सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पक्षी या चिडिया झुंड में ही क्यों उड़ान भरते हैं ? वैज्ञानिक कारण by : Possibilityplus.in



 पक्षियों का झुंड में उड़ना, हमारे लिए जितना मनोरंजक लगता है उतना ही पेंचिदा यह लगता है कि यह ऐसे एक शानदार आकार में ही उड़ान क्यों भरते हैं। क्या इसके पीछे कोई कारण है ?
तो आप बिल्कुल सही है पर जवाब क्या है चलिए पढ़कर जानते हैं।



ये है Possibilityplus.in  साईट जहाँ आपको ऐसी जानकारियाँ पढ़ने को मिलती हैं जो आप चाहते हैं। अगर आपका कोई सवाल है तो हमें कमेेन्ट जरुर करें । धन्यवाद ! 




पक्षी झुंड में कब और क्यूँ उड़ते हैं ?  When and when the birds fly in   the flock ?




Bird flying in group.

   पक्षि झुंड में तब उड़ान भरते हैं जब उन्हें अधिक दूरी तय करनी होती है। ऐसा क्यों यह सवाल उठना स्वाभाविक है। इसको जानने से पहले हमें यह भी जानना होगा कि यह आखिरकार इतनी अधिक दूरी तक क्यों करते हैं ?



इस सवाल का जवाब हम बड़ी आसानी से जान सकते हैं। जिस प्रकार से हम अपनी रोजी-रोटी के लिए एक स्थान से दूसरे स्थान तक सफर करते हैं ठीक उसी प्रकार से ये पक्षियों का झुंड भी इधर-उधर अधिक दूरियाँ तय करता है । क्या हमें इतना पढ़ने के बाद यह महसूस हो रहा है कि हम पुरी तरह से यह जान चुके हैं कि असल वजह क्या थी ? 
तो आपका जवाब होगा नहीं, क्योंकि यह जानकारी अभी अधूरी है। 
             दरअसल पक्षियों का झुंड में उड़ने सबसे बड़ा और पहला का कारण यह है कि यह जल्दी थकते नहीं हैं और ज्यादा से ज्यादा दूरियाँ बिना रुके ही तय कर लेते हैं। इसके लिए वो अपनी स्थितियों को बदलते रहते हैं। झुंड में जो पक्षी सबसे पिछे है तो इसका मतलब यह है कि वह कम बल लगा रहा है और थोड़ा-सा थीमी गति से चल रहा है और थका हुआ है तथा जो पक्षी सबसे आगे है तो इसका मतलब यह है कि वह सबसे ज्यादा बल लगा रहा है और थकान से मुक्त है और अपने से पिछे वाले पक्षियों से थोड़ा तेज उड़ रहा है । पर कुछ दूरी तय करने के बाद सबसे आगे वाला पक्षी झुंड में सबसे पिछे चला जाता है और सबसे पिछे वाला सबसे आगे आ जाता है। इस तरह से पिछे के पक्षी कम बल लगाते हुए आराम से सभी पक्षियों के साथ - साथ अत्यधिक दूरियाँ तय करते हैं। 

Birds flying in the sky with group.




पक्षी विशेष आकृति में ही क्यों उड़ान भरते हैं ? 

Why do birds fly in a special shape ?


    अब आती है बारी इनके विशेष आकृति के बारे में जानने की। हमें यह देखा होगा कि पक्षी 🐦 जब झुंड में उड़ते हैं तो वे हवाई जहाज के पंखों के जैसी आकृति बनाते हुए अधिकतर उड़ते हैं। इस प्रकार की आकृति  पर हवा का दबाव बहुत कम लगता है और पक्षियों के उड़ने में आसानी होती है।
     पर एक सवाल अभ भी यह उठता है कि आखिर पक्षियों को इसकी जानकारी कैसे पता है ?
दरअसल बात यह है कि पक्षियों को इसकी जानकारी नहीं होती है और जब वे झुंड में एकसाथ उड़ान भरते हैं और एकसाथ आगे बढ़ना चाहते पर जो पक्षी तेज और ऊर्जा से भरपूर होते हैं वे अधिक तेजी से उड़ते हैं पर जो इनसे कम तेज और कम ऊर्जावान होते हैं वे इतनी तेजी से ना उड़ पाने के कारण अपने आप ही पिछे खिसक जाते हैं।
इस तरह एक ऐसा आकार बन जाता है जिसकी इन्हें कोई जानकारी नहीं होती है। और हमें लगता है कि जैसे पक्षी यह सब सोंच समझकर ऐसा कर रहे हैं।





   जब पक्षियों की चाल अलग - अलग होती है तो वे एकसाथ कैसे आगे बढ़ पाते हैं ? 


   यह सवाल वैज्ञानिक के साथ जिज्ञासाओं वाला भी है। इसलिए  हमें इसके बारे में जानना चाहिए। इसको समझना भी आसान है। हम सभी यह बात भली भांति जानते हैं कि जब किन्हीं वस्तुओं की चाल में अन्तर है तो इसका मतलब यह है कि एक ही दूरी तय करने के लिए उन वस्तुओं को अलग - अलग समय भी लगेगा है। इस तरह से तो पक्षियों को एक ही स्थान पर जाने के लिए अलग - अलग समय में पहुँचेंगे। पर यहाँ पर तो पक्षियों का झुंड एकसाथ ही पहुते हैं ( उस  स्थान पर जहां वे जाना चाहते हैं )।
   हमने प्रायः सड़कों पर यह देखा होगा कि जब कोई तेज रफ्तार से जाती हुई गाड़ी किसी कागज या  हल्की वस्तु से होकर जाती है तो गाड़ी के खिचाव बल के कारण हल्की वस्तुएँ गाड़ी के पिछे खिंची चली जाती हैं। पर कुछ दूरी पर जाते - जाते रुक भी जाती हैं। जब ये हल्की वस्तुएँ बिना किसी गति के बाद भी गाड़ी के साथ कुछ दूरी तय करती हैं। अगर गाड़ी की गति या चाल से थोड़ा सा भी कम होती तो वस्तु की चाल या गति तो ये वस्तुएँ गाड़ी के साथ - साथ ही चली जाती ( गाड़ी की गति के सहारे ) ।




    यहाँ पर एक  बात यह भी स्पष्ट होती है कि जिसकी चाल कम होती है वह पिछे होती है और आगे वाली वस्तु की के बल से खिंची चली जाती हैं । जैसे इस उदाहरण में कम चाल वाली हल्कि वस्तुएँ गाड़ी के पिछे होती हैं। बिल्कुल इसी तरह से जिन पक्षियों की चाल कम होती है वे पिछे होते हैं और उन्हें कम बल और चाल से चलने से आराम मिलता है और एक साथ आगे बढ़ते जाते हैं। कुछ दूरी जाते-जाते जब आगे वाले पक्षियों की ऊर्जा और गति कम होती जाती है और वे अपने से पिछले से ही पिछे होते जाते हैं। और इस तरह से लगभग ^ आकार की आकृति बन जाती है इनके झुंड के कारण ।

Bird flying in group when they going long distance.



  उम्मीद है कि आपको यह जानकर अब असल वजहों का पता चल गया होगा। अगर फिर भी कोई सवाल है तो कमेंट करें । धन्यवाद !  
By : Possibilityplus.in... 



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…

पृथ्वी गोल क्यों है ?

पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
 पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus