सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हम जिंदगी में सही जा रहे हैं या नहीं कैसे पता करें (How to know if we are going right in life)


क्या आप जानते हैं कि आप अपने जीवन में सही रास्ते पर आगे बढ़ रहे हो या कहीं गलत रास्ते पर तो नहीं चल रहे हो या फिर अभी तक सही जा रहे थे पर अब गलत रास्ते पर चलना शुरू कर दिये हो। यह जानना हमारे लिए कितना जरुरी है यह हम इस पोस्ट को पुरा पढ़ने के बाद यह जान पायेेंगे । 
 दरअसल इस पोस्ट में वह जानकारी दी गई जिससे हम सही - गलत का फर्क कर पायेंगे तथा कब क्या करना है और कब नहीं यहाँ तक कि अपनेे-आपको दूसरों के अधीन होने से भी बचा पाओगे। ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए फायदे देख सकते हैं। 

 इस पोस्ट को पढ़ने के फायदे

     इस पोस्ट को पढ़ने के निम्नलिखित फायदे हो सकते हैं -
  1. आपको कोई भी बस में नहीं कर सकता है।  
  2. क्योंकि सही - गलत का ज्ञान होगा, आपको। 
  3. सकारात्मक ऊर्जा का संचार भी महसूस होगा। 
  4. जिंदगी में सफलता हासिल कर सकते हो।
  5. क्या करना है और क्या नहीं, पता होगा।
  6. बाद में पश्याताप वाली बात ना के बराबर होगी। 
  7. हर काम को सही और कम समय में ही कर पाओगे।
  8. कोई भी व्यक्ति आपका इस्तेमाल नहीं कर सकता। 
  9. हर काम पहले से आसान होगा।


   

कैसे पता करें कि हम सही रास्ते पर हैं ?

      हम गलत हैं या सही यह पता करने के लिए हमें निम्नलिखित चरणों ( Steps ) का पालन करना चाहिए -
  1. सबसे पहले पिछले एक, दो या तीन महिनों तक के अपने व्यवहार में अंतर को देखिये। 
  2. अगर महिनों में अंतर स्पष्ट नहीं हो रहा है तो वर्षों पहले और अब मे अंतर को देखें, जरुर मिल जायेगा। 
  3. पहले कैसे थे और अब कैसे हैं यह साफ दिखाई देगा। 
  4. अब जो गलती मिले उसे सुधार लीजिए।
  5. रीव्यू करने से आपको उसे सुधारने में मदत मिलेगी।
  6. क्या आपका व्यवहार पहले से अच्छा हो गया है या खराब यह भी पता हो जायेगा। 
  7. अब अपने गोल के हिसाब से अपने विचारों को साध लीजिये और उस पर काम करें। 



उदाहरण [ Example]

  हम सही रास्ते पर हैं या फिर गलत इसको बखुबी जानने के लिए हम एकदम सरल उदाहरण देखने जा रहे हैं कृपया थोड़ा सा ध्यान दीजिये।

 माना कोई परसन है जिसके पास एक महिने पहले मोबाइल नहीं था और वह इसके लिए परेसान था पर फिर भी हर काम करता था। लेकिन आज उसके पास मोबाइल है तो वह हमेशा व्यस्त रहता है कभी विडियो गेम खेलता है तो कभी मूवी और कभी फेसबुक, इंस्टाग्राम इत्यादि। विडियो गेम या मोबाइल इस्तेमाल करते समय अगर कोई कुछ काम करने को कहे तो उस परसन को जरूर गुस्सा आयेगा और मन ही मन कोसने लगेगा कि हर समय काम - काम लगाये रहते हैं। अब यहाँ पर रुककर एक सेकेंड सोचिए कि वह परसन सही कर रहा है या गलत आपको पता चल जायेगा क्योंकि हम अंतर साफ देख रहे हैं। यही सोच अपनेआप पर लगाकर देखिए आपको पता चल जायेगा कि गलत क्या है और सही क्या है। हम जितना अधिक अंतराल पर अपने अंतरो को देखेंगे तो बड़ा और साफ- साफ अंतर देखने को मिलेगा।
 इसमें निम्नलिखित अंतर देखने को मिल रहे हैं -
  • पहले वह परसन मोबाईल के वस (लत) में नहीं था।
  • पर अब वह चिढ़चिढ़ा भी हो गया है। 
  • हमेशा बेकार (विडियो गेम, चैट, मैसेज इत्यादि) कामों में व्यस्त रहता है।
  • देर रात तक बिना काम के बस मनोरंजन के लिए जागते रहना।
  • मोबाइल का अधिक इस्तेमाल से आँखों का रोग होना। 
  • अब उसे अपने स्वास्थ्य का ध्यान न रखने के लिए भी समय नहीं मिलता है।
  • अब उसे कोई काम करने का मन भी नहीं करता है। 



तो आपने देखा कि सिर्फ एक कारण ( मोबाईल ) से कितने परिवर्तन मिल रहे हैं जो हम सब के लिए सही नहीं है। यहाँ पर थोड़ा सा ध्यान दीजिये कि मोबाइल चलाना कब सही और कब खराब है यह हमारे उदेश्य या उपयोग पर निर्भर करता है। अगर हम बहुत अधिक उपयोग करते हैं और उससे कोई लाभ भी न हो तब हम इसे बेकार कहेंगे और अगर हमें कुछ फायदा या ( धन ) लाभ होता हो तो अच्छा मान सकते हैं। इस तरह हम अपनी कमियों को देख सकते हैं और उसे दूर कर अपना कीमती समय बचाने के साथ - साथ अपना सपना भी पुरा कर सकते हैं। 


अपने आपको भविष्य में मानकर वर्तमान को ऐसे सफल बनाएँ

        ये टेक्निक बहुत ही अच्छी लगती है खासकर मुझे क्योंकि यह सोचने से ही बहुत रोमांचक और महत्वपूर्ण लगती है। मान लीजिए हम पाँच या दश या फिर इससे भी अधिक वर्षों बाद हम भविष्य में हैं और यह सोच रहे हैं कि कास मैने उस समय या वह काम ऐसे - ऐसे किया होता तो मैं आज इतना आगे होता। जब हम ऐसे सोचते हैं तो हमारा ना समय बर्बाद होता है और ना ही हमें कोई पश्तावा होता है।
इस बात को अच्छी तरह से समझने के लिए हमें अपने पास्ट को यानी बिते हुए के बारे में सोचना होगा कि आप अगर पाँच साल या दश साल ( या फिर इससे अधिक ) पहले यह काम किया होता तो आज हम ऐसी स्थिति में होते। तो अपने बिते हुए दिनों से यह बहुत ही महत्वपूर्ण सीख लेकर अपने आप को सफल इंसान बना सकते हैं। कुछ ऐसी - ऐसी रोमांचक भावनाएँ उत्पन्न होगी कि काश मुझे वह समय दोबारा मिल जाए तो मैं दिखा देता कि कैसे पैसा कमाया जाता है या कोई भी काम कैसे करना चाहिए। अब यहाँ पर बिना भविष्य में गये ऐसे - ऐसे अनुभव पा सकते हैं जो पश्तावा होता है और उसमें बिते हुए समय को रोमांचक तरीके से जीने का मन होता है। तो आप यह मानकर चलिए कि आपको वह समय मिल गया है जिसमें आप जाना चाहते हैं तो फिर क्या बात है। आप ऐसे - ऐसे काम करने लगोगे कि आप खुद हैरान में पड़ जाओगे।
   दरअसल हम सभी के जीवन में कुछ न कुछ ऐसी घटनाएँ हो जाती हैं जिससे हम खुश नहीं रहते हैं उसे पुरे विश्वास (Full confidence) के साथ करना चाहिए था या ऐसे करना चाहिए था हम सोचते हैं। पर जो समय बीत गया है वह वापस तो आ नहीं सकता है पर इस बिते समय में जो कमियाँ हुई हैं उनसे हम अपने भविष्य को बेहतर बनाने के लिए अपने वर्तमान में उसी पोजीटीव एनर्जी के साथ काम कर सकते हैं जिससे कि हम अपने बित चुके दिन में करना चाहते हैं। जब भी हम ऐसा सोचते हैं हम अपनेआप में उत्साही पाते हैं और अपने काम को आसानी से कर सकते हैं। 




      रीव्यू से अपने गोल को ऐसे पा सकते हैं

       रीव्यू करने के बाद आपको अंतर साफ दिखाई देगा जिससे आप अपने आप को सही रास्ते पर लेकर जा सकते हो। यकीन मानीए ये बातें जो आप पढ़ रहे हो ये सिर्फ किताबी नहीं हैं बल्कि प्रक्टिकल किया हुआ है और बहुत ही कारगर या प्रभावशाली हैं। 
 अपने व्यवहार या अनुभव में अंतर का सही इस्तेमाल करके आप जरूर सफल हो जाओगे। इसके लिए आपको क्या करना है थोड़ा सा ध्यान दीजिये। जब आप / हम अपनेआप में होने वाले अंतर को स्पष्ट देख पाते हैं तो आपको ये निम्नलिखित स्टेप्स करना चाहिए -
  1. सबसे पहले अपने रीव्यू से मिले गलत व्यवहारों की लिस्ट बनायें। 
  2. जो सबसे ज्यादा रुकावट पैदा करता है उसे पहले और जरुर अपने दिनचर्या से निकाल फेंको। 
  3. जब आप/हम अपने व्यवहारों में अंतर देखना जान जाते हैं तो आपको कम से कम समय पर चेक करना चाहिए।
  4. जो गलत लगे उस आदत को उसी दिन या 30 दिनों के अन्दर में सुधार लीजिए।
  5. जो बड़ी जटील आदत बन चुकी हो उसमें रोज थोड़ा - थोड़ा सुधार करो आपको एक महिने के अन्दर ही अन्दर बहुत अच्छा रिजल्ट मिल जायेगा।
  6. अगर आपको लगता है कि आपको कोई अपने वश में करना चाहता है या अपने अधीन कर रहा है तो आप वैसा काम मत करो, सब सही हो जायेगा।
  7. अगर आपको लग रहा कि आपका विकास कई महिनों या सालों से रुका है तो जो कारण है उसे तुरंत उसी दिन से समाप्त करने के लिए छोटे-छोटे स्टेप्स लो। 
  8. अगर आपको लग रहा है जिस भी काम को करना चाहते हो वह नहीं हो रहा है तो जो आपको सही लग रहा है उसे करें।


सारांश | Summary

इन बातों को सारांश ( कम से कम  शब्दों में ) कहें तो हम अगर अपने खूद की जीवनशैली पर नजर डाले तो हमें अपनी खामियों और खूबियों की लिस्ट हमारे दिमाग में आने लगेगी। उन कमियों को याद कर देखिये आपको अब वही काम करना कितना आसान लगेगा। यही नहीं बल्कि कई ऐसे रास्ते दिखाई देंगे कि आप मन ही मन में यह कहेंग कि अरे यार ऐसे - ऐसे किया होता तो बड़ी आसानी से काम हो जाता।



   क्या इस आर्टिकल से आपको कुछ अपने अंदर अंतर देखने को मिल रहा है ? अगर हाँ तो हमें कमेंट करके जरूर बताएँ इससे हमें आपके लिए और बेहतर काम करने के लिए खुशी होगी। Thanks for reading this article.. 

टिप्पणियाँ

Popular Posts

दिशा पता करने के बेस्ट तरीके..

दु नियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।    दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये |इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |    दिशा ( Direction  )  एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे। जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम  कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे। घर बनाने

भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

ऊपर चित्र में एक वृत्त को तीन बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है,  2/3  भाग जिसे शाब्दिक याा साधारण भाषा में  दो तिहाई   भाग कहेगें । इसी प्रकार ( एक बटा तीन ) 1 / 3 को एक तिहाई  कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग   करने के तरीीकों के बारे में पुरी जानकारी।                                  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; इस पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें । भिन्न क्या है ? What is the Fraction ?     भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है - अंश  हर  जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है। आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में

फोन हमेशा क्यों व्यस्त बताता है.. ?

फोन हमेशा क्यों व्यस्त बताता है ?         मोबाइल फोन का इस्तेमाल आज इतना बढ़ गया है कि लगभग हर घर में यह अनिवार्यरूप से मिल ही जायेगा। इसका मुख्य कारण है भाग - दौड़ भरी जिंदगी। इसीलिए मोबाईल तो अनिवार्य रूप से आज के समय में चाहिए ही चाहिए। ऐसे में मोबाइल का से बात न हो पाना मोबाईल के उपयोग का मतलब ही नहीं रह जाता है  ।  अगर बार - बार यानी किसी  भी समय जब काॅल करते हैं और हर बार व्यस्त बता रहा है तो संभव है कि आपका नंबर ब्लाॅक  किया गया है। चलिए इसके बारे में जानते हैं कि विस्तार से ।  मोबाइल क्यों हमेशा व्यस्त बताता है इसके कई कारण होते हैं जो निम्नलिखित हैं -   नम्बर ब्लाॅक किया गया हो सकता है। नेटवर्किंग समस्या  नम्बर ब्लाॅक 🚫 होना क्या है ? मोबाइल नम्बर ब्लाॅक होने का मतलब यह है कि अगर आपका नम्बर किसी कारण से ब्लाॅक हो गया है या किसी ने जानबूझकर आपके नम्बर को ब्लॉक कर दिया है तो आप चाहे जितनी बार भी उस नम्बर पर कॉल  (  call  ) कर लो पर काॅल हमेशा व्यस्त  📞  ( Busy  ) ही बतायेगा। आपको फोन पे Ring ( घण्टी   ) बजते हुए सुनाई देगी पर जिस नम्बर पर आप फोन /
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2021 Possibilityplus