकने के बाद हम जब विडियो को चालू करेंगे तो विडियो बिना रूके चलने लगेगी परन्तु यह विडियो देखने में अच्छी नहीं होती है। इसलिए हमें पहले वाले चित्र के अनुसार क्लिक करके विडियो क्वालिटी 240p या 360p कर सकते हैं । इसपर करके देखना शुरू करेगें तो भी विडियो तुरंत नहीं रूकेगी बल्कि कम से कम  आठ - दस  मिनटों तक बिना रूके चलेगी। वो भी अच्छी क्वालिटी में तो इसी के साथ नमस्कार फिर मिलेंगे अगले पोस्ट में एक नई जानकारी के साथ  । धन्यवाद.
इसी तरह आप किसी भी विडियो को आसानी से देख पाओगे वो भी अच्छी क्वालिटी में  ।

🔚

6 Sep 2018

Internet कैसे share करते हैं ?



Internet data connection share karna.. 

4 Sep 2018

सफल होने का महामंत्र हैं, ये तरिके.....



हर काम में सफलता पाने की संभावना। 




Possibilityplus.in पर आपका स्वागत है। इस पोस्ट में मैं आपको एक ऐसा मंत्र दूँगा जी हाँ जो मैं बताने वाला हूँ वो किसी मंत्र से कम नहीं है और इस पोस्ट को पूरी तरह से पढ़ने के बाद आप हर हालात, परिस्तिथि, मुश्किल या बड़े से बड़ा काम को कर पाओगे।


 आप चाहें जो भी काम करना चाहते हो वो कर सकते हो पर कैसे, यह सवाल आपके मन में उठना स्वाभाविक है। इन सब बातों को जानने और काम में सफलता पाने के लिए ही यह पोस्ट बनाया गया है।  चलिए हम इसकी शुरूआत करते हुए मैं आपके सम्मुख एक उदाहरण पेश करता हूँ जो आपको यह बता देगा कि हाँ भाई कुछ तो दम है बात में, चलिए देखते हैं - 
कभी-कभी आपने यह देखा होगा कि जब आपको किसी निश्चित समय पर जागना होता है, जैसे 4 am, 5 am, 6 am या कोई भी अन्य समय हो । तो आपको उस समय पर जागने के लिए यह दिल से सोचना होता है या सोचते हो और आप सो जाते हैं और आप ठीक उसी समस पर जागते जिस समय पर आप जागना चाहते थे  ।

उम्मीद है कि आपके साथ ऐसा हुआ होगा अगर हुआ है तो यह कोई इत्तेफाक या संयोग नहीं है बल्कि यह आपके सोच का कमाल है। अगर आपके साथ ऐसा नहीं हुआ है तो आप ऐसा करने के लिए बस इतना ही काम करो कि सोते समय या जब आप नींद में जाने वाले होते तब यह सोचकर सो जाओ कि मुझे सुबह के 3, 4, 5,या 6 बजे में से किसी भी समय पर जागना ही और यह बहुत ही जरूरी है तब उसके बाद आप कुछ भी न सोचते हुए सो जाओ। अब जब सुबह को नींद खुले तो समय जरूर देखें। आप देखोगे कि आप बिल्कुल उसी समय पर जागे हो जिस समय पर जागना चाहते थे। आपकी इच्छा जितनी ही ज्यादा होगी आपके जागने का टाइमिंग उतना ही सटीक होगा फिर तब जाकर इस पोस्ट में आप अपने कमेन्ट अपने विचार लिखना । ऐसे एक दो उदाहरण नहीं है बल्कि इससे भरे पड़े हैं ।


 
किसी काम को सफल बनाने में  क्या - क्या बात मायने रखती है इन बातों के साथ - साथ उन बातों को भी ध्यान में रखना चाहिए जो हम सबको असफलता की राह पर ले जाती हैं। असफल होने के निम्नलिखित बड़े कारण इस प्रकार हैं  -

  1. किसी भी काम को पूरी तरह से समाप्त न करना ।
  2. काम को दिल से नहीं करना।
  3. बहुत ज्यादा बडे़ काम को पहले ही शुरू करना।
  4. अपने मन को सीमित और छोटा करना ।
  5. अपने आप पर भरोसा और अत्कामविश्वास की कमी का  होना।


ऊपर की बातें यह दर्शाती है कि हमारे असफल होने की मुख्य वजह है  हमारी अज्ञानता,  आत्मविश्वास और अपने मन को सीमित करना है।
भगवान् बुद्ध ने भी कहा है कि सत्य के रास्ते को तय करने में कोई दो ही गलियाँ कर सकता है - 
1.रास्ता बिच में ही छोड़ देना। 
2. रास्ता तय ही ना करना। 
यह तो कोई भी व्यक्ति हमें बता सकता है या यह सब आप लोगों कोई  पता भी होगा फिर इस पोस्ट में क्या दम है तो अब आगे जो भी पढ़ने वाले हो आप वो एक रामबाण की तरह है।   
किसी भी काम में सफलता पाने के लिए जबर्दस्त और लगभग सत प्रतिशत कारगर बातें कुछ इस प्रकार हैं -
  1. अपने मन को यह दिलासा दिलाओ कि हर काम में मैं सफल हो सकता हूँ क्योंकि हर काम में सफलता पाने की संभावनाओं की जड़ जरूर होती है और यह एक लगभग नहीं बल्कि 100% सत्य बात है जिसे कोई गलत साबित नहीं कर सकता है। उदाहरण के तौर पर अगर कोई डाक्टर किसी मरीज से यह बात कह दे कि " तुम कुछ ही दिनों के मेहमान हो।" तो उस मरीज के मरने की संभावना बहुत ही ज्यादा बढ़ जाती है फिर जाये डाक्टर झूठ ही क्यों न बोला हो। दरअसल मरीज डाक्टरों की बातों को सच मानते हैं इसीलिए डाक्टर या कोई  भी व्यक्ति मरीज से ऐसी नाजुक बातों को नहीं बताता है। आप ही सोचिए सिर्फ बातों को सच मानने पर वह बात कितना असर डालती है। दुनिया में हर बात, वाक्य का कुछ न कुछ प्रभाव जरूर होता है। जिस बात को हम जितना सही मानेंगे वह बात उतनी ही ज्यादा प्रभावशाली होती जायेगी  । हमेशा साकारात्मक  बातों को अपने अन्दर रखिए और उस पर अडिग रहो फिर रास्ता ही नहीं मंजिल भी आपका इंतजार करेगी। भगवान् महात्मा बुद्ध ने कहा है " जो व्यक्ति जैसा सोचता है और उसे करता है वह वैसा ही बन जाता है। " या  मुश्किल कुछ भी नहीं इस दुनिया में मगर लोग इरादे तोड़ देते हैं । अगर सच्चे दिल से चाहत है कुछ पाने की तो सितारे भी अपनी जगह छोड़ देते हैं।। 
  2. जिस किसी भी काम में सफलता पाना चाहते हैं तो उस काम को ऐसा महसूस करो कि वह काम बस होने ही वाला है, जैसे - अगर आप भगवान बजरंगबली ( या जो भी आपके पसंदीदा भगवान हों ) उनकी पूजा करते समय ऐसा महसूस करो कि जैसे कि बजरंगबली ( या जो भी आपके पसंदीदा देवी - देवता हों ) आपके समक्ष हों और तब जाकर आप अपनी बात उनके समक्ष रखिए। ऐसा करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमें भगवान की एक स्पष्ट ( clear ) ईमेज बनानी चाहिए। इसके बाद आप जब ऐसा कर लोगे तो आप जो भी सवाल या उत्तर जानने की लालसा रखते हो आपको मिल जायेगा। 
  3. सबसे पहले किसी भी बडे़ काम में हाथ नहीं लगाना चाहिए क्योंकि बडा़ बहुत दिनों तक चलने वाला होता है। अगर हम कोई भी छोटा काम करेंगे तो हमें उसके प्रणाम जल्द से जल्द मिलेंगे और इससे हमारे आत्मविश्वास में बढ़ोत्तरी होगी जिससे हम बड़े कामो को भी कर सकते हैं।  
  4.  हर काम को पूरा करने की आदत बनानी  चहिए । 
  5. और अंत में एक बात कोई भी काम हो चाहे कितना ही बड़ा ही क्यूं ना हो मगर उस काम को करने या होने की संभावना जरूर होती हैं ।


उम्मीद है की यह पोस्ट पढ़ने के बाद आपको कुछ मोटीवेशन जरूर मिलेगी । ऐसी ही जानकारी पाने के लिए इस साइट को अभी सब्सक्राइब करें । धन्यवाद्। 

29 Aug 2018

क्या होगा अगर पृथ्वी एक सेकेंड के लिए रूक जाये ? Possibilityplus.in



Possibilityplus.in पर आप सभी का स्वागत है। आज हम बात करने जा रहे हैं अपनी पृथ्वी के गति के बारे में जो एक महत्वपूर्ण जानकारी है। पृथ्वी क्यों गति करती है या घूमती है सूर्य के चारों ओर, इसका वेग कितना है, क्या इसका वेग हमेशा समान रहता या बदलता रहता है तो फिर क्यों बदलता है और पृथ्वी का आकार लगभग गोल क्यों है। क्या होगा अगर पृथ्वी 1 सेकेंड के लिए एकाएक रूक जाये। इन सभी सवालों को इस पोस्ट में शामिल किया गया है।





सबसे पहले बात करते हैं पृथ्वी के गति के बारे में 

  पृथ्वी गति क्यों करती है ? 


पृथ्वी गति करती है क्योंकि सूर्य द्वारा पृथ्वी पर अभिकेन्द्र बल लगाया जाता है इस अभिकेन्द्रीय बल को संतुलित करने के लिए पृथ्वी द्वारा सूर्य पर एक अपकेन्द्र बल लगाया जाता है। 
अब यह अभिकेन्द्र और अपकेन्द्र बल क्या है इसको जान लेते हैं क्योंकि बिना इसके जाने हम इस पूरी बात को समझने में असमर्थ हैं। 

अभिकेन्द्र बल ( Centripetal force)

वृत्तीय पथ पर गति करने वाले किसी भी कण या वस्तु पर लगने वाला वह बल जो उस वस्तु या कण को वृत्तीय केन्द्र की तरफ खिंचता है उसे अभिकेन्द्र बल कहते हैं।
इसी प्रकार सूर्य द्वारा पृथ्वी पर लगाया गया खिंचाव बल ही सूर्य का पृथ्वी पर लगाया गया अभिकेन्द्र बल है।
इसके विपरीत ( उल्टा ) अपकेन्द्र बल होता है।

अपकेन्द्र बल

वृत्तीय पथ पर गति करने वाले किसी भी कण, पिण्ड या वस्तु पर लगने वाला वह बल जो उस कण, पिण्ड या वस्तु को केन्द्र के  बाहर की तरफ दबाये रखता है, अपकेन्द्र बल  कहते हैं।
यह अपकेन्द्र बल उस कण, पिण्ड या वस्तु के द्रव्यमान के कारण लगता है।  जब दोनों बल ( अभिकेन्द्र बल व अपकेन्द्र बल ) लगभग समान  होते हैं तब लगभग वृत्तीय गति होने लगती है। यहाँ पर मैंने लगभग शब्द का प्रयोग इसलिए किया है क्योंकि वास्तव में ये दोनों बल  ( अभिकेन्द्र बल व अपकेन्द्र बल ) समान कभी भी नहीं हो सकते हैं और नाहीं 100% वृत्तीय गति संभव है। कोई चीज या वस्तु 100% वृत्तीय गति क्यो नहीं कर सकती या वह जैसी भी हैं तो वह वैसी क्यों है इन सब के बारे में हम अगले पोस्ट में विस्तार से जानकारी जानेंगे  ।
हमने अभिकेन्द्र बल व अपकेन्द्र बल के बारे में तो जान लिया पर यहाँ एक सवाल यह उठता है कि आखिरकार यह  अभिकेन्द्र और अपकेन्द्र बल कैसे या किस कारण से उत्पन्न होता है। दरअसल महान वैज्ञानिक न्यूटन के सिद्धांत के अनुसार ब्रम्हांड या विश्व की प्रतेक वस्तु हर दूसरी वस्तु को अपनी तरफ आकर्षित करती है। इससे यह स्पष्ट है कि अगर सूर्य पृथ्वी को अपनी तरफ आकर्षित करता है तो पृथ्वी भी सूर्य को अपनी तरफ आकर्षित करती है और इसी कारण से अभिकेन्द्र और अपकेन्द्र बल की उत्पत्ति होती है। इसी बल के कारण पृथ्वी सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करती है  ।

पृथ्वी 24 घंटे में अपनी धुरी पर अपना एक चक्कर और सूर्य का एक चक्कर लगाने के लिए लगभग 365 दिनों का समय लगाती है । वर्ष 2013 की एक रिर्पोट में पता  चला कि पृथ्वी की गति 1 सेकेंड कम हो गयी है। तब से भूकंप के मामले में बड़ी वृद्धि इसी वजह से है ।वर्ष 2015 में आये भयानक भूकंप को कोई भूला नहीं है यह सब बातें इसी तरह इशारा करती हैं। 

पृथ्वी सहित अन्य सभी ग्रह सूर्य से धीरे - धीरे  दूर जा रहे हैं  । यह तथ्य भी सही हो सकता है कि पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा एक ऐसे पथ पर करती है जो पूरी तरह से वृतीय नहीं हो और एक बात यह भी सिद्ध होती है कि पृथ्वी पर सूर्य द्वारा लगाया गया अभिकेन्द्र बल से कुछ बड़ा है अपकेन्द्र बल जिससे यह पता चलता है कि पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रह जो सौरमंडल में उपस्थित हैं यह सब सूर्य से धीरे - धीरे दूर जा रहे हैं ।



महान वैज्ञानिक डिमाॅयर ने अपने सिध्दांत के अनुसार यह बताया कि हमारा ब्रम्हांड फैल रहा है। 

अब जानते हैं कि अगर पृथ्वी एक सेकेंड के लिए रूक जाये तो क्या होगा । 

 जहाँ बाढ़ आती थी वहाँ सूखा और जहाँ सूखा पड़ता था वहाँ बाढ़ का आना इसकी मुख्य वजह है। अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि 1 सेकेंड गति कम होने से इतना परिवर्तन हो रहा है तो अगर 1 सेकेंड के लिए पृथ्वी रूक जाये तो क्या होगा ? 
पृथ्वी पर प्रलय हो जाने बराबर होगा क्योंकि जैसे ही पृथ्वी 1 सेकेंड के लिए रूकना प्रारंभ करेगी वैसे ही पृथ्वी पर मौजूद लगभग सभी बिल्डिंग गिर जायेगीं, कहीँ ज्वालामुखी निकलने लगेगा तो कहीं समुद्र का पानी ही बहुत बड़ी बाढ़ जो दुनिया ने कभी नहीं देखा हो वैसी भयानक होगी। कहीं जमीन फट जायेगी। इस तरह हर जीव लगभग समाप्ति की कगार पर होगा। 

21 Aug 2018

भाग 100% सही है कैसे पता करें ? ( Possibityplus.in संभावना की अपार दुनिया )



  भाग  



यह आर्टिकल हम सबको यह बतायेगी कि भाग सत प्रतिशत सही है या नहीं क्योंकि हममे से  लगभग 50 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों को नहीं पता है भाग करने का सही तरीका। अब शायद आपके मन में यह जिज्ञासा या सवाल उठ रहा होगा कि कुछ तो बात है जो हमें जान लेनी चाहिए, तो मैं आपको बता दूँ कि यह पोस्ट पुरा जरूर पढ़ लेना चाहे आपको भाग आती हो या फिर नहीं क्योंकि जो मैं बताने जा रहा हूँ वो बहुत ही खास जानकारी है   । अगर भाग नहीं आती है तो आपको पढ़ना बहुत ही जरूरी है क्योंकि पढ़ने के बाद आप 100% भाग करना सीख जाओगे ।  



गणित एक ऐसा विषय है जिसे विज्ञान की जननी ( माता )  भी कहा जाता है । दरअसल यह कहना गलत नहीं है क्योंकि हम अपने दैनिक जीवन में जो भी गणना करते हैं वे गणित के अनुसार होती है । वैसे तो गणित में बहुत तरह - तरह की गणनाएं होती हैं पर इसकी सबसे छोटी और मुख्य गणना जोड़, घटना , गुणा और भाग  है । यह चार प्रकार की मुख्य गणनाएं हैं जो हर गणना में अतिआवश्यकरूप से उपस्थित मिलती है। या यह कह सकते हैं कि इनके बिना कोई गणना संभव नहीं है ।
इस पोस्ट में हम चौथे यानी भाग के बारे में वो जानकारी जानने जा रहे हैं जिसे लगभग 50 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों को नहीं पता है । मेरे कहने का तात्पर्य यह है कि लगभग 50 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों नहीं पता होता है भाग करने का सही तरीका । अगर आपको विश्वास नहीं है तो आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़कर देखो और अंत में यह जरूर कह देगें की यार यह जानकारी वाकई बहुत ही अच्छी और काम की है। अब हम आगे बढ़ते हैं।


  भाग सत प्रतिशत सही है, कैसे पता करें  ?  


भाग की सत्यता की जाँच करना बहुत ही आसान है।  बहुत से अध्यापक / अध्यापिका ( Teacher  )  जब भाग करते हैं तो अक्सर एक गलती करते हैं फिर चाहे जाने मे हो या अंजाने में हो पर इस गलती को छात्र और छात्राओं को भी पता नहीं चल पाता है और वह भी इसी तरह भाग करने लगते हैं तो बहुत हुआ अब ऐसा नहीं होगा। 
भाग की सत्यता जाँच करने का एक नियम / सूत्र है जो इस प्रकार है - 
भाज्य = भाजक × भागफल + शेषफल 

इस सूत्र के अनुसार भाज्य का मान भाजक और भागफल के गुणनफल तथा शेषफल के योग के बराबर होना चाहिए। 


चलिए अब हम एक छोटी सी भाग करके देखते हैं। 

माना 3 से 7 में भाग करना है, भाग करने पर भागफल 2.33333..  लगभग आता  है परन्तु इसका शेषफल  क्या होगा यही जानना ही जरूरी है। निचे दिए गए चित्र में दी हुई भाग देखिए -  



चित्र में दी गई भाग सही है कि नहीं यह पता करने के लिए हमें इन मानों निम्न सूत्र में रखने पर - 
 भाज्य = भाजक × भागफल + शेषफल


भाज्य ( 7 )  = भाजक ( 3 )  × भागफल ( 2.3 )  + शेषफल  ( 1  ) 
भाज्य ( 7 )  = 3 × 2.3 + 1  = 6.9 + 1
भाज्य ( 7 ) = 7.9 
चुँकि दाहिना पक्ष 7 से अधिक है अतः भाग गलत है भागफल सही होन के बाद भी। 


अब दुसरा चित्र देखिए - 




यह भाग भी वही भाग है और यह भाग बिल्कुल सही है कैसे देखिए -  
 भाज्य ( 7 )  = भाजक ( 3 )  × भागफल ( 2.3 )  + शेषफल  ( 0.1  ) 
भाज्य ( 7 )  = 6.9 + 0.1 = 7.0





चुँकि दोनों पक्षों का मान बराबर अतः भाग बिलकुल सही है। 

उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी लगा होगा। अपने कमेन्ट में जरूर बताएँ। धन्यवाद ! 

16 Aug 2018

दुनियाँ में कोई भी वस्तु बिना काम की नहीं है..


  दुनिया में कोई भी वस्तु बिना काम की नहीं है ..






बहुत - बहुत स्वागत है आप सभी का इस ज्ञान और प्रेरणा से भरे इस आर्टिकल में।
जी हाँ दोस्तों हम इस आर्टिकल वो बातें जानेंगे जो हमने शायद ही कहीं पढ़ा हो और यह जानकारी मैं अपने ज्ञान के आधार पर दे रहा हूँ। इसलिए इस जानकारी को पढ़ने के बाद आप कमेंट करके इसके बारे में जरूर बताएँ। चलिए अब जानते हैं विस्तार से इसके बारे में,

दुनिया में कोई भी वस्तु बिना काम की नहीं है, इसका मतलब यह है कि दुनिया में कोई भी वस्तु या जो भी कुछ भी हो उसका कुछ न कुछ उपयोग या मतलब जरूर है चाहे उपयोग देखने में बहुत ही नगण्य हो या जिसे साधारण भाषा में लगभग ना के बराबर कहते हैं। यहाँ पर हम एक ऐसे उदाहरण को शामिल करने जा रहे हैं जो हमारी जिंदगी से संबंधित है।



इस दुनिया में अगर कोई व्यक्ति यह महसूस करता है, सोचता, समझता, कहता या मानता है कि उसका इस दुनिया में पैदा होना व्यर्थ है। व्यर्थ का मतलब बिना किसी अर्थ या काम से होता है तो यह जान और समझ लिजिए कि इस दुनिया यानी पृथ्वी पर आपके पैदा होने का और रहने का कुछ न कुछ तो जरूर कारण है जो आपको यहाँ पर जन्म लेना पड़ा है। क्योंकि कोई भी वस्तु हो या व्यक्ति उसके होने का जरूर कोई  कारण या आवश्यकता है।  ऐसा नहीं है कि कोई भी व्यक्ति कोई भी काम को बिना कारण या जरूरत के ही करता है । जब किसी व्यक्ति को किसी भी चीज की जरूरत ही नहीं है तो वह काम ही क्यों करेगा। पर क्या ऐसा संभव है कि किसी व्यक्ति को कोई भी काम न हो बड़ा नहीं तो छोटा जरूर होगा।   यहाँ पर यह उदाहरण दो कारणों से यहाँ पर शामिल किया गया है - 

  1. बहुत से लोग अपनी जिंदगी की परेशानियों से तंग होकर अपने जीवन को बेकार और बिना किसी काम का समझने लगते हैं। लेकिन यह समझना कि हमारे जीवन का कोई मतलब नहीं है तो यह बिल्कुल गलत है। 
  2. लोगों को इस तरह की बेकार या नेगेटिव बातों से दूर करके एक नये रास्ते पर जो ऊर्जा से भरपूर हो पर ले जाना है  ।




दुसरी तरफ अगर हम बात करें छोटी से छोटी वस्तु की जिसे हम जाने - अंजाने यह कहते हैं कि यह वस्तु तो किसी काम की नहीं है, जैसे - आप या कोई भी व्यक्ति अक्सर घर में पडे़ फटे हुए कपड़े को बेकार समझ कर उसे फेंक देते हैं पर जब इसकी जरूरत पड़ती है तो हमें वह कपड़ा नहीं मिलता है तब जाके हमे इसकी उपयोगिता समझ में आती है । यहाँ पर यह देखने वाली बात यह है कि जहाँ पर जिस चीज की जरूरत होती है वहाँ पर उसी चीज या वस्तु का उपयोग किया जाता है किसी अन्य का नहीं। पृथ्वी पर जन्म लेने वाले हर व्यक्ति का कुछ न कुछ उपयोग या काम होता है, फिर चाहे आप हो, मैं हूँ, या दुनिया कोई भी व्यक्ति या बच्चा जो जन्म लेते ही मर गया हो हो सकता है उस बच्चे का इतना ही रोल हो जिंदगी में बिल्कुल फिल्मों की तरह  । 
दोस्तों हर क्रिया - प्रक्रिया बिना किसी कारण के नहीं होती है । एक बात और इंसान का हर वस्तु से कुछ न कुछ संबंध अवश्य होता है यह प्रत्यक्ष तौर पर हो या अप्रत्यक्ष लेकिन होता जरूर है बिल्कुल आयकर ( Income tax  ) की तरह जो हर सामान पर लगाया जाता है चाहे कितनी भी छोटी से छोटी वस्तु क्यों ना हो। जब इंसान का हर वस्तु, जीव - जन्तु आदि से संबंध है तो भला इंसान बिना काम का क्यों होगा। 
इसी प्रकार सभी वस्तुओं का उपयोग होता है।.. 

इस दुनिया में हर वस्तु, व्यक्ति या भगवान् ही क्यों न हो ये सभी हर पल बदलते रहते हैं....... ( इस पोस्ट को अगर आप पढ़ना चाहते हैं तो हमें कमेन्ट करके जरूर बताएँ। धन्यवाद !   ) 

आगे जारी है.... 

23 Jul 2018

सीम कार्ड को सेकेंडो में पुनः कैसे प्राप्त करें ?




 किसी भी खोई हुई सीम कार्ड को पुनः प्राप्त करें  

   

किसी भी सीम कार्ड को सेकेंडो पुनः कैसे प्राप्त करें तो इसका जवाब है आधार कार्ड। जी हाँ हम आधार कार्ड की मदत से बहुत ही आसानी से अपनी किसी भी कंपनी की खोई हो या चोरी हो गई सीम को पुनः प्राप्त किया जा सकता है। तो जानते हैं विस्तार से इसके बारे में ताकि बात पुरी तरह से समझ में आ जाये तो चलिए जानकारी को ध्यान से पढ़ते हैं ।


आजकल तरह - तरह के मोबाईल बाजार में मिलने लगे हैं जिन्हें देखकर हर किसी का मन मचलने लगता है और इसी कारण मोबाइल चोरी का मामला भी बढ़ रहा है  । मोबाईल चोरी होने से जो सबसे ज्यादा नुकसान और असुरक्षित मामला है वो सीम का ही होता है। दरअसल सीम में हमारे महत्त्वपूर्ण नंबर होते हैं जो सीम के खोने के साथ ही हमसे मिस् हो जाते हैं।


दरअसल सीम का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है जिससे आप किसी बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं। पर अब चिंता करने की कोई बात नहीं  क्योंकि अब आप या कोई भी व्यक्ति किसी भी सीम को ( चाहे वो चोरी हो गई हो या फिर कहीं गुम हो गई हो ) सेकेंडो में पुनः प्राप्त किया जा सकता है।



  सीम के गुम या चोरी होने के बाद उसे कैसे पुनः प्राप्त    करें  ?   


अगर आपकी कोई भी  सीम कार्ड  किसी भी वजह से खो जाता है तो आपको / हमें परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि हम अपने सीम कार्ड को अब सेकेंडो में ही पा सकते हैं ( अगर कोई भी सीम तीन महीनों से ज्यादा दिनों तक बंद है या इसमें कोई रिचार्ज जैसे - इंटरनेट रिचार्ज, मैसेज पैक, कालिंग पैक नहीं किया गया है तो ऐसी सीम को स्थायीरूप  बंद कर दिया जाता है और तब ऐसे सीम कार्ड  को पुन प्राप्त करना मुमुश्किल  होता है ) । जो लोग जानते हैं तो ठीक है लेकिन जो लोग इस बात को नहीँ जानते हैं उनके लिए यह बहुत बड़ी बात है और इसी चीज को ध्यान में रखते हुए मैंने यह पोस्ट बनायी है । चलिए जानते हैं कि क्या है इसकी प्रक्रिया। 



     किसी भी सीम कार्ड को प्राप्त करने की प्रक्रिया  

 


आजकल किसी भी कंपनी की  सीम क्यों न हो उसे सीर्फ आधार कार्ड के जरिए वैरिफाइ किया जा रहा है। चूँकि जब कोई भी सीम आधार कार्ड के जरिए निकाली जाती है तो वह सीम कार्ड  उस  सीम कार्ड  से लिंक हो जाता है और इसी की सहायता से हम अपनी किसी भी खोए हुए सीम कार्ड  पुन प्राप्त कर सकते हैं। 
मान लिजिए किसी लड़के की जियो की सीम  खो गई तो वह क्या करे कि वही नंबर वाली जियो की सीम पा जाये ?     
यहाँ पर इस लड़के को कुछ मेहनत करने की जरूरत नहीं है सीम कार्ड  पाने के लिए , बस किसी जनसेवा केन्द्र पर या  जियो स्टोर या जहाँ जियो की सीम मिल रही हो वहाँ पर जाकर अपने सीम कार्ड का नंबर बताना है और अपने अंगूठे को स्कैन कराकर अपनी सीम कार्ड को ले लेना है। 


नोट : 

यहाँ पर जियो सीम का उदाहरण दिया गया है ना कि इसका प्रचार किया गया है।  इसी तरह यानी सभी प्रकार की सीम को पुनः प्राप्त किया जा सकता है ।

 

12 Jul 2018

Youtube ki kisi bhi video ko download kaise kare ?



स्वागत है आप सभी का इस पोस्ट में जिसका शीर्षक है youtube की किसी भी विडियो को गैलेरी या मेमोरी कार्ड में download करना । यह जानकारी 100% सही है क्योंकि इसे मैं उपयोग करने के बाद ही आप लोगों के साथ शेयर कर रहा हूँ। 
हम सबको यह पता है कि विडियो देखने का सबसे बड़ा प्लैटफॉर्म या जरिया है youtube. इस प्लेटफार्म पर रोज लगभग लाखों - करोड़ों की संख्या में लोग विडियो देखने के लिए आते हैं।




यहाँ पर विडियो का भरमाल है और विभिन्न प्रकार के विडियो होती हैं मौजूद । अगर हमें बहुत सारी विडियो पसंद है तो देखने वाले किसी भी बन्दे पास इतना ज्यादा समय नहीं होता है कि वो बहुत सारी विडियों को एकसाथ देख सके। इसलिए youtube पर download का विकल्प दिया होता है जिसका उपयोग करके बहुत सारी विडियो को offline करके यानी जब internet connection ना भी हो तब भी download किये इन विडियो को आसानी से कहीं भी देखा जा सकता है । पर इसमें कुछ कमियाँ हैं जो ग्राहको को ज्यादा पसंद नहीं है यह विकल्प।




कमियाँ

यह इस प्रकार हैं -
  • सभी विडियो को डाउनलोड नहीं किया जा सकता इस फिचर या विकल्प से।
  • डाउनलोड की गयी विडियो को सिर्फ कुछ दिनों तक ही देखा जा सकता है  । जैसे : 28 दिन या इससे कुछ ज्यादा हो सकता है।
  • डाउनलोड किए इस विडियो को किसी को भी नहीं दिया जा सकता है । जैसे : अगर हम डाउनलोड किए गये विडियो को SHAREit , Xsender या कोई भी app हो इनके द्वारा हम youtube की download की गई किसी भी विडियो को किसी के साथ share ( बाँटना , देना  ) नहीं कर सकते हैं।





Youtube की किसी भी विडियो को download करना। 

यूट्यूब की विडियो को डाउनलोड करने कुछ तरिके है जिनकी सहायता से  यूट्यूब की किसी भी विडियो को गैलेरी या मेमोरी कार्ड में आसानी से  डाउनलोड किया जा सकता है तो देखते हैं इन तरिको के बारे में। 


  1. VidMate app 


VidMate एक ऐसा app है जो youtube की किसी भी विडियो को गैलेरी बिलकुल आसानी से डाउनलोड कर देता है। अगर आपने अभी तक यह app install नहीं किया है तो install कर लीजिए।
 download VidMate app  

link पर क्लिक करने के बाद एक विंडों खुलती है, तीर द्वारा दर्शाये गये link पर क्लिक करने पर app download होने लगती है। app download होने के बाद इसे file manager में जाकर इसे install कर लीजिए । चित्र को देखिए - 





अब जानते हैं कि यह काम कैसे करता है या इस app से विडियो को डाउनलोड कैसे करें ? 




 विडियो डाउनलोड करने की विधि 

विडियो डाउनलोड करने की विधि इस प्रकार है - 
  • जिस भी विडियो को डाउनलोड करना हो तो download वाले विकल्प के बाँईं तरफ जो share का विकल्प ( option  ) दिया है उसपे click करना है । निचे दिए चित्र को देखिए । 



यहाँ पर क्लिक करने के बाद एक विंडो खुलेगी जिसमें बहुत सारे app होंगे। इसमें हमें vidmat app को ढूंढकर उसपे क्लिक करके खोलना है । निचे दिए गए चित्र को देखिए । 




  • अब VidMate app विडियो की quality ( गुण  ) के बारे में विवरण देगा कि आपको कैसी quality का विडियो चाहिए । चित्र देखिए - 




इस app की यह भी विशेषता है कि यह हमें दो options ( विकल्प ) देता है -

  1. Music   और 
  2. Video 
अगर हमे विडियो नहीं देखना है केवल music ही सुनना है तो हम music वाले option का उपयोग कर सकते हैं । इसमे अलग - अलग  quality की music और video दी जाती है। जिसकी mb जितनी ज्यादा है वो music या  video उतनी ही ज्यादा अच्छी quality की होगी ।



10 Jul 2018

Internet kyu nahi chal raha hai?

       

  इंटरनेट क्यों नहीं चल रहा है ?

आज इस युग में लगभग 90 प्रतिशत लोग मोबाइल फोनस् का इस्तेमाल कर रहे हैं और इसमें से करीब - करीब 70 प्रतिशत लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं।



 एक सर्वे के अनुसार भारत में विश्व का सबसे ज्यादा इंटरनेट का उपयोग किया जा रहा है। इसलिए अब भारत इंटरनेट उपयोग करने वाला न० 1 देश हो गया है और इसी के साथ भारत में मोबाइल उपभोक्ताओं की संख्या भी दुनिया में सबसे ज्यादा है।

यहाँ पर एक सवाल उठकर सामने आता है कि मोबाइल फोनस् का इस्तेमाल इतना ज्यादा कैसे होने लगा ?
मोबाइल फोनस् का इस्तेमाल इंटरनेट के कारण से बढा़ है। अगर ऐसे में आपके मोबाइल का इंटरनेट अच्छी तरह से काम ना करे तो मोबाइल का क्या मतलब रह जाता है क्योंकि आजकल मोबाइल में ज्यादातर फिचर इंटरनेट की मदत से ही चलते हैं।  जैसे - youtube , facebook, twitter, Google, mobile TV, enews paper, या कोई ऐसी जानकारी जो आप जानना चाहते हैं वो सब आपको इंटरनेट पर आसानी से मिल जाती है।

अब सवाल यह है कि आखिरकार इंटरनेट चलता क्यों नहीं है तो इसके ना चलने या धीमी गति से का बहुत सारे कारण हो सकते हैं जो इस प्रकार हैं -

  • नेटवर्क का ना होना या जल्दी - जल्दी नेटवर्क का बदलना  ।
  • सीम का गलत स्लाट में लगाकर उपयोग करना।
  • मोबाइल फोनस् की रैम ( RAM  ) का कम होना ।
  • नेटवर्क का automatic mood पे होना। 
  • मोबाइल में एकसाथ कई विडों चलाना ।
  • इंटरनेट डाटा पैक का समाप्त होना   ।
  • मोबाइल फोनस् में बहुत ज्यादा app का होना।
  • app का पुराना version का उपयोग करना  ।


इंटरनेट का ना चलना या बहुत धीमी गति से चलना इन्हीं कारणों मे से कोई हो सकता है।
अब चलिए इसके उपायों को अपनाकर इंटरनेट का लुत्फ उठाया जाये ।  निम्नलिखित उपाय हैं -

  1. सबसे पहले अपने मोबाइल फोनस् में यह सुनिश्चित करेक कि मोबाइल में नेटवर्क है कि नहीं क्योंकि जबतक मोबाइल नेटवर्क नहीं होगा तबतक ना तो हम कोई calls कर पायेंगे और नाहीं इंटरनेट चला सकते हैं। अगर मोबाइल में नेटवर्क मौजूद है तो अब हमें दुसरी बातो को चेक करना चाहिए। 
  2. सीम का गलत स्लाट में लगाने का मतलब यह है कि इंटरनेट की स्पीड का कम होना  । जिस सीम से हम इंटरनेट चलाते हैं उसे हमें स्लाट 1 में डालना चाहिए जिसे पहली सीम भी कहा जाता है । जब सीम स्लाट 1 ( एक  ) में होती है तो उसकी स्पीड बहुत बढ़ जाती है । अगर पहले से ही इसमें है तो ठीक है इसे इसी में रहने दें। 
  3. मोबाइल फोनस् की रैम और प्रोसेसर का कम होना भी इंटरनेट की गती को कम कर देता है । अगर आपके मोबाइल की रैम पर्याप्त नहीं है तो रैम का बढा़ये बेकार app और बड़ी फाइलों को हटाकर। ऐसा करने से मोबाइल तेजी से काम करने लगती है। ऐसा करने के बाद भी अगर इंटरनेट नहीं चलता है तो मुमकिन है कि यह वह कारण नहीं है जिससे इंटरनेट नहीं या बहुत धीमा चल रहा है । तब हमें दुसरा अन्य कारण ढूँढना चाहिए। 
  4. नेटवर्क का autoautom mood पे होना भी इंटरनेट की गती को बहुत प्रभावित करता है क्योंकि इस मूड पर हमेशा नेटवर्क बदलता रहता है जिसके कारण नेटवर्क कभी छोड़ता है तो कभी पकड़ता है परिणामस्वरूप नेट की स्पीड या गति ज्यादा नहीं हो पाती है। अगर ऐसा है तो सबसे पहले इसे किसी ऐसे मुड पर करें जिसपे  भरपूर नेटवर्क मिलता रहे। जैसे - 4G, 4G lte, 3G, 3G lte.
  5. मोबाइल फोन का स्लो होने का एक बड़ा कारण यह भी है कि बहुत से लोग एक साथ कई app चलाने लगते हैं। जैसे मान लिजिए सबसे पहले हमने facebook खोला, इसका उपयोग करते समय हमने youtube पर कोई विडियो देखने लगे या ट्विटर पर ट्वीट करने मे व्यस्त हो गये और ऐसे में किसी दोस्त का watsup mesmess आ गया तभी हम इसे भी इसी तरह छोड़कर watsup mesmess में व्यस्त हो गये तो इस तरह अब मोबाइल को तीन - तीन लोड एकसाथ लेना पड़ रहा है तो ऐसे  में हमारा मोबाइल स्लो ही नहीं बल्कि हैंग भी करने लगता है । ऐसे में क्या करें कि, ना तो मोबाइल हैंग करे और ना ही इंटरनेट स्पीड कम हो। हमें उन विंडों को बैक करते हुए  बंद कर देना चाहिए ना कि डायरेक्ट बीच वाली की ( होम की उपयोग करने से कोई भी विंडों बंद नहीं होती है। बल्कि बैकग्राउंड में चलती रहती हैं ) ऐसा करने से नेट की स्पीड बहुत बढ़ जाती है।
  6. इंटरनेट अगर एकदम ना चले तो ऐसे में हमें अपने डाटा पैक को भी चैक कर लेना चाहिए  ।
  7. मोबाइल फोनस् में बहुत ज्यादा app का होना भी एक कारण हो सकता है ऐसे में बेकार या कम उपयोगी app को delete कर देना चाहिए जिससे रैम और नेट स्पीड दोनों बड़ेगी। 
  8. नेट ( इंटरनेट  ) की स्पीड में कमी का जिम्मेदार हमारे app के  वर्जन का पुराना होना भी होता है इसलिए हमेशा अपने app को up to date करते रहिए और मजा लिजिए नेट की स्पीड का क्योंकि हम उपयोग कर रहे हैं 4G lte network जो हमें देता है सुपर स्पीड। 


अगर इन सब बातों से भी अगर बात नही बनती है तो कोई बात नहीं अभी एक बात बाकी है जो 100% तक काम करेगी। इसमें हमें कोई ताम - झाम नहीं करना है बस हमें अपने मोबाइल को " Restart  " करना है और इसके बाद जो चाहे वो चलाकर देख सकते हैं नेट की स्पीड भरपूर मिलेगी। 

यह लास्ट वाली ट्रीक बहुत काम की है इसका उपयोग दस से पन्द्रह दिनों के अंदर में हो सके तो जरूर करें। हमे अपनी राय जैसे ट्रीक काम कर रही है कि नहीं, या आर्टिकल के बारे में सवाल कर सकते हैं।  इसी के साथ हम यहीं पर विराम ले रहे हैं । धन्यवाद  !

3 Jul 2018

Mi mobile ka remote kaise kaam karta hai ?



आज इस पोस्ट में आप ऐसी जानकारी पानेवाले हैं कि जिसे सुनकर उछलेंगे नहीं तो खुश जरूर हो जायेंगे। जी हाँ यह एक रोचक जानकारियों मे से है।


 mi मोबाईल की मदद से हम DTH, टीवी, DVD player , Mi TV / Mi Box ,  A.C, Set - top box, box, projector , fan ( जो रिमोट से चलता हो  ), A / V reciever और camera को बिल्कुल आसानी से चला सकते हैं । पर कैसे चलिए जानते हैं ।





Mi मोबाईल को DTH का रिमोट बनाना 

Mi मोबाईल में बहुत सारे ऐसे फिचर जिनका उपयोग करके अपने Mi मोबाईल को ही नहीं बल्कि खुद को भी स्मार्ट बना सकते हैं । Mi का कोई भी सेट हो जो स्क्रीन टच हो तो इसका उपयोग हम रिमोट की तरह कर सकते हैं । मान लीजिए आपके टीवी की रिमोट कंट्रोल काम नहीं कर रहा है याया वह खराब हो गया है तो आपको टीवी देखने में मजा नहीं आयेगा क्योंकि हम टीवी पर बहुत सारे प्रोग्रामों को देखते हैं और ऐसे में रिमोट खराब होने से आपको चैनल बदलने के लिए आपको बार - बार सेट टॉप बॉक्स के पास जाना पड़ता है  । अगर आपके पास mi की मोबाईल है तो आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि यह आपके रिमोट की कमी दूर कर देता है। 



Mi मोबाईल को DTH का रिमोट कैसे बनायें ?

क्या आपके मन में यह सवाल उठ रहा है कि भला mi मोबाईल की मदद से हम DTH, टीवी, DVD player , Mi TV / Mi Box ,  A.C, Set - top box, box, projector , fan ( जो रिमोट से चलता हो  ), A / V reciever और camera को कैसे चलाया जा सकता है। इस पर विश्वास कैसे करें ? अगर ऐसी कोई बात है तो मैं आपको बता देंता हूँ कि मैं जो भी जानकारी देता हूँ उसे मैं पहले खुद टेस्ट यानी चेक करता हूँ और इसके बाद उसको आपके समक्ष प्रस्तुत करता हूँ। चलिए इसकी विध देखते हैं - 

यह इस प्रकार है -
अपने mi मोबाईल को DTH यानी free dish का रिमोट बनाने के लिए, अपने mi मोबाईल को खोले और Mi remote नामक यह app खोलें । निचे चित्र में देखिए -



 याद रहे कि पहली बार internet connection जरूरी है । इसलिए data connection को on करदें । अब जो विंडों खुलती है वो इस चित्र के अनुसार उपर बाँए साइड में " + " को क्लिक करें।  निचे दिए चित्र में देखिए



क्लिक करने के बाद एक नयी विंडों खुलती है जिसमें बहुत सारे रिमोटो को जोड़ने ( add  ) लिए विकल्प दिए गए हैं  ।  अपनी जरूरत के मुताबिक आप विकल्प चून सकते हैं। चित्र में देखिए -


चित्र में दिये गये विकल्प - DTH, टीवी, DVD player , Mi TV / Mi Box ,  A.C, Set - top box, box, projector , fan ( जो रिमोट से चलता हो  ), A / V reciever और camera हैं।

अपने उपयोग के अनुसार विकल्प का चुनाव करें । चूँकि हम यहाँ free dish या DTH के रिमोट की बात कर रहे हैं इसलिए हम set - top Box पर क्लिक करेंगे । अब इसमें जो विंडों खुलती इसमें भी बहुत सारे विकल्प दिए गए हैं जिसमें से हमें DD Free Dish को चुनना है । चित्र देखिए -



इसको क्लिक करने के बाद आपको एक नयी विंडों मिलती है जिसमें आपसे एक बार पूछा जाता है पावर on करने के बारे में । आपको power on करने पर आपका रिमोट तैयार हो जाता है उपयोग के लिए  । अब आप चैनल बदले या आवाज़ बढ़ाये कर सकते हैं। रिमोट का चित्र देखिए -





इसी प्रकार DVD player का रिमोट का उपयोग कर सकते हैं। चलिए DVD player के बारे में भी जानकारी ले ली जाये।


DVD player के लिए रिमोट बनाना

Mi मोबाईल को DTH का ही नही बल्कि DVD player के रिमोट के लि भी उपयोग किया जा सकता है । जब mi remote app को open करते हैं तो पहले की तरह फिर कई तरह के विकल्प हमारे सामने आ जाते हैं। अब इसमें DVD player के विकल्प को चुनते हैं क्योंकि हमें DVD player की आवश्यकता है। जब हम इस विकल्प को चुनते हैं तो हमारे सामने एक नयी विंडों खुलती है जिसमें बहुत सारे DVD player के नाम होते हैं। अब हमें उस DVD player को चुनना है जो आप अभी उपयोग कर रहे हैं। जैसे - Sony , Philips, Sumsang   और L.G आदि DVD player हैं । यह चुनकर आप अपने Mi मोबाईल से रिमोट का मजा ले सकते हैं।


दोस्तों आप हमें अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं ऐसी ही एक से बढ़कर एक जानकारियों को पाने के लिए हमारे साइट को सब्सक्राइब करें। या flow करें । धन्यवाद  !  

you may like this