सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भाग सही है कैसे पता करें ? ( by :Possibilityplus.in.)



यह आर्टिकल हम सबको यह बतायेगी कि भाग शत प्रतिशत सही है या नहीं क्योंकि हममे से  लगभग 50 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों को नहीं पता है भाग करने का सही तरीका। अब शायद आपके मन में यह जिज्ञासा या सवाल उठ रहा होगा कि ऐसा कैसे हो सकता है, कुछ तो बात है जो हमें जान लेनी चाहिए, तो आपको बता दिया जाये कि यह पोस्ट पुरा जरूर पढ़ लेना चाहिए चाहे आपको भाग आती हो या फिर नहीं क्योंकि जो आप पढ़ने जा रहें हैं वो बहुत ही खास जानकारी है   । अगर भाग नहीं आती है तो आपको पढ़ना बहुत ही जरूरी है क्योंकि पढ़ने के बाद आप 100% भाग करना सीख जाओगे।  



गणित एक ऐसा विषय है जिसे विज्ञान की जननी ( माता )  भी कहा जाता है । दरअसल यह कहना गलत नहीं है क्योंकि हम अपने दैनिक जीवन में जो भी गणना करते हैं वे गणित के अनुसार होती है । वैसे तो गणित में  तरह - तरह की गणनाएं होती हैं पर इसकी सबसे छोटी और मुख्य गणना जोड़, घटना , गुणा और भाग  है । यह चार प्रकार की मुख्य गणनाएं हैं जो हर गणना में अतिआवश्यकरूप से उपस्थित मिलती हैं । या यह कह सकते हैं कि इनके बिना कोई गणना संभव नहीं है ।
इस पोस्ट में हम भाग के बारे में वो जानकारी जानने जा रहे हैं जिसे लगभग 50 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों को नहीं पता है । कहने का तात्पर्य यह है कि लगभग 50 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों नहीं पता होता है भाग करने का सही तरीका । अगर आपको विश्वास नहीं है तो आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़कर देखो और अंत में यह जरूर कह देगें की यार यह जानकारी वाकई बहुत ही अच्छी और काम की है। अब हम आगे बढ़ते हैं।







 भाग शतप्रतिशत सही है, कैसे पता करें ? 



       भाग की सत्यता की जाँच करना बहुत ही आसान है।  बहुत से अध्यापक / अध्यापिका ( Teacher  )  जब भाग करते हैं तो अक्सर एक गलती करते हैं फिर चाहे जाने मे हो या अंजाने में हो पर इस गलती को छात्र और छात्राओं को भी पता नहीं चल पाता है और वह भी इसी तरह भाग करने लगते हैं तो बहुत हुआ अब ऐसा नहीं होगा। 
भाग की सत्यता जाँच करने का एक नियम / सूत्र है जो इस प्रकार है - 

भाज्य = भाजक × भागफल + शेषफल 

    इस सूत्र के अनुसार भाज्य का मान भाजक और भागफल के गुणनफल तथा शेषफल के योग के बराबर होना चाहिए। 




भाग के परिक्षण करने के निर्देश :


   भाग के परिक्षण में सबसे अधिक महत्वपूर्ण भूमिका है शेषफल/शेष की बहुत बाार यह देखने में आया है लोग आंशिक शेषफल या शेष को असली शेष मान लेते हैं और गणना करते हैं और परिणामस्वरूप परिक्षण गलत आता है। तो सवाल यह है कि सही शेषफल कैसे पता करें ? 
इसे सही तरीके से जानने के लिए हमें शेषफल /शेष को अच्छी तरह से जानने की आवश्यकता है 

 शेष / शेषफल : कीसी भाज्य / राशी के पूरे हिस्से में से घटाने के बाद जो कुछ भी बचता है वही शेष कहलाता है। जैसे : अगर 12 में से 9 घटा दिया जाये तो 3 शेष राशि होगी और अगर 12 को दो हिस्सों में बांट दिया जाये (  मान लो 9 और 3 वह हिस्से हैं  )। तब अगर अबभी हम 9  में से 9 घटाये तो 0 यहां बचेगा तो इसका मतलब यह नहीं है कि इसका शेषफल 0 हो गया, बल्कि अब भी इसका शेषफल 3 ही होगा क्योंकि हमने 12, 9 और 3 के दो हिस्सों में बांटा था ना  कि घटाया था। 
चलिए भाग के द्वारा समझें।


Right Bhag ( divition) ka example.

ऊपर दिए गए चित्र में अपूर्ण शेष और पूर्ण शेष के बारे में हमें साफ अंतर दिखाई दे रहा है। भाग का परिक्षण करते समय पूर्ण शेष का उपयोग किया जाता है। 


     चलिए अब हम आगे बढ़ते हैं हम एक छोटी सी भाग का परिक्षण करके देखते हैं। 

माना 3 से 7 में भाग करना है, भाग करने पर भागफल 2.33333..  लगभग आता  है परन्तु इसका शेषफल  क्या होगा यही जानना ही जरूरी है। निचे दिए गए चित्र में दी हुई भाग देखिए -  


Galat divide karne ke karan shesfal bhi galat hota hai.

चित्र में दी गई भाग सही है कि नहीं यह पता करने के लिए हमें इन मानों निम्न सूत्र में रखने पर - 
 भाज्य = भाजक × भागफल + शेषफल


भाज्य ( 7 )  = भाजक ( 3 )  × भागफल ( 2.3 )  + शेषफल  ( 1  ) 
भाज्य ( 7 )  = 3 × 2.3 + 1  = 6.9 + 1
भाज्य ( 7 ) = 7.9 
चुँकि दाहिना पक्ष 7 से अधिक है अतः भाग गलत है भागफल सही होन के बाद भी। 


अब दुसरा चित्र देखिए - 


Sahi Bhag kaise kare or how right divide ?


यह भाग भी वही भाग है और यह भाग बिल्कुल सही है कैसे देखिए -  
 भाज्य ( 7 )  = भाजक ( 3 )  × भागफल ( 2.3 )  + शेषफल  ( 0.1  ) 
भाज्य ( 7 )  = 6.9 + 0.1 = 7.0


चुँकि दोनों पक्षों का मान बराबर अतः भाग बिलकुल सही है। इसी तरह से हम सभी भागों का परिक्षण कर सकते हैं। तो परिक्षण करें और कोई सवाल हो तो बेहिचक कमेंट करें। 



उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी लगा होगा। अपने कमेन्ट में जरूर बताएँ। धन्यवाद ! 
"By:Possibilityplus.in"

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

आपको यह पोस्ट कैसा लगा कमेंट करके बताएँ। धन्यवाद !

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

दिशा कैसे पता करते हैं ? 


दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






   दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



   दिशा ( Direction  ) 


एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




भिन्न का गुणा , भाग , जोड़ और घटना हल करना

भिन्न (Fraction ) 


ऊपर चित्र में एक वृत्त को चार बराबर भागों में बाँटा गया है । अगर हम कहें कि इसमें से एक भाग किसी को दे दिया जाये तो कितना भाग बचेगा तो इसका जवाब है 3 / 4 भाग जिसे शाब्दिक या बोलन वाली भाषा में तीन चौथाई  भाग कहेगें । इसी प्रकार 1 / 3 को एक तिहाई कहेंगे।  चलिए अब जानते हैं इनको जोड़ने, घटाने, गुणा और भाग  करने के तरीका के बारे में । 




  भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग करने  का तरिका. 

भिन्नों का जोड़ , घटाना , गुणा और भाग; पोस्ट में आपको सब सीखने को मिलेगा। अगर आपके पास कोई सवाल है भिन्नों को हल करने या किसी भी तरह की भिन्न हो तो हमें निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज दें ।

भिन्न क्या है ? What is the Fraction ? 




 भिन्न एक आंशिक भाग होती है जो दो भागों से बनती है -
अंश हर
 जैसे -     1 / 3 , जिसमें 1 अंश और 3 हर है । a / b में " a  " अंश और " b  " हर है।

आज के दौर में बहुत - से लोग ऐसे हैं जो पढ़ - लिखकर भी भिन्न हल करना नहीं जानते हैं । इस कमी का आभास उन्हें तब होता है जब वो कोई काम करने लगते हैं और काम या कार्य में उनको कोई सटीक ( ठीक - …

प्रतिशत कैसे निकालते हैं ?

प्रतिशत ( Percent )  प्रतिशत को पूरी तरह समझने के लिए प्रतिशत का मतलब / शाब्दिक या शब्द का अर्थ जानना बहुत जरूरी है । प्रतिशत में कुछ ऐसी बातें जिन्हें हमें जानना जरूरी होता जैसे -   इनमें से कौन - कौन सही हैं  -

  2 / 5 = ( 2 / 5 )  × 100 = 40 %    2 / 5 = ( 2 / 5 ) × 100 % = 40 %  2 / 5 = 40 / 100 = 40 %


    इन तीनों में पहला गलत है और बाकी दोनों सही हैं। क्योंकि पहली वाले हल में हमें यह स्पष्ट दिख रहा है कि अगर हम 100 में भाग करें तो 2 × 20 = 40 तो मिलेगा पर हर के स्थान पर हमें 100 मिल ही नहीं रहा है तो इसे हम प्रतिशत के रूप में कैसे लिख सकते हैं। अतः यह गलत है। रही बात बाकी दो तरिकों की तो इन दोनों में ही हमें हर के स्थान पर 100 मिल रहा है। दूसरे वाले विकल्प में 1 / 100 = % लिखा गया है।





 ( प्रतिशत = प्रति + शत  ) का संधि -  विक्षेद करने पर दो अलग -  अलग शब्द मिलते हैं जिसमें शत का शाब्दिक अर्थ सौ ( 100) होता है या प्रतिशत  गणित में किसी अनुपात या भिन्न  को व्यक्त करने का एक अलग तरीका है। प्रतिशत का अर्थ है प्रति सौ या प्रति सैकड़ा ( % = 1 / 100 ) एक सौ में से एक  ।   यदि 100 …
Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
© 2017-2020. Possibilityplus