सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आश्चर्यजनक फैक्ट्स जो सोचने पर मजबूर कर दें

आश्चर्यजनक फैक्ट्स 


नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है Possibilityplus.in पर



 इस आर्टिकल में हम कुछ ऐसी रोचक जानकारियाँ जानने वाले हैं जो इन्ट्रेस्टिंग ही नहीं बल्कि ज्ञान की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। आइए आगे पढ़ते हैं >>

Facts No.1   प्रकाश की गति है इतनी तेज़

  प्रकाश की गति है इतनी तेज़ की सेकेंडो में तय करती है लाखों किलोमीटर का सफर। प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर / सेकेंड है। 

Light


जो अपने आपमें एक आश्चर्यजनक बात है और इसीलिए जब बिजली कड़कती है तो प्रकाश यानी लाइट सेकेंड के अन्दर ही हमारे पास पहुँच जाती है। 

Facts No.2   उजाले में भी अँधेरा या अँधेरे में भी उजाला होता है 

क्या आप जानते हैं कि अँधेरे में भी उजाला होता है या फिर इसका उल्टा कहें तो उजाले में भी अँधेरा होता है। तो यह तथ्य बिल्कुल सही है, कैसे और क्यों उदाहरण लेकर समझते हैं। 

  जब किसी अँधेरी जगह पर उजाला किया जाता है तो 
 इसके विपरीत उजाले में भी अँधेरा मौजूद होता है यह बात स्पष्ट हो जाती है। 

Facts No.3  किसी वस्तु के हर दृश्य/पहलू को एकसाथ नहीं देखा जा सकता 

इस बात को समझने के लिए हमें इसकी गहराई में जाना पड़ेगा। माना हम कोई मूवी देख रहे हैं तो हम चाहे कितनी ही बार क्यों ना देख लें पर हर बार हमसे कुछ ना कुछ दृश्य छूट ही जायेगा। क्योंकि हमारा ध्यान किसी भी एक जगह पर ही केंद्रित हो सकता है। 


Juice in the Glass



इस तस्वीर ( ईमेज) में अगर हम ग्लास को देखेंगे तो ग्लास ही स्पष्ट दिखाई देगा और उसके चारों ओर की कोई भी वस्तु उतनी स्पष्ट नहीं दिखाई देगी। जैसे जब हम ग्लास को देखते हैं तो सिर्फ ग्लास ही स्पष्ट दिखाई देता है इसकी परछाई नहीं, और जब परछाईं को देखा जाए तो यह स्पष्ट दिखाई देगी पर ग्लास नहीं। अगर हम इसकी गहराई में जाएं तो हम गिलास के हर बिन्दुओं को स्पष्ट नहीं देख सकते हैं। और अगर गिलास के ऊपरी भाग को देखें तो ऊपरी भाग ही स्पष्ट दिखाई देगा निचे का नहीं।
div>इसी तरह इसी चित्र में अगर हम आसमान को देखें तो गिलास, परछाई या जमीन स्पष्ट नहीं बल्कि धुँधली दिखाई देता है। 
 इसी तरह हम किसी भी वस्तु को देखे तो सबमें यही बात देखने को मिल जायेगी। 

 

Facts No.4   दुनियाँ की कोई भी दो वस्तुएँ पूर्णतः समान नहीं हो सकती हैं

  यह एक ऐसी जानकारी है जो यह बताती है कि दुनियाँ की कोई भी वस्तु ही क्यों ना हो चाहे एकही प्रकार की ही क्यों ना हो पर वो किसी भी दशा में पुरी तरह से समान नहीं हो सकती है। इस बात का सबसे बड़ा उदाहरण मानव अँगुठे की रेखा है जो दुनियाँ में किसी भी इंसान से पुरी तरह से नहीं मिल ( Match) नहीं सकता है।


क्योंकि हर व्यक्ति अपने आप में अलग है। कुछ मामलों में अंतर इतना कम होता है कि आज की आधुनिक तकनीक से भी पता नहीं किया जा सकता है लेकिन अंतर अवश्य ही होगा यह बात तो सत्य प्रतिशत सही है। 


Facts No.5   दुनियाँ की हर वस्तु ऊर्जा  से बनी है

  

Waves


कोई भी ऐसी वस्तु नहीं है जो ऊर्जा से न बनी हो। जैसे - फल, अनाज, घास - पूस, गोबर, पेड़ - पौधे, सूखी लकड़ी आदि  सभी वस्तुएँ ऊर्जा से ही बनी हुई हैं। अगर सूखी लकड़ी में ऊर्जा नहीं होती तो उसे किड़े नहीं खाते या लकड़ी को जलाने पर ऊर्जा (गर्मी ) नहीं मिलती। मिट्टी से लेकर कुछ भी आप ले लो सबमें ऊर्जा ही मौजूद है क्योंकि  विश्व की सभी वस्तुएँ ऊर्जा से ही बनी हुई हैं। 



Facts No.6   मनुष्य अपने मनचाहे समय पर जाग सकता है बिना अलार्म के 

मानव शरीर में ऐसी - ऐसी शक्तियाँ हैं जिनसे अद्भुत और अविश्वसनीय काम किया जा सकता है। उसी में एक यह है कि हम अपने मनचाहे समय पर जाग सकते हैं। जैसे मान लिजिए A कोई व्यक्ति / महिला है जिसे सुबह के 4 बजे जागना है तो उसे अपने मन में यह अहसास दिलाना है कि उसे 4 बजे जागना है तो जागना ही है तो वह व्यक्ति / महिला उसी समय पर जाग जायेगा / जायेगी। इसके बारे में पुरी जानकारी के लिए यहाँ पर क्लिक करें 👇



Facts No.7   सोते समय भी मनुष्य का मस्तिष्क चलता है 

क्या आपको पता है कि इंसनी मस्तिष्क में सोते समय भी कुछ न कुछ सोचता / चलता है। यही कारण है कि हमें सपने आते हैं, वैसे सपने आने के कई कारण हो सकते हैं। 


Mind




Facts No.8   सात जन्म, सात फेरे, सात वचन, सात दिन, सात रंग, सात सूर, सात अजूबे, सात तारे, सात ग्रह

इस दुनियाँ में अगर अजूबे की बात करें तो इनकी संख्या सात होती है पर यह भी किसी अजूबे से कम नहीं होगा कि आखिर सात ही क्यों होता है?
इनमें लगभग सभी के जवाब अभी तक स्पष्टतः नहीं पता है पर ये बातें सोचने पर मजबूर कर देती हैं कि " सात जन्म, सात फेरे, सात वचन, सात दिन, सात रंग, सात सूर, सात अजूबे, सात तारे और सात ग्रह" इन सब में सात ही क्यों होता है? 

Facts No.9    दुनियाँ का कोई भी कार्य 100% नहीं हो सकता है 

 यह एक ऐसी आश्चर्यजनक जानकारियों में से एक है जो अपने आप में बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इसकी मदत से बहुत बड़े से बड़ा काम किया जा सकता है। इसको समझने के लिए हमें कुछ सरल उदाहरणों को शामिल करना पड़ेगा। 

  जैसे : 1.किसी भी नियम को पुरी तरह से हर व्यक्ति पर नहीं लगाया जा सकता है। 
2.ना तो कोई  व्यक्ति 100% ( शत प्रतिशत ) झूठ बोल सकता है और ना ही सत्य। 
3. "सूर्य डूबता और उगता है" ये बात भी शत प्रतिशत सही नहीं है क्योंकि हम जानते हैं कि पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घुमती रहती है। पृथ्वी का जो भाग सूर्य की तरफ जाता है उधर उजाला ( आम बोलचाल में सूर्योदय ) होता है और जो पृथ्वी का भाग सूर्य के फोकस से हटता है वहाँ अँधेरा ( सूर्यास्त ) होने लगता है।

इन सब के अलावा अगर हम कोई भी उदाहरण लें तो भी हमें सबमें इसकी झलक मिल ही जाती है। जैसे - अगर हम यह कहें कि मनुष्य को जिंदा रहने के लिए आक्सीजन की आवश्यकता होती है। तो इसका मतलब यह नहीं है कि सिर्फ आक्सीजन के सहारे ही कोई व्यक्ति, पशु या पक्षी आदि जिंदा रह सकते हैं बल्कि इसके अलावा भी बहुत सारी चीजों की आवश्यकता होती है। जैसे - खाना- पानी  ,रोगमुक्त शरीर होना, जिवित रहने लायक वातावरण और इसके अतिरिक्त भी कई चिजें हैं जो मनुष्य ही नहीं बल्कि सभी प्रकार के जीवों को जीवित रखने के लिए आवश्यक होती है। 
 इसी तरह हम हर बात में इसकी भूमिका को देख सकते हैं। 


" आपको यह जानकारी कैसी लगी या आपकी इस पोस्ट के बारे में क्या राय है हमें जरूर बतायें। आपके कमेंट और सुझाव का सम्मान किया जायेगा। धन्यवाद "
By : Possibilityplus.in


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

ऊपर चित्र में एक वृत्त को तीन बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है, 2/3 भाग जिसे शाब्दिक याा साधारण भाषा में दो तिहाई  भाग कहेगें । इसी प्रकार ( एक बटा तीन ) 1 / 3 को एक तिहाई कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग  करने के तरीीकों के बारे में पुरी जानकारी। 
भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; इस पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें ।



भिन्न क्या है ? What is the Fraction ?


 भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है -
अंश हर
 जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है।

आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में उनको कोई सटीक ( ठीक - ठीक ) माप लेनी पड़ती है ।  लेकिन ऐसा बहुतों के स…

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




प्रतिशत कैसे निकालते हैं ?

प्रतिशत ( Percent )  प्रतिशत को पूरी तरह समझने के लिए प्रतिशत का मतलब / शाब्दिक या शब्द का अर्थ जानना बहुत जरूरी है । प्रतिशत में कुछ ऐसी बातें जिन्हें हमें जानना जरूरी होता जैसे -   इनमें से कौन - कौन सही हैं  -

  2 / 5 = ( 2 / 5 )  × 100 = 40 %    2 / 5 = ( 2 / 5 ) × 100 % = 40 %  2 / 5 = 40 / 100 = 40 %


    इन तीनों में पहला गलत है और बाकी दोनों सही हैं। क्योंकि पहली वाले हल में हमें यह स्पष्ट दिख रहा है कि अगर हम 100 में भाग करें तो 2 × 20 = 40 तो मिलेगा पर हर के स्थान पर हमें 100 मिल ही नहीं रहा है तो इसे हम प्रतिशत के रूप में कैसे लिख सकते हैं। अतः यह गलत है। रही बात बाकी दो तरिकों की तो इन दोनों में ही हमें हर के स्थान पर 100 मिल रहा है। दूसरे वाले विकल्प में 1 / 100 = % लिखा गया है।





 ( प्रतिशत = प्रति + शत  ) का संधि -  विक्षेद करने पर दो अलग -  अलग शब्द मिलते हैं जिसमें शत का शाब्दिक अर्थ सौ ( 100) होता है या प्रतिशत  गणित में किसी अनुपात या भिन्न  को व्यक्त करने का एक अलग तरीका है। प्रतिशत का अर्थ है प्रति सौ या प्रति सैकड़ा ( % = 1 / 100 ) एक सौ में से एक  ।   यदि 100 …
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus