सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

असफलता से सफलता पाने का अचूक मोटिव , by : Possibilityplus.in




                   ये पोस्ट असफलता से सफलता  पाने की ऐसी संभावना ( Possibility ) और ऊर्जा से भरपूर है जिससे हमें असफलता मिलने का भी डर नहीं रहेगा क्योंकि असफलता ही हमें सफलता का पथ प्रदर्शित करेगी।
 निचे दिए गए बिन्दुुओं को देखिए - 


  • असफलता ही सफलता का मार्ग दिखाती है।
  • असफलता ही सफलता का महत्व बताती है। 
  • असफलता की भी एक सीमा होती है। 
  • जितनी अधिक बार असफलता मिलती है सफलता मिलने की संभावना उतनी ही ज्यादा होती है।
  • असफल होना गलत नहीं है बल्कि असफलता के डर से प्रयास न करना गलत है।
  • असफलता और सफलता हमारे मन की उपज है।





 विशेेष : दुनियाँ का बड़े से बड़ा काम ही क्यों न हो और असफलता चाहे कितनी भी ज्यादा क्यों न मिली हो मगर उसमें सफलता की आखिरी उम्मीद कभी नहीं समाप्त होती है। अगर समाप्त होती है तो वह है हमारा प्रयास। 💎


   उपर्युक्त बिन्दुओं को देखते हुए यह पता चलता है कि असफलता और सफलता के बीच  एक गहरा संंबंध है। बल्कि यह कहना उचित होगा कि असफलता और सफलता दोनों ही एक ही  सिक्के के दो पहलू हैं। इसका मतलब यह है कि जहां असफलता होती है वहां पर सफलता का होना भी तय / निश्चित है। हम जानते हैं कि असफलता और सफलता दोनों  एक-दूसरे के विपरित हैं। शब्द असफलता से भी एक बहुुुत अच्छा उदाहरण निकलकर आता है और वह यह है कि इसका ( असफलता ) पहला अक्षर हटाने पर सफलता में बदल जाता है। याानी इससे यह स्पष्ट होता है कि असफलता में भी सफलता छिपी हुई है बस उसमें सुधार करने की जरूरत होती है।
 उपर्युक्त बिन्दुओं को सविस्तार से जानते हैं।









असफलता ही सफलता का मार्ग दिखाती है...

      दुनियाँ में असफलता को बहुत लोग या तो गलत मानते हैं या फिर असफलता पाना ही नहीं चाहते हैं। किसी भी काम में अगर हम असफल हो रहेें तो इसका मतलब यह है कि हमने जो तरिका अपनाया था सफल होने का नहीं बल्कि असफल होने का था। जिससे हमेें उसी काम को किसी अन्य तरिके से करने का विचार आता है। यहाँ से यह स्पष्ट होती है कि असफलता हमें  सफलता का मार्ग दिखाती है। हम किसी भी काम में जितना अधिक से अधिक बार असफल होते हैं तो हमें उसी काम में सफल होने की संभावना उतनी ही ज्यादा होती चली जाती है। एक स्ति्थि ऐसी आयेगी जब असफलता की संभावना ही समाप्त हो जायेगी और तभी असफलता भी हमारे आगे घुटने टेककर यह कहेगी कि अब तुम्हें असफल करने के लिए मेरे पास कोई प्रभावी संभावना ही नहीं बची है। अतः अब तुम सफलता प्राप्त कर सकते हो। इसे और बखूबी समझने के लिए हमें कोई जीवंत उदाहरण लेना चाहिए।


  1. थामस एल्वा एडिसन  :  एडिसन एक ऐसे वैज्ञानिक थे जिन्होंने इस दुनियाँ को असफलता का मतलब अपने शब्दों में इस तरह बयाँ  किया " मैं बैट्री बनाने में सैकड़ों बार असफल हुआ मगर इससे भी मुझे यह सीख मिली कि इन सभी तरिकों से बैट्री नहीं बनाई जा सकती है जो तरिके मैने अपनाये थे। "    एडिसन को बल्ब 💡का आविष्कार करने के लिए  दस हज़ार से भी ज्यादा बार असफलता मिली। पर वे जानते थे कि वह असफलता की सीढियाँ बनाकर सफलता को पा सकते हैं। एडिसन हर असफलता से कुछ न कुछ जरूर सीखते थे।   उन्हें यह अच्छी तरह से पता चल चुका था कि ये सारी असफलताएँ व्यर्थ नहीं हैं और आखिकार बल्ब 💡का आविष्कार करने में उन्हें सफलता मिल ही गई। मतलब गलती भी हमें सफलता के पथ को प्रदर्शित करती है यह बात तो स्पष्ट है। यहाँ पर एक बहुत जानदार और मोटिव वाला यह निष्कर्ष भी निकलकर सामने आता है कि असफलता चाहे कितनी भी बड़ी क्यों न हो पर उसमे हमें सफलता की एक झलक अनिवार्यरूप से देखने को मिल ही जायेगी।  इसी को ही आखिरी उम्मीद  का नाम दिया गया है।  
  2. चींटी : चीटियों को हमने किसी ऊँचे स्थान पर चढ़ते हुए जरुर देखा होगा। ये उँचे स्थान पर चढ़ने के लिए ना जाने कितने ही प्रयास करती हैं। भले ही ये बार - बार असफल होती हैं मगर फिर भी चढ़ने का सिलसिला जारी रहताा है। ये चढ़ने के लिए इतनी ज्यादा कोशिश करती हैं कि इनके सफल होने की संभावना ही बढ़ जाती है और अन्त में वह उस उँचे स्थान पर चढ़ ही जाती हैं। 






  इस तरह से मिलने वाली सफलता का बड़ा महत्वपूर्ण स्थान होता है 

   



असफलता की सीमा 

     

    दुनियाँ में लगभग हर वस्तु की या कार्य के होने की कोई न कोई सीमा जरुर होती है। तो जाहिर सी बात है कि असफलता की भी कोई न कोई सीमा जरुर होनी चाहिए जो सफलता पर जाकर समाप्त होती हो । जब हम असफलता की सारी संभावनाओं को अपने प्रयासों से समाप्त करते हैं तो हम सफलता और असफलता की सीमा पर पहुंच जाते हैं जहाँ से हम कहीं भी जा सकते हैं चाहे सफलता हो या असफलता। इसके बाद हम सफलता की ओर बढ़ सकते हैं क्योंकि हमारे पास अब असफल होने की कोई प्रभावी संभावना नहीं है। 
      इस बिन्दु पर ना तो सफलता मिलती और ना ही असफलता। इसे उदासीन बिन्दु भी कहते हैं। इसी बिन्दु पर वो लोग रहते हैं जो जितना सफल होते हैं वो उतना ही असफल भी होते हैं। इसे ऐसे समझिए अगर कोई व्यक्ति 500 रूपये कमाता है और वह इसमें से कुछ भी ना बचाते हुए सारा पैसा खर्च कर देता है। यानी वह कमाने से पहले जहाँ था वहीं खर्च करने के बाद फिर आ जाता है। 




असफल होना गलत नहीं बल्कि असफलता के डर से प्रयास न करना गलत है..


    यह लाईन भी बहुत प्रेरणादायी है और हमें इसे अपने दैनिक जीवन में अनिवार्यरूप से उपयोग में लाना चाहिए। इस बात को पढ़ने से ही हमें मोटिव(प्रेरणा)  मिलती है। तो सोचो इसे करने में कितना मोटिव और कामयाबी मिलेगी। यह सफलता की कुंजी है जो हमें यह बताता है कि असफल होना गलत नहीं है बल्कि इसके डर से कि  मैं दोबारा - तेबारा या बार - बार असफल हो जाउँगा तो क्या मतलब ऐसे प्रयास का और यही हमारी सबसे बड़ी गलती साबित हो सकती है जो हमें किसी भी काम में सफलता नहीं दिला पायेगी।




  यदि यही गलती करते हुए एडिसन ने अपने प्रयासों को बंद कर दिया होता तो आज उन्हें शायद कोई नहीं जानता होता। इसी तरह अगर चींटी भी बार - बार प्रयास न करती तो वह भी शायद कभी किसी उँचे स्थानों पर नहीं चढ़ पाती और हम सब चींटियों का बखान नहीं करते। 
  ऐसे तमाम किस्से भरें पढ़ें हैं जो इसकी पुष्टि करते हैं कि " असफल होना गलत नहीं बल्कि असफलता के डर प्रयास न करना गलत है। "



पुरा आर्टिकल पढने के बाद असफलता और सफलता की ये बातें सामने आ रही हैं -

  1. सफलता का मार्ग असफलता से होकर ही जाता है। 
  2. बिना असफलता के कोई भी सफलता नहीं मिलती। 
  3. हम असफलता के कारण असफल नहीं होते बल्कि प्रयास न करने से असफल होते हैं।
  4. प्रयास ही सफलता का मुख्य मोटिव है। 


             यह आर्टिकल पढ़ने के बाद आपको मोटिव ( प्रेरणा) मिला या नहीं, कमेंट जरूर दें।
Thanks for Reading. 
By : Possibilityplus.in


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

भिन्न (Fraction ) 


ऊपर चित्र में एक वृत्त को चार बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है 3 / 4 भाग जिसे शाब्दिक या बोलन वाली भाषा में तीन चौथाई  भाग कहेगें । इसी प्रकार 1 / 3 को एक तिहाई कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग  करने के तरीका के बारे में । 




  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग करने  का तरिका. 

भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें ।

भिन्न क्या है ? What is the Fraction ? 




 भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है -
अंश हर
 जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है।

आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में उनको कोई सटीक ( ठीक - …

मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

इसे भी पढ़ें >>
4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

        मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


  मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
       मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

अगर हाई स्कू…
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus