सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

24 घंटे नहीं होते हैं एक दिन में, बात पक्की है..


24 ghante nahi hote hain ek din me.
     अगर हम किसी भी व्यक्ति से यह पूछें कि एक दिन में कुल कितने घण्टे होते हैं तो 90% संभावना (possibity) है कि वह व्यक्ति हमें यही जवाब देगा कि  " एक दिन में कुल 24 घंटे होते हैं "




और उसे जवाब देने में महज एक सेकेंड या इससे भी कम समय लगेगा। परन्तु वास्तविकता यह है कि एक दिन में कुल 24 घंटे नहीं होते हैं तो फिर कितना होता है और क्यूँ ? यह जानना बहुत जरूरी है।

24 घण्टे से थोड़ा कम होता है एक दिन का समय.

   एक दिन में 24 घण्टे नहीं होते हैं बल्कि 23 घण्टे 56 मिनट और 4.100 सेकेंड होता है। अब हमारे मन में यह सवाल उठ सकता है कि ऐसा क्यों है ?











  •  दिशा पता करने का बेस्ट तरिका 
  •  सूर्य सुबह और शाम को लाल क्यूँ होता है ? 
  • Bodmas नियम फेल कैसे और क्यों ?



  • और अगर ऐसा है भी तो हमें लोग क्यों नहीं बताते हैं।
    दरअसल 24 घण्टे में केवल 3.931667 मिनट कम होते हैं जो कि लगभग बहुत कम है और इसलिए साधारण बोलचाल में हम 24 घण्टे ही कहते हैं। अब एक सवाल यह भी है कि आखिरकार 24 घण्टे क्यों नहीं होते हैं एक दिन में तो इसका जवाब है, पृथ्वी की गति।



    क्या कारण है कि 24 घण्टे नहीं होते हैं एक दिन में ?

       हम जाानते हैं कि पृथ्वी सूर्य का परिक्रमा / चक्कर लगाती है और इसके साथ ही साथ वह अपने अक्ष पर भी घूमती / परिक्रमा करती है और इसी वजह से रात और दिन का निर्माण होता है। पृथ्वी को अपने अक्ष पर घूमते हुए एक चक्कर लगाने में लगभग 23 घण्टे 56 मिनट और 4.100 सेकेंड लगता है। यही कारण है कि 24 घण्टे नहीं होते हैं ।

    क्या पृथ्वी की घूर्णन गति हमेशा एकसमान रहती है ?

        पृथ्वी की घूर्णन गति हो या परिक्रमण गति ये दोनों परिवर्तनशील हैं ये हमेशा बदलती रहती हैं पर फर्क इतना मामूली होता है कि हम साधारणतया यह कह सकते हैं कि कोई अन्तर नहीं होता है। पर यही मामूली अंतर कुछ दशकों या सैकड़ों वर्षों में स्पष्ट दिखाई देने लगता है। अभी वर्तमान समय ( 01. 01.2020 ) में 24 घण्टे में केवल 3.931667 मिनट का अंतर है परंतु कुछ दशकों बाद यही अंतर घटकर और भी कम हो जायेगा। क्योंकि धीरे-धीरे पृथ्वी की गति कम होती जायेगी। अब यहाँ पर एक और सवाल खड़ा हो उठता है कि पृथ्वी की गति क्यों कम होगी ?


    पृथ्वी की गति वर्षदर - वर्ष कम होगी..





       पृथ्वी की गति सूर्य के अभिकेन्द्रीय बल या पृथ्वी की सूर्य से दूरी के आधार पर तय होती है। पृथ्वी ही नहीं बल्कि कोई भी ग्रह सूर्य के जितना पास होता है उसकी परिक्रमण गति उतनी ही अधिक होती है और इसके विपरीत जो ग्रह सूर्य से जितनी अधिक दूरी पर होगा उसकी परिक्रमा करने की गति उतनी ही कम होगी । यह बात वैज्ञानिक कैपलर के द्वितीय नियम के अनुसार है। इसके अनुसार ग्रह का परिक्रमणकाल  सूर्य से दूरी के अनुक्रमानूपाती होता।
       उदाहरण के रूप में बुध ग्रह सूर्य के सबसे नजदीक है जिसका परिक्रमणकाल 88 दिन का है जबकि सूर्य से सबसे दूरी पर प्लूटो था जिसका परिक्रमणकाल 248 वर्ष था पर अब यह ग्रह सूर्य की पकड़ से बाहर निकल चुका है । स्पष्ट है कि जैसे - जैसे पृथ्वी सूर्य से दूर जायेगी पृथ्वी का परिक्रमणकाल बढ़ता जायेगा। इस तरह 24 घण्टे पूरे हो जाएंगे और उसके बाद धीरे-धीरे 24 घण्टे से भी बढ़ता चला जायेगा।
      डाॅप्लर प्रभाव के अनुसार " विश्व का विस्तार हो रहा है क्योंकि सभी गैलेक्सियाँँ एक दूसरे से दूर जा रही हैं।



    इस पोस्ट के बारे में अपनी किमती राय जरुर दें।
    ऐसी ही जानकारियाँ पाने के लिए अभी साईट को फालो करें।

    टिप्पणियाँ

    इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

    दिशा पता करने का बेस्ट तरीका..

    दिशा कैसे पता करते हैं ? 


    दुनियाँ के किसी भी कोने में जाओ आप हर जगह पर दिशा पता कर सकते हैं।  हमने यह आर्टिकल उपयोग करने के लिए बनाया है ऊम्मीद है आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढिएगा क्योंकि हमने इसमें लगभग सभी संभव तरिके बताएँ हैं जो आपको हर परिस्थितियों में दिशा पता करने के लिए काफी हो सकता है।






       दिशा का पता करने से पहले हम दिशा के बारे कुछ अहम / आवश्यक जानकारी देने जा रहें हैं ताकि दिशा पता करना और आसान हो जाये | इसमे सबसे पहले जानतें हैं दिशा क्या है और इसका महत्व क्या है |



       दिशा ( Direction  ) 


    एक ऐसा मैप या साधन जो हमें उत्तर - दक्षिण , पूरब - पश्चिम , उपर - निचे और आगे - पीछे  इन सभी को प्रदर्शित करे दिशा कहलाता है | दिशा मुख्यतः चार प्रकार की हैं ( अगर उपर - निचे को छोड़दे तो ) लेकिन इनको अलग - अलग भागो  मैं बाँटे तो ये दश प्रकार की हो जाती  है | अगर हमें इन चारों के बीच की दिशाओं को बताना है तो चित्रानुसार बतायेंगे।




    जैसे हमें पश्चिम और उत्तर केे बीच की दिशा को बताना है तो हम उत्तर-पश्चिम कहेेंगे। इसी तरह से बाकि सभी दिशाओं के बारे में हम कहेेंगे।




    मैट्रिक और इण्टरमीडिएट किस कक्षा को कहा जाता है ?

    ज हम जानेंगे कुछ ऐसी जानकारी जो बहुत से छात्र - छात्राएँ पढ़ - लिखकर  भी नहीं जान पाते हैं . इसका सीधा कारण है ध्यान से पढा़ई न करना . लेकिन इन्टरनेट ऐसा साधन है जहाँ पर आपको हर जानकारी मिलती है चाहे कैसी भी जानकारी हो वो भी बिल्कुल आसानी और सुलभ तरिके से , इन बातो को यहीं पर विराम देते हुए हम मूल बात पे आते हैं। विज्ञान से संबंधित प्रश्नों को जानने के लिए पढ़ते रहिये। 

    इसे भी पढ़ें >>
    4 - 4  / 2 =  क्या होगा ?    cos0° = 1 क्यों होता है ? 

            मैट्रीक किसे या किस कक्षा को कहते हैं ?ईन्टर कौन - सी कक्षा को कहते हैं ? 


      मैट्रिक किस कक्षा को कहते हैं ? 
           मैट्रिक का नाम सुन बहुत से लोग यह सोचते हैं कि ये कौन - सी कक्षा है।  आपको बता दें कि मैट्रिक कोई और कक्षा नही है बल्कि  कक्षा - 10 या दसवीं पास को कहते हैं  जिसे हाई स्कूल भी कहा जाता है।  
    इसे अंग्रेजी में 10 th ( टेंथ )  भी कहते हैं। मैट्रिक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब हाईस्कूल पास /दसवीं पास होता है। इससे यह पता चलता है कि मैट्रिक कोई कक्षा नहीं बल्कि कक्षा 10 या दसवीं उत्तीर्ण को सम्बोधन करने वाला शब्द है। 

    अगर हाई स्कू…

    पृथ्वी गोल क्यों है ?

    पृथ्वी गोल क्यूँ होती है ? 
     पृथ्वी गोल है , चौकोर क्यों नही या फिर किसी अन्य रूप मे क्यों नही है, पृथ्वी ही नहीं बल्कि सभी ग्रहों की आकृति लगभग गोल है। याद रखिए कोई भी वस्तु या चीज बिना वजह के गोल , लम्बी , चौंडी , या लाल - पीली नही होती है । यानी कहने का मतलब यह है कि हर वस्तु के रंग और आकार - प्रकार के होने का कोई न कोई कारण जरूर होता है । इसी तरह तरल पदार्थ ( जैसे - जल की बूँदे भी गोल होती हैं ) इसका भी कारण लगभग वही है जो कि पृथ्वी के गोल होने का है ।





    चलो हम पहले जान लें कि जल की बूँदें क्यों या कैसे गोलाकार रूप धारण करती हैं क्योंकि इस कारण में ही इसका जवाब है । जैसे ही जल या कोई तरल पदार्थ जब निचे या ऊपर की तरफ फेंका जाता है तो जल के सबसे ऊपरी हिस्से में गती पहले आती है जिसके कारण वो हिस्सा या भाग पहले बाहर आता है और जैसे ही बाहर आता ( जल का वह भाग जो पहले गती में आता है ) है तो वातावरण के दबाव के कारण ( वो जल का हिस्सा )  जल कई छोटी - छोटी बूदोँ का रूप धारण कर लेता है दरअसल पानी की बूदों पर वातावरण का समान दबाव लगता है जिसके कारण ये गोलाकार रूप धारण करता है और एक कारण यह भी है…
    Disclaimer | Privacy Policy | About | Contact | Sitemap | Back To Top ↑
    © 2017-2020. Possibilityplus