Possibilityplus

संभावनाओं का सागर

11 Jun 2019

दूनियांँ में कोई भी वस्तु बिना " अंतर " की नहीं है by 👤 Possibilityplus



          अंतर क्या है ?         



क्या कोई भी वस्तु हर समय एक जैसी रहती है ? 
या कोई वस्तु ऐसी है जिसमें परिवर्तन नहीं होता हो ?
हम सभी यह बात जानते हैं कि समय के साथ हर वस्तुओं में परिवर्तन या अंतर होता रहता है।





 क्या आप किसी भी काम को बार बार एक तरह से कर सकते हैं ? इस बात की गहराई तक अध्ययन किया जाये तो हमें इसका उत्तर मिलेगा नहीं । क्योंकि दुनियाँ में कोई भी क्रिया-कलाप पुरी तरह से समान नहीं हो सकता है। 



      इसका कारण कुछ भी हो पर अन्तर नामक शब्द जरुर आयेगा। जैसे मान लिया आपको किसी शब्द को बोलना है। आप जितनी बार भी बोलेंगे हर बार कोई ना कोई अन्तर जरुर होगा। यह अन्तर वातावरण या किसी अन्य कारण से हो सकता है। अगर आप इसे पता करना चाहते हैं तो अपनी आवाज को रिकार्ड करके इनकी आवृत्ति को देखीए और आवाज 🔉 को भी सुनीए अन्तर मील जायेगा। कभी-कभी यह अन्तर इतना कम होता है कि इसे मापा नहीं जा सकता है। 


इस बात की पुष्टि 1-1 , 2-2, 3-3 इत्यादि संख्याओं के अंतर को देखने होती है। इन्हें भी देखने से यही लगता है कि इनमें कोई अंतर है ही नहीं पर ऐसा असंभव है। 



   कहते हैं कि परिवर्तन प्रकृति का अनिवार्य प्रक्रियाओं में से एक है। अब सोचीए 💭 कि अगर किसी भी वस्तु में परिवर्तन हमेंशा होता है तो इसका मतलब यह है कि उस वस्तु में कुछ न कुछ अंतर हो रहा है तभी तो वह बदल रही है। यहां पर एक बात यह ध्यान देने योग्य है कि परिवर्तन और अंतर दोनों ही बातें एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं। कुछ अंतर ऐसे होते हैं कि हम कह ही नहीं सकतें हैं कि उनमें अंतर हो रहा है। इस बात की पुष्टि इस बात से ही हो जाती है कि जब हम किसी पौधे को देखते हैं तो कहेंगे कि इसमें 1 या 2 सेकेंड में कोई परिवर्तन या अंतर नहीं होता होगा। पर सच बात तो यह है कि हर सेकेंड ही नहीं बल्कि हर पल उसमें परिवर्तन होता रहता है 


  अंतर की परिभाषा    


अंतर वह भेद, फर्क या स्थिति है,जो किसी भी वस्तु में अनिवार्यरूप से पाया जाता है।अंतर हर वस्तुओं में अनिवार्यरूप से पाया जाता है फिर चाहे वह एक ही प्रकार की वस्तुएँ ही क्यों ना हो। जैसे कि मान लीजिए कि एक ही सेट की दो मोबाईल 📱 फोन हो पर तब भी इन दोनों के गुणों में असमानता या अंतर जरूर मिलेगा चाहे वह अंतर मामूली ही क्यों ना हो पर होगा जरूर।








अंतर शब्द का उपयोग   



     अंतर शब्द का बहुत बड़ा योगदान है हर क्षेत्र में। लेकिन इसकी जानकारी के अभाव में हम इसका फायदा नहीं ले पाते हैं। पर आप सभी यह ध्यान दें कि यह possibilityplus.in है जिस पर आप वह जानकारियाँ पाते हैं जिसे हर जगह मिलना दुर्लभ है ।
अंतर शब्द की सहायता से हम बहुत बड़े और जटिल कामों में भी सफलता प्राप्त कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर 1-1, 2-2, 3-3 इत्यादि इन सभी में अन्तर होता है। इसका मतलब साफ/स्पष्ट है कि ये 1-1, 2-2, 3-3 इत्यादि देखने में तो बराबर हैं पर व्यवहार में यह नहीं होता है। 
जैसे किसी भी ऊर्जा को पूर्ण रूप से उपयोग में नहीं लाया जा सकता है। 



अंतर के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण 🔎





  • 1-1 = 1×0,  2-2 = 2×0 , 3-3 = 3×0 इत्यादि। 
  • कहने और करने में अंतर 







ऊपर दिए गए उदाहरणों में से पहला बहुत ही आश्चर्यजनक है क्योंकि हम देख रहे हैं कि दोनों संख्याएँ एकही हैं और इनका मान भी बराबर है तो फिर कैसे इनमें कोई अंतर आ गया है ?
यह सवाल आप सभी के मन में ऊफान मार रहा होगा कि यह कैसे हो सकता है ? 
तो आप सबसे पहले यह बात गहराई तक सोचीए की जब भी हम किसी भी वस्तु या बात की तुलना करते हैं तो य कहते हैं कि इन दोनों में कितना अंतर है। मतलब अगर थोड़ा सा ध्यान दें तो हमें सभी विषयों में हर जगह अंतर मील ही जायेगा। इसमें सबसे खास बात यह है कि अंतर शब्द का आना मतलब अंतर अवश्य ही है। कोई भी काम करिए चाहे वह कितना भी सरल क्यों ना  हो पर आप, हम या कोई भी हो पूरी तरह से किसी काम को बीना अंतर के कर सके।

आप सभी का यह भी सवाल हो सकता है कि यार यह क्या है यह कहां की जानकारी है। इसे 1-1 = 1×0,  2-2 = 2×0 इत्यादि को आजतक ना देखा है और ना ही पढ़ा है तो फिर यह कहाँ से आ गया है ?


आगे जारी....

No comments:

Post a Comment

you may like this