सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

सरदर्द को सेकेंड में दूर करें कहीं और कभी भी

  आजकल सरदर्द होना आम बात जैसा हो गया है क्योंकि सरदर्द होने के लिए एक कारण नहीं बल्कि अनेकों प्रकार के कारण हैं। जैसे - मानसिक तनाव, लगातार किसी भी वस्तु को देखना, ज्यादा सोचना आदि मुख्य कारणों के अंदर आता है। और इनको दूर या कम करने के लिए तमाम प्रकार की दवाईयाँ भी मिलती हैं।  इनका इस्तेमाल करना सही है पर छोटे-छोटे सरदर्द होने पर अगर हम दवाईयाँ लेने लगते हैं तो हम बड़ी बिमारियों को दावत देने का काम कर रहे हैं। कहने का मतलब यह है कि हमें हर छोटे- मोटे सरदर्द के लिए दवा लेना सही नहीं होता है। वैसे सरदर्द दूर करने के बहुत सारे उपाय हैं जो अलग अलग कारणों से उत्पन्न होता है। इसी वजह से इनके दूर करने के उपाय या तरीके भी अलग होते हैं। दवा पर आश्रित होने से  निम्नलिखित प्रकार के आवश्यक प्रश्न उठते है -  क्या हम दवाईयाओं पर निर्भर रह कर सही कर रहे हैं ? क्या हर समय हमारे पास दवाईयाँ रह सकती है? क्या हमारे पास हर समय पैसे होगें दवा के लिए? क्या हर छोटे- मोटे सरदर्द के लिए दवा लेना सही है?  क्या दवा के साइड इफेक्ट नहीं होते हैं ?   इन सभी प्रश्नों से यह निष्कर्ष निकलता है कि सरदर्द को दू

Ipl 20-20 dekhen bilkul Free me

    क्या आप Dreem 11 IPL 20-20 देखना चाहते हैं और इसके लिए ढूंढ ढूढकर परेशान हो चुके हैं तो आपको अब और कहीं भटकने की जरूरत नहीं है। एक बात और इस पोस्ट को पुरा पढ़ लेना नहीं तो उपयोग करने में थोड़ा कठिन लग सकता है।   Star sport Live cricket  नाम का एक ऐप है जिसे आप Play store से डाउनलोड कर सकते हैं जो सबसे अच्छी बात है कि क्योंकि प्ले स्टोर ऐसे ऐप को रखता है जो आपके / हमारी निजी जानकारी नहीं लेते हैं। यानी हम बिल्कुल सुरक्षितरुप से इसका उपयोग कर सकते हैं। तो देर मत करें इस ऐप को   Download    करें। इसको इस्तेमाल करने की प्रक्रिया के बारे में निचे बताया गया है  वैसे तो Google पर ऐसे अनेकों ऐप मिल जायेंगे जिसपर आप आईपीएल देख सकते हैं पर इन ऐपों से एक खतरा बना रहता है कि हमारा डेटा यानी हमारी परसनल जानकारी कोई चूरा न ले। और इसकी संभावना बहुत ही अधिक रहती है। इसलिए आप कोई भी ऐप अगर Google से लेकर उपयोग कर रहे हैं तो सावधान रहें नहीं इसका खामियाजा आपको भुगतना पड़ेगा।    ऐप को इस्तेमाल कैसे करें ?     इस ऐप को डाउनलोड करने के बाद आपको निचे दिखाए गए चित्र जैसा आपके डिस्प्ले पर दिखाई देग

Capacitor की पुरी जानकारी A to Z

 आपका स्वागत है इस पोस्ट और वेबसाइट Possibilityplus.in पर इस पोस्ट में हम कैपासिटर की पूरी जानकारी लेने वाले हैं जैसे -  कैपासिटर किसे कहते हैं ? इसके उपयोग  इसे कहाँ - कहाँ लगाते हैं?  इसमे क्या होता है? ये कितने प्रकार का होता है? कैपासिटर किसे कहते हैं ?                वह युक्ति जिसके दो प्लेटो के बिच विद्युतरोधी या परावैधुत वस्तु ( जैसे कागज, हवा, प्लास्टिक, माइका आदि) लगा होता है उसे कैपासिटर ( संधारित्र) कहते हैं।  सुत्र के अनुसार परिभाषा - किसी चालक की वैधुत धारिता, चालक को दिए गए आवेश तथा चालक के विभव में होने वाली वृद्धि के अनुपात को कहते हैं।  सुत्र - C = q/v जहाँ C = चालक की धारिता  q = चालक को दिया गया आवेश तथा  v = चालक के विभव में होने वाली वद्धि है।  कैपासिटर को हिन्दी में संधारित्र कहा जाता है पर आम बोलचाल की भाषा में ज्यादातर कंडेंसर कहते हैं। कैपासिटर अंग्रेजी शब्द है ना कि हिन्दी।  संधारित्र का मात्रक फैरड  होता है।  संधारित्र के उपयोग  कैपासिटर एक बहुउपयोगी वस्तु है जो दुनियाँ के हर इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं में उपयोग होता है। इसका उपयोग प्रत्यावर्ती धारा ( A.C.  Curr

आश्चर्यजनक फैक्ट्स जो सोचने पर मजबूर कर दें

आश्चर्यजनक फैक्ट्स  नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है Possibilityplus.in पर  इस आर्टिकल में हम कुछ ऐसी रोचक जानकारियाँ जानने वाले हैं जो इन्ट्रेस्टिंग ही नहीं बल्कि ज्ञान की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। आइए आगे पढ़ते हैं >> Facts No.1    प्रकाश की गति है इतनी तेज़   प्रकाश की गति है इतनी तेज़ की सेकेंडो में तय करती है लाखों किलोमीटर का सफर। प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर / सेकेंड है।  जो अपने आपमें एक आश्चर्यजनक बात है और इसीलिए जब बिजली कड़कती है तो प्रकाश यानी लाइट सेकेंड के अन्दर ही हमारे पास पहुँच जाती है।  Facts No.2    उजाले में भी अँधेरा या अँधेरे में भी उजाला होता है  क्या आप जानते हैं कि अँधेरे में भी उजाला होता है या फिर इसका उल्टा कहें तो उजाले में भी अँधेरा होता है। तो यह तथ्य बिल्कुल सही है, कैसे और क्यों उदाहरण लेकर समझते हैं।    जब किसी अँधेरी जगह पर उजाला किया जाता है तो   इसके विपरीत उजाले में भी अँधेरा मौजूद होता है यह बात स्पष्ट हो जाती है।  Facts No.3   किसी वस्तु के हर दृश्य/पहलू को एकसाथ नहीं देखा जा सकता  इस बात को समझने के लिए हमें इसकी गहराई में जाना पड़

भावनाओं के उपयोग से अपने जीवन को कैसे खुशहाल और सफल बनाएँ ?

इस दुनियाँ में हम वो पा सकते हैं जो चाहते हैं पर शर्त यही है कि क्या हम जो पाना चाहते हैं उसके लायक हैं या फिर उतनी मेहनत कर सकते हैं ? अगर "हाँ" तो जरूर पा सकते हैं बस हमें अपने काम को बखूबी करने की आवश्यकता है। आज के इइस पोस्ट में हम ऐसी ही जानकारी लेने जा रहे हैं जो बहुत आवश्यक है।  नोट : अगर हमनें इस पोस्ट में दी गई जानकारी को बारिकी से समझ लिया तो हमें हर काम में सफलता मिलने की संभावना बढ़ जायेगी। क्योंकि हम यह जान चुके होगे कि हमें कब, कहाँ, क्या और कैसे करना है किसी काम को । हो सकता है कि कुछ लोगों को इसमें बताई गई बातें पल्ले ना पड़े, पर संभवतः समझाने का भरसक पुरा प्रयास किया गया है। हम भावनाओं को कितने हद तक अपने वस में कर सकते हैं  यह हमारी इच्छाशक्ति और प्रयत्न पर निर्भर करता है ।     दुनिया का कोई भी शक्स ऐसा नहीं होगा जो बिना किसी भावना ( फिलिंगस् ) के हो क्योंकि बिना किसी भावना के कोई जिंदा ही नहीं रह सकता है। इस तरह हम यह भी कह सकते हैं कि हमारी जिन्दगी भावनाओं के कारण ही प्रभावित होती रहती है। शुरुआत में हमें यह भाव उभरने नहीं देंगे क्योंकि जबतक हम इसको सम

भिन्नों को हल करने के लिए ल. स. क्यों निकाला जाता है ?

  आपका स्वागत है Possibilityplus.in. पर जब भी किसी भिन्न को हल करना हो चाहे भिन्न का जोड़ हो या घटाना तब इन प्रकार की भिन्नों को हल करने के लिए हमें भिन्नों के हरों का लघुत्तम समापवर्तक निकालना ही पड़ता है। ऐसा क्या कारण है कि ऐसा होता है।  इस पोस्ट में हम इसी के बारे में बड़ी ही सरलता से यह जानने वाले हैं कि भिन्नों को हल करते समय इनका लघुत्तम समापवर्तक ( ल. स. ) क्यों निकालना आवश्यक होता है। हम भिन्नों को बिना ल.स निकाले भी हल कर सकते हैं पर केसे हम इसी पोस्ट में जानेंगे पर पहले ल. स का कारण जान लेते हैं। आइए आगे पढ़ते हैं >>> इसको अच्छी तरह से समझने के लिए हमें कई उदाहरणों को सामिल करना होगा।    उदाहरण 1.         इस में हमें हर ( 5 व 7 ) का ल.स. निकालना पड़ेगा पर क्यों चलिए इसका मूल कारण देखते हैं। हम देख रहे हैं कि 5 और 7 दोनों अलग अलग संख्याएँ हैं। सबसे पहले इन दोनों हरों को एकसमान संख्या में बदलना होगा तभी हम काॅमन ले सकते हैं। अगर ल.स की बात करें तो इनका ( 5 और 7 का ) ल.स  35 होगा। अब इसी 35 का गुणा और भाग दोनों भिन्नों के अंश व हर में करना होगा। गुणा करने के बाद

गुणा को जोड़ से पहले हल करने का सबसे बड़ा कारण

  नमस्कार आप सभी का स्वागत है इस पोस्ट में,  हमें यह बात पता ही है कि जब जोड़ और गुणा दोनो एक साथ हों तो हमें सबसे पहले गुणा करना होता है और अगर हमसे कोई यह पूछे कि क्यों तो हममें से अधिकांश लोगों का जवाब यही होगा कि बोडमास नियम के अनुसार ऐसा होता है। मगर ये उत्तर हमारे दिमाग को शायद पूरी तरह से संतुष्ट नहीं करता है। चलिए इसके बारे में पुरी जानकारी लेते हैं। उदाहरण 1.    4 × 3 + 5  = ? इस सवाल को हम बोडमास नियम से हल करेंगे तब  4 × 3 का हल ( 12 ) सबसे पहले होगा। पर अगर इसे हमें बिना बोडमास नियम के समझना है तो कैसे समझेंगे। दरअसल गुणा जोड़ का ही एक रुप है जो जोड़ को आसान और इसे ( जोड़ ) को कम समय में हल करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। माना 4 + 4 + 4  एक जोड़ है जिसे हमें जोड़ना है।  अब आप शायद यह सोच रहे होंगे कि ये क्या सवाल है, इसे तो कोई बच्चा भी हल करलेगा। दरअसल इसी के माध्यम से हम बहुत आसानी से समझ सकते हैं। ( चार ) 4 + 4 + 4  को हम देख रहे हैं कि यह 3 बार है तो इसे ऐसे 4 × 3 या 3 × 4 लिख सकते हैं। इसे विस्तार से समझने के लिए हमें इसके पुरे स्टेप्स को देखना होगा।  4 +
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus