सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

जुलाई 28, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गिरते समय हमारे हाथ क्यों फैल जाते हैं और हमें सपने कैसे दिख जाते हैं आँखें बंद होते हुए भी ?

क्या आप जानते हैं कि हमारी धड़कन, हमारी सांसें को कौन चलाता है ? हमें सपने आँखों के बंद होने के बावजूद भी कैसे दिख जाते हैं, यही नहीं हम सही गलत जो भी करते हैं इसके पीछे क्या राज है इन सभी के बारे विस्तार से जानेंगे।

इस आर्टिकल में हम ऐसी बातें जानेंगे जो हमारे जीवन जीने के तौर-तरीकों को ही नहीं बल्कि हमें अपनी असली स्वतंत्रता से जीने की सही मामले में आजादी मिल जायेगी। इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़िएगा और अपने किमती राय भी दिजिए।


सबसे पहले इस सवाल को जानते हैं कि कैसे हमारे हाथ शरीर के गिरते समय अपने - आप फैल जाते हैं।




 हमारे दैनिक जीवन में अनेक ऐसी क्रियाएँ अथवा घटनाएँ हैं जिनके बारे में हम कहीं न कहीं पूरी तरह से नहीं जानते हैं। उन्हीं में से एक यह है कि जब हम गिरने वाले होते हैं तो हमारे हाथ फैल जाते हैं।ऐसा क्यों होता है यह सवाल अगर अपने आप से पूछो तो ज्यादातर लोगों को इसका ठीक - ठीक उत्तर नहीं मिल पाता है। चलिए अपने शरीर के गुण के बारे में जानते हैं।









 गिरते समय हमारे हाथ क्यों फैल जाते हैं ?        हमारे हाथ का फैलना ( गिरते समय ) हमारे शरीर के एक विशेष गुण का होना है। …
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus