सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अक्तूबर 25, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पृथ्वी पर पानी है पर चन्द्रमा पर नहीं ऐसा क्यों ?

पृथ्वी और चंद्रमा दोनों पर पानी के होने या ना होने की वजह है इनका वातावरण  अब ये वातावरण  क्या है इसको जाने बिना हमारी जानकारी अधुरी है। 









वातावरण (atmosphere,environment) 

    वातावरण का शाब्दिक अर्थ जानने के लिए हमें इसका संधि विक्षेद करना होगा। संधि विक्षेद वातावरण = वात + आवरण
वात का मतलब हवा  ( हवा = वात, वायु, बयार, पवन आदि ) होता है। इसके बाद आवरण का मतलब परत, कवर आदि होता है। इन दोनों शब्दों को एक साथ मिलाकर अर्थ निकाले तो इसकी परिभाषा इस प्रकार होगी - वातावरण : हमाारे चारों तरफ जो हवा का आवरण है इसे ही वातावरण कहते हैं।   अब सवाल यह है कि यह वातावरण किस बात पर निर्भर करता है, कैसे बनता है और क्यों ?

वातावरण उत्पन्न होने के कारणवातावरण को उत्पन्न करने वाला कारण है गुरुत्वीय त्वरण (gravitational acceleration)     जिस ग्रह का गुरुत्वीय त्वरण जितना अधिक होगा उस ग्रह पर उतना ही ज्यादा वातावरण होगा। हम जानते हैं कि पृथ्वी का गुरुत्वीय त्वरण चन्द्रमा से अधिक है। यही कारण है कि चन्द्रमा पर वातावरण बहुत कम है। अब आती है उस सवाल की जो सारे सवालों का जवाब देगा। क्या गुरुत्वीय त्वरण भी किसी कारण …
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus