सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

July 23, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भाग में शून्य या मूल नियम.. By : Possibilityplus.in

भाग को पूरी तरह से सीखने और समझने के लिए शून्य भागफल कब - कब आता है और कब नहीं। इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़िएगा तभी यह स्पष्ट होगा। 

       दरअसल शून्य भागफल के बारे में जानकारी बहुत कम लोग ही जानते हैं और यही कारण है कि भाग को पुरी तरह से हल नहीं  कर पाते हैं।

 शून्य भागफल वाली भाग  उदाहरण 1.   2 से 221 में भाग करने की प्रकिया को देखिए ➡️


ऊपर 👆 चित्र में विस्तारपूर्वक भाग को दर्शाया गया है जिससे हर एक चरण ( steps ) अच्छी तरह से समझ में आ जाये। यह चरण इस तरह से है - सबसे पहले दाहिने 2 को भाग किया गया है।फिर दूसरे 2 को भाग किया गया है। अब 1को निचे उतार लिया। चूँकि एक बार भी भाग नहीं जायेगी तो इसे 0 बार ले जाना पड़ा है।अब भाग  . 5 बार जायेगी ।घटाने पर शेष शून्य आया है।


मूलनियम

ज.  जब भााजक से किसी भाज्य में भाग करते हैं तो भाजक का एक ऐसी संख्या में गुणा करते हैं कि गुणनफल भाज्य के बराबर हो या फिर कम। 
भाजक × संख्या ( भागफल ) = भाज्य  या भाजक × संख्या ( भागफल ) < भाज्य 
     यह नियम भाग के सूत्र >>>>>
 ( भाजक × भागफल + शेषफल = भाज्य )  का ही रुप है।





   यह एक ऐसा नियम है ज…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus