सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मार्च 17, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

संभव और असंभव का भेद...

दुनिया में ना तो कोई काम पूर्णतः संभव है और नाहीं पूर्णतः असंभव 
ये आर्टिकल/पोस्ट उन सभी लोगों के लिए है जो कहिं न कहिं किसी क्षेत्र/कार्य में सफल नहिं है और निराशा लिए हुए बैठे हैं । मुझे इस बात में कोई संदेह नहिं है ( आम या साधारण भाषा के अनुसार ) कि ये जानकारी आप सभी को फायदा या लाभ देगी । पर कुछ न कुछ तो संदेह ज़रूर होता है ( क्योंकि कोई भी चीज/कार्य या अन्य बात पूर्णतः संभव नहिं होती है ) । दरअसल मैं जो जानकारी share ( देता या बाँटता ) हूँ  उसे पारदर्शी बनाना चाहता हूँ और इसलिए मैं कोई गलती नहीं चाहता हूँ ।




सो दोस्तो आज हम जानेंगे कि कैसे हर काम पूर्णरूप से असंभव ही नहीं बल्की पर्णरूप से संभव भी नहीं होता है ।  ये मूल मंत्र की तरह है इसके इस्तेमाल से आपका नजरिया बदल जायेगा और आप हर काम मे संभावना बना पायेंगे । इसकी सहायता से हम सभी कामों में तरक्की कर सकते हैं । अब शायद आपके मन में यह बात आ रही होगी कि ये कैसी बात या कैसे हो सकता है ।

 अगर आ रही है तो आनी भी चाहिए क्योंकि जब तक हमें या किसी को कोई बात ना समझ में आये तो उस बात पर अमल या उसका विश्वास नहीं करना चाहिए । चाहे कोई अपन…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus