सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Level kaise karen / nikale ?


    लेवल ( स्तर )         


    आप सभी का स्वागत है आप के possibilityplus.in  site पर। Level ( स्तर ) का उपयोग कहाँ - कहाँ किया जाता है, लेवल पाईप और पानी की मदत से लेवल कैसे पता करते हैं और पानी का ही  उपयोग क्यों किया जाता है ?




ऐसे जितने भी सवाल हैं सभी पर विचार - विमर्श करेंगे इस पोस्ट में, तो आइये जानते हैं एक - एक करके ।






    लेवल ( स्तर ) क्या है ?

                         किसी भी वस्तु के उपरी भागों के स्तरों की स्थिति में अन्तर और समानता को सरल शब्दों में लेवल कहते हैं। 
एकही वस्तु के विभिन्न स्थानों के स्तरों में अंतर हो सकता है। इनका मापन करना ही लेवलिंग कहलाता है। लेवल को हिंदी में स्तर, समस्तर, समतल, एकबराबर  इत्यादि कहते हैं।

 लेवल पता करें, इससे पहले हमें यह जानना परमावश्यक है कि आखिर जल के माध्यम से से ही लेवल क्यों निकालते / पता करते हैं। इसको जानते ही लेवल की जानकारी शीशे की तरह साफ हो जायेगी। 




   जल की विशेषता.. 

                   जल कि विशेषताएँ कुछ इस तरह है :
  • जल अपना तल स्वयं ढूंढ लेता है। 
  • जल का कोई निश्चित आकर नहीं होता है। 





   चुंकि जल / पानी को किसी भी आकार वाले बर्तन में रखने पर भी पानी का तल हर जगह एकसमान हो जाता है। और यह  ( भारत में ) आसानी से मिल जाता है तो इन्हीं कारणों के चलते लेवल करने के लिए पानी का उपयोग सबसे अच्छा होता है। चलिए प्रमाण देखलेते हैं। द्रव के अंदर किसी भी बिंदु पर दाब का सूत्र :  P =  hdg. 
जहाँ P = द्रव का दाब 
h = द्रव की गहराई 
d = द्रव का घनत्व और
g = गुरुत्वीय त्वरण है। 

इस सूत्र से यह स्पष्ट होता है कि द्रव ( जल ) का दाब द्रव की गहराई पर निर्भर करता है ना कि द्रव किस आकार के बर्तन में रखा पर करता है। यानी हम किसी भी आकार के बर्तन में पानी को रखें तो भी दाब पर कोई असर नहीं पड़ेगा बस इसकी गहराई नहीं बदलनी चाहिए। उदाहरण के रूप में ऊपर 👆 दिए गए चित्र को देखें। द्रव के इसी गुण का इस्तेमाल लेवल करने में किया जाता है। 








  लेवल कैसे पता करें ?

                        लेवल पता करने के लिए सबसे पहले हमें प्लास्टिक की बनी पतली, पारदर्शी और समान गोलाकार पाईप चाहिए। यह हार्डवेयर की दुकान पर आसानी से मील जायेगी।


  लेवल पता करने का निर्देश >>

            लेवल पता करने के निर्देश को देखें -
  1. सबसे पहले लेवल पाईप में साफ जल / पानी भरें।
  2. पाइप के अंदर कोई बुलबुला नहीं होना चाहिए।
  3. अब पाईप के दोनों सिरों को एकसाथ कर दोनों का लेवल एक है, यह निश्चित करें। 
  4. उपर्युक्त तीनों चरणों के बाद जिस भी वस्तु का लेवल करना है तो पाईप के दोनों सिरों को अलग - अलग स्थानों पर रोककर देखें और जहां पानी का लेवल हो निशान लगाते जायें।



आपको यह पोस्ट कैसा लगा ? हमें जरूर बताएँ और ऐसे ही जानकारियाँ प्राप्त करने के लिए इस साइट को follow करें। धन्यवाद... 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…

पृथ्वी गोल क्यों है ?

पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
 पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus