सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Capacitor की पुरी जानकारी A to Z

 आपका स्वागत है इस पोस्ट और वेबसाइट Possibilityplus.in पर इस पोस्ट में हम कैपासिटर की पूरी जानकारी लेने वाले हैं जैसे -
  •  कैपासिटर किसे कहते हैं ?
  • इसके उपयोग 
  • इसे कहाँ - कहाँ लगाते हैं? 
  • इसमे क्या होता है?
  • ये कितने प्रकार का होता है?


कैपासिटर किसे कहते हैं ? 

              वह युक्ति जिसके दो प्लेटो के बिच विद्युतरोधी या परावैधुत वस्तु ( जैसे कागज, हवा, प्लास्टिक, माइका आदि) लगा होता है उसे कैपासिटर ( संधारित्र) कहते हैं। 

सुत्र के अनुसार परिभाषा - किसी चालक की वैधुत धारिता, चालक को दिए गए आवेश तथा चालक के विभव में होने वाली वृद्धि के अनुपात को कहते हैं। 
सुत्र - C = q/v
जहाँ C = चालक की धारिता 
q = चालक को दिया गया आवेश तथा 
v = चालक के विभव में होने वाली वद्धि है। 

कैपासिटर को हिन्दी में संधारित्र कहा जाता है पर आम बोलचाल की भाषा में ज्यादातर कंडेंसर कहते हैं। कैपासिटर अंग्रेजी शब्द है ना कि हिन्दी। 
संधारित्र का मात्रक फैरड होता है। 


संधारित्र के उपयोग 

कैपासिटर एक बहुउपयोगी वस्तु है जो दुनियाँ के हर इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं में उपयोग होता है। इसका उपयोग प्रत्यावर्ती धारा ( A.C.  Current )  परिपथ में ही किया जाता है, दिष्ट परिपथ में नहीं क्योंकि दिष्ट परिपथ में संधारित्र लगाने से संधारित्र का वोल्टेज परिपथ में लगे दिष्ट धारा स्रोत के बराबर हो जाता है जिससे विभवान्तर शून्य हो जाता है अतः धारा रुक जाती है। ये कितना आवश्यक और महत्वपूर्ण है। 
  इसका उपयोग इतना ज्यादा है कि इसकी लिस्ट या तालिका बनायी जाए तो ये पोस्ट इसी से भर जायेगी फिर भी कुछ ऐसी वस्तुओं का उदाहरण दिया जा रहा है जिन्हें हम सभी जानते हैं-
  • पंखा 
  • टीवी 
  • घड़ी 
  • रेडियो 
  • टार्च
  • मोबाइल चार्जर & फोन





इसे कहाँ - कहाँ लगाते हैं ?

      इसके उपयोग वस्तु के आधार पर किया जाता है जैसे अगर किसी पंखे में इसकी बात की जाए तो ये पंखे में इसलिए लगाया जाता है कि पंखे को एकसमान वोल्टेज प्रदान करता रहे जिससे पंखा एकसमान गति से चलता रहे। 

पंखे में संधारित्र की क्रियाविधि 

 पंखे मे संधारित्र कुछ इस तरह से काम करता है कि पंखा एकसमान चलता रहे अर्थात ये पंखे के लिए वोल्टेज फिल्टर करके देता है। चलिए इसको परिस्थितियों के अनुसार समझते हैं - 

  1. जब वोल्टेज एकाएक कम हो जाता है - जब मेन लाइन का वोल्टेज एकाएक कम हो जाता है तो कैपासिटर अपना वोल्टेज पंखे को दे देता है जिससे पंखे को वोल्टेज की कमी महसूस नहीं हो पाती है और पंखे की गति एकसमान ही रहती है। परन्तु अगर वोल्टेज तुरन्त नहीं बढ़ता है तो फिर पंखा धीमा हो जाता है क्योंकि अब कैपासिटर के पास पहले से कम वोल्टेज ही है अतः पंखे की गति अब कम / धीमी हो जायेगी। 
  2. जब वोल्टेज ज्यादा होता है - जब मेन लाइन का वोल्टेज एकाएक / अचानक बढ़ जाता है तब कैपासिटर चार्ज हो जाता है और पंखे की गति को बढ़ने नहीं देता है जिससे पंखे पर कोई फर्क नहीं पड़ता है। पर अगर और इसके बाद वोल्टेज बढ़ता है तब कैपासिटर कुछ वोल्टेज पंखे को दे देता है और इस तरह इसकी गति बढ़ जाती है। 


तो कुल मिलाकर देखे तो कैपासिटर पंखे की रक्षा करता है जलने से और वोल्टेज को फिल्टर करके देता है जिससे पंखे की गति एकसमान बनी रहती है। 

इसी तरह से अगर मोबाइल चार्जर, घड़ी, एलईडी बल्ब, टीवी आदि सभी इलेक्ट्रॉनिक सामानों में अगर कैपासिटर का इस्तेमाल होता है तो ज्यादातर वोल्टेज को फिल्टर करने के लिए ही किया जाता है जिससे वस्तु टीकाऊ हो जाए।

इसे कहाँ - कहाँ लगाते हैं ?

  कैपासिटर को लगभग हर इलेक्ट्रॉनिक सामानों मे इस्तेमाल किया जाता है। मोबाइल फोन्स में तो बहुत ही ज्यादा लगता है क्योंकि मोबाइल फोन में अनेक प्रकार के फंशन होते हैं जिन्हें उचित ऊर्जा या वोल्टेज की आवश्यकता होती है। कैपासिटर के बाद अगर ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली वस्तु है तो वह है प्रतिरोध यानी Resistance.


इसके प्रकार





वैसे तो ये की तरह के होते हैं और इसी वजह इनके नाम भी अलग अलग पड़ जाते हैं पर मुख्य रूप से ये दो प्रकार के होते हैं -
  1. बिना ध्रुव वाला कैपासिटर 
  2. ध्रुव वाला कैपासिटर

बिना ध्रुव वाला कैपासिटर

 ये वहाँ लगता जहाँ प्लस / धन तथा माइनस/ ऋण  उपयोग नहीं किया जाता है। हमें इनको लगाने के लिए सिरों को नहीं देखना होता है। इनका उपयोग लगभग सभी प्रकार के पंखो, घड़ियों , आदि वस्तुओं में किया जाता है। 




 

ध्रुव वाला कैपासिटर

     ध्रुव वाला कैपासिटर वहां पर इस्तेमाल किया जाता है जहाँ प्लस और माइनस होते हैं परिपथ में जैसे मोबाइल & चार्जर, टीवी, LED BULB, DTH RECIEVER इत्यादि।ऐसे संधारित्रो की क्षमता बहुत ज्यादा होती है भले ही देखने छोटे ही क्यों न हो । 




निचे दिये गये चित्र में ऋण चिन्ह को तीर हरे तीर द्वारा दर्शाया गया है इसके दूसरी तरफ का सीरा धन है जिसे प्रदर्शित नहीं किया जाता है क्योंकि ऋण वाले यह पता चल जाता है। 




   इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के बाद आपको कैसा लगा इसके बारे में अपनी राय जरूर शेयर करें। हमें आपके कमेंट से बड़ी खुशी होती है।. by Possibilityplus.in



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

ऊपर चित्र में एक वृत्त को तीन बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है,  2/3  भाग जिसे शाब्दिक याा साधारण भाषा में  दो तिहाई   भाग कहेगें । इसी प्रकार ( एक बटा तीन ) 1 / 3 को एक तिहाई  कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग   करने के तरीीकों के बारे में पुरी जानकारी।                                  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; इस पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें । भिन्न क्या है ? What is the Fraction ?     भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है - अंश  हर  जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है। आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य मे

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ?      दु नियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है। दिशा पता करने के तरीके। Ways to find direction.    दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |    दिशा ( Direction  )  Ways to find direction. एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे। Display o

प्रतिशत कैसे निकालते हैं ?

     प्रतिशत ( Percent )  प्रतिशत को पूरी तरह समझने के लिए प्रतिशत का मतलब / शाब्दिक या शब्द का अर्थ जानना बहुत जरूरी है । प्रतिशत में कुछ ऐसी बातें जिन्हें हमें जानना जरूरी होता जैसे -   इनमें से कौन - कौन सही हैं  -   2 / 5 = ( 2 / 5 )  × 100 = 40 %     2 / 5 = ( 2 / 5 ) × 100 % = 40 %   2 / 5 = 40 / 100 = 40 %     इन तीनों में पहला गलत है और बाकी दोनों सही हैं। क्योंकि पहली वाले हल में हमें यह स्पष्ट दिख रहा है कि अगर हम 100 में भाग करें तो 2 × 20 = 40 तो मिलेगा पर हर के स्थान पर हमें 100 मिल ही नहीं रहा है तो इसे हम प्रतिशत के रूप में कैसे लिख सकते हैं। अतः यह गलत है। रही बात बाकी दो तरिकों की तो इन दोनों में ही हमें हर के स्थान पर 100 मिल रहा है। दूसरे वाले विकल्प में 1 / 100 = % लिखा गया है।  ( प्रतिशत = प्रति + शत  ) का संधि -  विक्षेद करने पर दो अलग -  अलग शब्द मिलते हैं जिसमें शत का शाब्दिक अर्थ सौ ( 100) होता है या प्रतिशत  गणित में किसी अनुपात या भिन्न  को व्यक्त करने का एक अलग तरीका है। प्रतिशत का अर्थ है प्रति सौ या प्रति सैकड़ा (  % = 1 / 10
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus